Submit your post

Follow Us

UPSC क्लियर करने वाली इस दृष्टिहीन लड़की की कहानी सुनेंगे तो पढ़ाई से बचने के बहाने भूल जाएंगे

UPSC ने सिविल सेवा परीक्षा, 2019 के नतीजे 4 अगस्त को जारी किए. 829 कैंडिडेट सफल हुए. इनमें से कई कैंडिडेट्स के संघर्ष की कहानियां सामने आ रही हैं. ऐसी ही एक कहानी पूर्णा सुंदरी की है. वह तमिलनाडु से हैं. पूर्णा ने हजारों युवाओं को सिखाया है कि जोश, इच्छाशक्ति और मेहनत से अपने लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है.

25 साल की पूर्णा सुंदरी दिव्यांग हैं. वो देख नहीं सकती हैं. उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा में 286वीं रैंक हासिल की है. उन्हें अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा. तैयारी के लिए उनकी कई किताबें ऑडियो फॉर्म में नहीं थीं. लेकिन उन्होंने अपने परिवार की मदद से अपने लक्ष्य को हासिल किया.

पूर्णा सुंदरी ने बताया,

पांच साल की उम्र तक मैं एक सामान्य बच्चे की तरह थी. लेकिन उसके बाद मेरी नजर कमजोर होती गईं. स्कूल की पढ़ाई शुरू करने के बाद मुझे पता चला कि रेटिना से संबंधित दुर्लभ बीमारी है. मदुरई में डॉक्टरों ने माता-पिता को बताया कि हम बाईं आंख को बचाने की कोशिश कर रहे हैं. दाई आंख पूरी तरह खराब हो चुकी है. लेकिन आंखों की सर्जरी सफल नहीं रही और मैंने दोनों आंखें खो दीं.

उन्होंने आगे कहा,

मां ने हिम्मत नहीं हारी और हमेशा पढ़ाई में मदद की. सिविल सेवा परीक्षा में मुझे चौथे प्रयास में सफलता मिली. 2016 से ही मैं तैयारी कर रही हूं. एग्जाम दे रही हूं. ऑल इंडिया लेवल पर मुझे 286वीं रैंक मिली है. लेकिन ये मेरे सपने की सिर्फ शुरुआत है.

स्कूल की टॉपर

पूर्णा सुंदरी के पिता प्राइवेट फर्म में काम करते हैं. उन्होंने बताया कि पढ़ाई में वह हमेशा से अच्छी रही. उसने 10वीं में स्कूल टॉप किया था. 12वीं में उसके बहुत अच्छे नंबर रहे. फातिमा कॉलेज में उसने बीए इंग्लिश लिटरेचर में किया. पूर्णा ने 11वीं क्लास में ही सिविल सर्विस में जाने की इच्छा जता दी थी. 12वीं के बाद पूर्णा मदुरई से चेन्नई चली आईं. यहां उनके प्रोफेसर्स ने पढ़ाई में उनकी मदद की.

पूर्णा ने बताया कि वह चेन्नई के मणिधा नियम संस्थान गई. यह संस्था फ्री IAS कोचिंग प्रदान करती है. यहां ऐसा मंच मिला कि उन्हें खुद को स्थापित करने में मदद मिली. वो और उनके दोस्त सरकारी संस्थान भी गए. उन्होंने बताया कि माता-पिता और मेरे दोस्त सपोर्टिव रहे, उनके कारण ही वो सफल हो सकीं.

पूर्णा उत्साहित हैं. ऊर्जा से भरी हुई हैं. उनका कहना है कि परीक्षा पास करना पहला कदम है. वह स्वास्थ्य, शिक्षा और महिला सशक्तिकरण पर काम करना चाहती हैं.


दिल्ली पुलिस के इस सिपाही ने UPSC क्रैक किया तो लोग ‘पाताल लोक’ के इमरान से तुलना करने लगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

दिशा सालियान की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ने खुलासा किया कि मौत की असली वजह क्या थी

मुंबई में एक बिल्डिंग के 14वें माले से गिरकर दिशा की जान गई थी.

दिशा सालियान केस में मुंबई पुलिस अब लोगों से क्या मदद मांग रही है?

बीजेपी सांसद नारायण राणे ने गंभीर आरोप लगाए थे.

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के UPSC निकालने वाले कैंडिडेट्स ने बताया एग्ज़ाम की तैयारी कैसे की

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के 16 कैंडिडेट ने परीक्षा पास की है.

अयोध्या : भूमिपूजन में नरेंद्र मोदी और सारे गेस्ट्स की इन तस्वीरों को देखिए!

राम मंदिर का भूमिपूजन.

UPSC रैंकर जिसकी तुलना 'पाताल लोक' के इमरान अंसारी से हो रही है

दिल्ली पुलिस परिवार से पांच लोगों ने इस बार UPSC एग्ज़ाम क्रैक किया है.

इमरान खान ने तमाम छेड़छाड़ करके पाकिस्तान का एक नया नक्शा पेश किया है

उनकी कैबिनेट ने वो नक्शा पास कर दिया है.

मुंबई पुलिस कमिश्नर ने अधिकारियों से कहा, सुशांत की मौत से जुड़ी जानकारी किसी से भी शेयर नहीं करना!

उस मीटिंग में और क्या कहा मुंबई के पुलिस कमिशनर ने?

फ़रवरी में ही परिवार ने मुंबई पुलिस से सुशांत को बचाने की अपील की थी, पुलिस ने कहा, 'नहीं मिली कम्प्लेन'

सुशांत के जीजा ने DCP को लिखे अपने मैसेज में और क्या बताया?

बिहार पुलिस के एसपी विनय तिवारी मुंबई पहुंचे, प्रशासन ने ज़बरन होम क्वारंटीन कर दिया!

इस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने क्या कहा है?

आ गया, आ गया, आ गया … IPL 2020 का पूरा नियम-कानून आ गया

हज़रात हज़रात हज़रात