Submit your post

Follow Us

उत्तराखंड: चीन सीमा के पास सेना के लिए जरूरी पुल भरभराकर टूटा, सामने आया वीडियो

उत्तराखंड में भारत-चीन सीमा के पास एक बैली ब्रिज (पुल) 22 जून को टूट गया. यह पुल सामरिक रूप से काफी उपयोगी और अहम था. पुल ढहने की घटना पिथौरागढ़ जिले में हुई. एक ट्रक जब सड़क निर्माण से जुड़ी एक भारी भरकम मशीन को ले जा रहा था, उसी समय यह हादसा हुआ. ऐसे में ट्रक और मशीन, दोनों नीचे गिर गए. इसमें दो लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं. स्थानीय लोगों ने पुल टूटने के बारे में प्रशासन को बताया. पुल टूटने का वीडियो भी सामने आया है.

कहां और कैसे हुआ हादसा

जानकारी के अनुसार, चीन सीमा को जोड़ने वाली मिलम रोड का काम चल रहा है. इसके लिए सड़क के काम से जुड़ी भारी-भरकम मशीनों को भेजा जा रहा है. इसी के तहत 22 जून को भी एक मशीन ट्रक में लादकर ले जाई जा रही थी. धापा के पास सेनर नाले पर ट्रक जब पुल पार कर रहा था, तभी पुल ढह गया. ट्रक और मशीन, दोनों नीचे नाले में गिर गए. हादसा सुबह 10 बजे के करीब हुआ. दो घायलों को मुनस्यारी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है.

पत्रकार पूनम पांडे ने पुल ढहने के हादसे का वीडियो ट्वीट किया है-

सीमा के पास भारत ने तेज कर रखा है काम

बता दें कि भारत ने हाल के दिनों में सीमावर्ती इलाकों में सड़क, पुल बनाने के काम तेज किया है. लद्दाख में भी चीन से लगती सीमा के पास सड़क बनाई जा रही है. इसी को लेकर चीन से उसका टकराव चल रहा है. वहीं पिछले महीने उत्तराखंड में ही लिपुलेख में उसने सड़क बनाने का काम पूरा किया था. इस पर नेपाल ने एतराज जताया है. साथ ही नेपाल ने इस इलाके पर अपना दावा किया है.

बैली ब्रिज का एक उदाहरण.
बैली ब्रिज का एक उदाहरण.

क्या होता है ‘बैली ब्रिज’

‘बैली ब्रिज’ लोहे के बने होते हैं. इनमें पुल का जो ढांचा होता है, वह पहले से तैयार होता है. जहां पुल बनाना होता है, वहां पर इसे लगा दिया जाता है. अक्सर इसका निचला हिस्सा लकड़ी का होता है, जिसे लोहे के गार्डर सहारा देते हैं. हालांकि अब कई जगहों पर सड़क भी बैली ब्रिज पर बनने लगी है.

ब्रिटेन के एक शख्स डॉनल्ड बैली ने इस तरह के पुल का डिजाइन तैयार किया था. उनके नाम पर ही इस तरह के पुल को ‘बैली ब्रिज’ कहा जाने लगा. वे पेशे से सिविल सर्वेंट थे, मगर उन्हें पुलों के अलग-अलग डिजाइन तैयार करने का शौक था.

बैली ब्रिज बनाने की शुरुआत अंग्रेजों ने ही की. दूसरे विश्व युद्ध के समय उन्होंने सेना के इस्तेमाल के लिए इस तरह के पुल बनाए. इन्हें बनाना आसान होता है. साथ ही यह तेजी से बन भी जाते हैं. इन्हें बनाने के लिए बड़ी मशीनरी और क्रेन की भी जरूरत नहीं पड़ती है. बैली ब्रिज के ढांचे को ट्रकों के जरिए एक जगह से दूसरी जगह भी ले जा सकते हैं. इस तरह के पुल ज्यादातर सैन्य उपयोग के लिए ही बनाए जाते हैं.


Video: गलवान घाटी पर भारतीय सेना ने 72 घंंटे में वो काम किया, जिस पर चीन मुंह बिचका रहा था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

रेलवे की नौकरी के भरोसे न बैठें, रेलवे की जेबें खाली हैं!

कोरोना लॉकडाउन ने रेलवे का हाल खस्ता कर दिया है.

गलवान घाटी में भारत से लड़ाई पर चीन के लोग किस-किस तरह के सवाल उठा रहे हैं?

चीनी टि्वटर 'वीबो' पर कई पोस्ट लिखी गई हैं.

Exclusive: गलवान घाटी में 15 जून को तीन बार हुई लड़ाई में क्या-क्या हुआ था, विस्तार से जानिए

तीसरी लड़ाई के बाद भारत ने 16 चीनी सैनिकों के शव सौंपे थे.

राज्यसभा की 18 सीटों में से कांग्रेस और बीजेपी ने कितनी जीतीं?

एक और पार्टी है जिसने कांग्रेस जितनी सीटें जीती हैं.

दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ऑक्सीजन सपोर्ट पर, दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किए गए

कुछ दिन पहले कोरोना पॉज़िटिव आए थे, अब प्लाज़मा थेरेपी दी जाएगी.

चीनी सेना की यूनिट 61398, जिससे पूरी दुनिया के डेटाबाज़ डरते हैं

बड़ी चालाकी से काम करती है ये यूनिट.

गलवान घाटी में झड़प के बाद भी चीनी सेना मौजूद, 200 से ज्यादा ट्रक और टेंट लगाए

सैटेलाइट से ली गई तस्वीरों में यह सामने आया है.

पेट्रोल-डीजल के दाम में फिर से उबाल क्यों आ रहा है?

रोजाना इनके दाम घटने-बढ़ने की पूरी कहानी.

उत्तर प्रदेश में एक IPS अधिकारी के ट्रांसफर पर क्यों तहलका मचा हुआ है?

69000 भर्ती में कार्रवाई का नतीजा ट्रांसफर बता रहे लोग. मगर बात कुछ और भी है.

गलवान घाटी: LAC पर भारत के तीन नहीं, 20 जवान शहीद हुए हैं, कई चीनी सैनिक भी मारे गए

लड़ाई में हमारे एक के मुकाबले तीन थे चीनी सैनिक.