Submit your post

Follow Us

मुस्लिमों के ट्रिपल 'तलाक़' के खिलाफ उतरेगा RSS का मुस्लिम विंग

मुस्लिम पर्सनल लॉ (शरीयत), एप्लीकेशन एक्ट 1937 के हिसाब से इस्लाम में आदमियों को हक है. अगर वो चाहें तो तीन बार ‘तलाक़’ कहकर अपनी शादी वहीं ख़त्म कर सकते हैं. अपनी बीवी को छोड़ सकते हैं.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के राष्ट्रीय मुस्लिम मंच(MRM) की महिला विंग ने इस इस्लामी तरीके के खिलाफ कैंपेन शुरू किया है. उनका कहना है कि काफी समय से वो लोग बदलाव की कोशिश कर रहे हैं. देश में हर धर्म के लिए एक जैसे नियम कानून होने चाहिए. हर शादी और तलाक़ का रिकॉर्ड होना चाहिए. जैसे बच्चों का पैदा होना और किसी का मरना रजिस्टर करवाना ज़रूरी होता है. उसी तरह तलाक़ भी रजिस्टर होने चाहिए.

हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत में MRM की महिला विंग की हेड, शहनाज़ अफज़ल ने कहा,

तलाक़ देने का हक सिर्फ आदमियों को मिला हुआ है. इस वजह से कई छोटी-छोटी लड़कियों की जिदगियां बर्बाद हुई हैं. औरतें हर वक़्त इस डर में रहती हैं की कब उनके पति तीन बार ‘तलाक़’ कह कर उनको छोड़ देंगे. सिर्फ तीन बार एक शब्द कह देने से कोई रिश्ता कैसे ख़त्म हो सकता है. इस्लाम में कहीं भी इस तरह से तलाक़ देने की इजाज़त नही है. शरीयत का ये कानून औरतों के खिलाफ है. इसलिए हम इसमें बदलाव चाहते हैं. जिस तरह से शादी के समय दो वकील मौजूद रहते हैं उसी तरह तलाक़ के वक़्त भी वकील होने चाहिए. और तलाक़ लेने का फैसला आदमी और औरत दोनों का होना चाहिए.

दिसम्बर 2015 में अजमेर में एक कन्वेंशन के दौरान महिला विंग ने ये फैसला लिया था. उनका इरादा था कि जल्द से जल्द इस पर काम शुरू हो. अब इस पर एक ठोस कैंपेन शुरू हो गया है. जून में होने वाली संघ की मीटिंग के दौरान इस मामले में आगे फैसला लिया जाएगा.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'निसर्ग' चक्रवात क्या है और ये कितना ख़तरनाक है?

'निसर्ग' नाम का मतलब भी बता रहे हैं.

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.