Submit your post

Follow Us

मुस्लिमों के ट्रिपल 'तलाक़' के खिलाफ उतरेगा RSS का मुस्लिम विंग

622
शेयर्स

मुस्लिम पर्सनल लॉ (शरीयत), एप्लीकेशन एक्ट 1937 के हिसाब से इस्लाम में आदमियों को हक है. अगर वो चाहें तो तीन बार ‘तलाक़’ कहकर अपनी शादी वहीं ख़त्म कर सकते हैं. अपनी बीवी को छोड़ सकते हैं.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के राष्ट्रीय मुस्लिम मंच(MRM) की महिला विंग ने इस इस्लामी तरीके के खिलाफ कैंपेन शुरू किया है. उनका कहना है कि काफी समय से वो लोग बदलाव की कोशिश कर रहे हैं. देश में हर धर्म के लिए एक जैसे नियम कानून होने चाहिए. हर शादी और तलाक़ का रिकॉर्ड होना चाहिए. जैसे बच्चों का पैदा होना और किसी का मरना रजिस्टर करवाना ज़रूरी होता है. उसी तरह तलाक़ भी रजिस्टर होने चाहिए.

हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत में MRM की महिला विंग की हेड, शहनाज़ अफज़ल ने कहा,

तलाक़ देने का हक सिर्फ आदमियों को मिला हुआ है. इस वजह से कई छोटी-छोटी लड़कियों की जिदगियां बर्बाद हुई हैं. औरतें हर वक़्त इस डर में रहती हैं की कब उनके पति तीन बार ‘तलाक़’ कह कर उनको छोड़ देंगे. सिर्फ तीन बार एक शब्द कह देने से कोई रिश्ता कैसे ख़त्म हो सकता है. इस्लाम में कहीं भी इस तरह से तलाक़ देने की इजाज़त नही है. शरीयत का ये कानून औरतों के खिलाफ है. इसलिए हम इसमें बदलाव चाहते हैं. जिस तरह से शादी के समय दो वकील मौजूद रहते हैं उसी तरह तलाक़ के वक़्त भी वकील होने चाहिए. और तलाक़ लेने का फैसला आदमी और औरत दोनों का होना चाहिए.

दिसम्बर 2015 में अजमेर में एक कन्वेंशन के दौरान महिला विंग ने ये फैसला लिया था. उनका इरादा था कि जल्द से जल्द इस पर काम शुरू हो. अब इस पर एक ठोस कैंपेन शुरू हो गया है. जून में होने वाली संघ की मीटिंग के दौरान इस मामले में आगे फैसला लिया जाएगा.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अयोध्या : मुस्लिम पक्ष ने कहा, 'केवल हमसे ही सारे सवाल क्यों पूछे जा रहे?'

इस पर हिन्दू पक्ष ने कोर्ट में क्या कह दिया?

राफेल बनाने वालों ने राजनाथ सिंह से ऐसी बात कह दी कि निर्मला सीतारमण का दिल बैठ जाए

टैक्स को लेकर क्या कह दिया?

हिंदू राष्ट्र की बात करते-करते पाकिस्तान की बात क्यों करने लगे संघ प्रमुख भागवत?

मोहन भागवत ने और भी बहुत कुछ कहा है, जो संघ के पुराने विचारों से मेल नहीं खाता.

'राम-राम' नहीं कहा तो अलवर में पति को पीटा, पत्नी के कपड़े उतारने की कोशिश की

पति-पत्नी मुसलमान थे.

भिखारिन के अकाउंट से इतने पैसे मिले कि बैंक भी सकते में है

यहां लाखों नहीं, करोड़ों की बात हो रही है.

क्या है गौतम नवलखा केस, जिसे सुनने से अबतक CJI समेत सुप्रीम कोर्ट के 5 जज इनकार कर चुके हैं

किसी भी जज ने कोई कारण नहीं बताया है, पूर्व जज ने कहा था, कारण बताने से पारदर्शिता बढ़ती है.

टीवी पर शुरू हो रहा है 'दी लल्लनटॉप क्विज' सौरभ द्विवेदी के साथ, पूरी जानकारी पाइए

टीवी के इतिहास का सबसे मस्त क्विज, शनिवार 5 अक्टूबर से.

चिन्मयानंद को बचाने के लिए वकील ने कोर्ट में गजब का तर्क दिया है

और ऐसी बात जिसका केस से कोई संबंध नहीं.

योगी का नया ऐप ये काम कर देगा, किसी ने सोचा भी नहीं था

ये क्या बवाल मोल ले लिया योगी जी ने.

चिन्मयानंद और कुलदीप सेंगर के फोन में ऐसा क्या ख़ास है कि पुलिस उलझ गयी है

माथापच्ची हो रही, लेकिन उनका फोन नहीं खुल पा रहा.