Submit your post

Follow Us

विराट कोहली को पसंद नहीं आएगी युवराज सिंह की ये बात

युवराज सिंह. टीम इंडिया के पूर्व ऑलराउंडर. युवी ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप पर कुछ ऐसा बोल दिया है जो विराट कोहली और रवि शास्त्री को शायद ही पसंद आए. विराट तो खासतौर से इस बात से नाखुश होंगे. दरअसल युवी का मानना है कि WTC का फाइनल तीन मैचों का होना चाहिए था. अब आप सोच रहे होंगे कि कोहली-शास्त्री की जोड़ी भी तो यही चाह रही थी. तो इसमें बुरा मानने जैसा क्या है? दरअसल इसके साथ ही युवी ने यह भी कहा कि अभी के शेड्यूल को देखें तो विराट कोहली की टीम न्यूज़ीलैंड से पिछड़ी दिखती है.

और बस, यही बात तो कोहली को पसंद नहीं आने वाली. इसी गुरुवार को इंग्लैंड पहुंची टीम इंडिया के साथ देश छोड़ने से पहले ही कोहली ने साफ कहा था कि दोनों टीमें बराबर हैं. जिन्हें ऐसा नहीं लगता उन्हें टीम से नाम वापस ले लेना चाहिए. बता दें कि 18 जून से शुरू हो रहे WTC फाइनल से पहले टीम इंडिया को कोई टेस्ट नहीं खेलना. वहीं न्यूज़ीलैंड की टीम इंग्लैंड के साथ एक टेस्ट खेल चुकी है. और फाइनल से पहले वह मेजबानों के साथ एक टेस्ट और खेलेंगे.

इन्हीं सब बातों को लेकर स्पोर्ट्स तक से बात करते हुए युवी ने कहा,

‘मुझे लगता है कि ऐसे हालात में, बेस्ट ऑफ थ्री टेस्ट मैच होने चाहिए, क्योंकि अगर आप पहला हार जाते हैं तो आप अगले दो में वापसी कर सकते हैं. भारत थोड़ा सा पिछड़ा रहेगा क्योंकि न्यूज़ीलैंड पहले से ही इंग्लैंड में टेस्ट क्रिकेट खेल रहा है. भारत के पास 8-10 प्रैक्टिस सेशन हैं लेकिन मैच-प्रैक्टिस का तो कोई विकल्प ही नहीं है. यह मुकाबला तो बराबरी का होगा लेकिन न्यूज़ीलैंड के पास थोड़ी सी बढ़त होगी.’

युवी ने इस बातचीत में यह भी कहा कि भारत की बैटिंग निश्चित तौर पर न्यूज़ीलैंड से मजबूत है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि रोहित शर्मा और शुभमन गिल को जल्दी से जल्दी ड्यूक गेंदों के साथ तालमेल बिठाना होगा. युवी ने कहा,

‘मुझे यकीन है कि भारत बहुत मजबूत है क्योंकि हाल में हम देश के बाहर भी जीते हैं. मैं सोचता हूं कि हमारी बैटिंग मजबूत है. बोलिंग में वे बराबरी पर हैं. रोहित शर्मा अब टेस्ट मैचों में भी काफी अनुभवी हैं. उनके नाम लगभग सात शतक हैं जिनमें से चार ओपनिंग करते हुए आए. लेकिन रोहित और शुभमन दोनों ने इंग्लैंड में कभी भी ओपनिंग नहीं की है.

उन्हें यह चैलेंज पता है, ड्यूक की गेंदें जल्दी स्विंग करती हैं. उन्हें हालात से जल्द से जल्द तालमेल बिठाना होगा. इंग्लैंड में एक बार में एक ही सेशन पर ध्यान देना जरूरी है. सुबह में गेंद स्विंग और सीम होती है, दोपहर में आप रन बना सकते हैं, चायकाल के बाद यह फिर से स्विंग होगी. एक बल्लेबाज के रूप में अगर आप इन चीजों से तालमेल बिठा लेते हैं, आप सफल हो सकते हैं.’

उम्मीद है कि युवी की इन बातों से सीख लेकर शुभमन गिल इंग्लैंड में कमाल का प्रदर्शन करेंगे. ऑस्ट्रेलिया में अपने डेब्यू टूर में उन्होंने कुछ अच्छी पारियां खेली थीं. लेकिन इसके बाद हुई घरेलू सीरीज में इंग्लैंड के खिलाफ वह बुरी तरह से फेल रहे थे.


कोहली ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के लिए जाने से पहले क्या कहा जो सबको चुप कर देगा?Indi

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सुवेंदु अधिकारी और उनके भाई के खिलाफ राहत सामग्री चोरी करने के आरोप में FIR

वेस्ट बंगाल पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है.

अलीगढ़ शराबकांड का मुख्य आरोपी और एक लाख का इनामी ऋषि शर्मा गिरफ्तार

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जहरीली शराब से अब तक 108 लोगों की मौत हो चुकी है.

ट्विटर ने उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू के अकाउंट से ब्लू टिक हटाया, कुछ ही घंटे में रिस्टोर किया

पर्सनल अकाउंट से हटा था ब्लू टिक, ट्विटर ने वजह बताई.

यूपीः भाजपा नेताओं ने हिस्ट्रीशीटर को पुलिस की गिरफ्त से छुड़ाकर भगा दिया, पुलिस अब तक तलाश रही है

कानपुर की घटना, पुलिस ने शुरुआती FIR में बीजेपी नेताओं का नाम ही नहीं लिखा.

राजस्थान में क्या सचमुच कोरोना वैक्सीन की जमकर बर्बादी हो रही है?

अशोक गहलोत सरकार का इनकार, लेकिन आंकड़े कुछ और ही बता रहे.

रिटायर्ड जस्टिस अरुण मिश्रा को मोदी सरकार ने NHRC चेयरमैन बनाया तो बवाल क्यों हो रहा है?

लोग जस्टिस अरुण मिश्रा को इस पद के लिए चुने जाने का बस एक ही कारण गिना रहे हैं.

क्या कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों को लेकर मोदी सरकार झूठ बोल रही है?

अलग-अलग आंकड़े क्या कहानी बताते हैं?

लक्षद्वीप में दारू और बीफ़ वाले नियमों पर बवाल बढ़ा तो अमित शाह ने क्या कहा?

लक्षद्वीप के सांसद मोहम्मद फैज़ल ख़ुद मिलने गए थे अमित शाह से

पत्रकार से IAS बने अलपन बंदोपाध्याय, जो ममता और मोदी सरकार में रस्साकशी की नई वजह बन गए हैं

ममता बनर्जी ने केंद्र के आदेश की क्या काट ढूंढ निकाली है?

वैक्सीनेशन पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को घेरा, पूछा- वैक्सीन का एक रेट क्यों नहीं?

वैक्सीन की कमी, राज्यों के टेंडर जैसे मुद्दों पर भी सरकार से तीखे सवाल किए.