Submit your post

Follow Us

योगी ने 23 नए मंत्री बनाए, मगर ये 4 मंत्री हुए पैदल और विदाई की वजह जानने लायक है

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार का पहला कैबिनेट विस्तार हो गया है. 23 नए मंत्रियों का नाम जुड़ा है. यानि उत्तर प्रदेश में अब 56 मंत्री हो गए हैं. मगर इस विस्तार से पहले कई विकेट भी गिरे. कई मंत्रियों ने अपने इस्तीफे सौंपे थे. जिनमें से 5 के मंजूर हो गए हैं. इनमें से एक तो स्वतंत्र देव सिंह हैं. जोकि यूपी बीजेपी के अध्यक्ष बना दिए गए हैं. बीजेपी की ‘एक व्यक्ति एक पद’ नीति के तहत उन्होंने अपने परविहन मंत्री के पद से इस्तीफा दिया था. उनके अलावा चार और लोगों के इस्तीफे मंजूर हुए हैं, मगर उसकी वजह कोई प्रमोशन नहीं बल्कि कुछ और है. जानिए कौन-कौन है इस लिस्ट में –

1. राजेश अग्रवाल

उत्तर प्रदेश सरकार के वित्त मंत्री पद से इस्तीफा दिया.

कौन हैं –

– बरेली कैंट से विधायक, वो भी लगातार 7 बार से.
– पेशे से व्यापारी हैं और 2004 से 2007 तक वह उत्तर प्रदेश विधानसभा के डिप्टी स्पीकर भी रहे

राजेश अग्रवाल अब वित्त मंत्री नहीं रहे.
राजेश अग्रवाल अब वित्त मंत्री नहीं रहे.

इस्तीफे की वजह –

बीजेपी का 75 प्लस उम्र का नियम इन पर लागू हुआ है. खुद राजेश ने भी ट्वीट कर ये जानकारी दी है.

तबादलों में मनमानी के आरोप लगे. राजेश अग्रवाल ने स्थानांतरण नीति के परे जाकर जो भी तबादले किए, उन फाइलों को अपर मुख्य सचिव ने मुख्यमंत्री कार्यालय भेज दिया

2. अर्चना पांडेय

खनन विभाग की राज्य मंत्री

कौन हैं – कन्नौज से 4 बार विधायक रहे और पूर्व मंत्री राम प्रकाश त्रिपाठी की बेटी.
कन्नौज की छिबरामऊ सीट से विधायक.

अर्चना पांडेय का भी इस्तीफा हुआ.
अर्चना पांडेय का भी इस्तीफा हुआ.

वजह – स्टिंग ऑपरेशन में अर्चना पांडेय के निजी सचिव पर भी गाज गिरी थी.

-संगठन के काम में निष्क्रियता भी एक कारण.

3. अनुपमा जायसवाल 

बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार के पद से इस्तीफा दिया.

कौन हैं – बहराइच से पहली बार की विधायक

अनुपमा जायसवाल
अनुपमा जायसवाल

वजह- बेसिक शिक्षा अधिकारियों के तबादलों के साथ विभाग में जूते-मोजे, स्वेटर और पाठ्य पुस्तकों के टेंडर को लेकर विवाद में रहीं.

एक स्टिंग ऑपरेशन में अनुपमा के दफ्तर का भी नाम सामने आया. तब अनुपमा के दफ्तर में कार्यरत निजी सचिव को हटाया गया था.

अनुपमा के कार्यकाल में हुई 68,500 शिक्षकों की भर्ती में भी अनियमितताओं की शिकायतें आईं. भर्ती अभी तक उच्च न्यायालय में विचाराधीन है.

4. धर्मपाल सिंह 

सिंचाई मंत्री के पद से इस्तीफा

कौन हैं – बरेली की आंवला सीट से विधायक

– सीनियर नेता, कल्याण सिंह सरकार में भी मंत्री रहे हैं

– 2017 विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश अध्यक्ष के लिए भी नाम चर्चा में आया था

धरमपाल सिंह
धरमपाल सिंह

वजह –  सिंचाई विभाग में तबादलों में गड़बड़ी और कमीशनखोरी के आरोपों ने गिराई गाज.

इन पांच मंत्रियों के अलावा सांसद चुने जाने के बाद सत्यदेव पचौरी, प्रो. एसपी बघेल और प्रो. रीता बहुगुणा जोशी पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं. मंत्रिमंडल विस्तार में इन खाली पदों को भी समायोजित कर लिया गया है. वैसे दिया तो सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा ने भी इस्तीफा था, लेकिन ये स्वीकार नहीं किया गया.

ये बने हैं नए मंत्री –

कैबिनेट मंत्री : डॉ. महेंद्र सिंह, सुरेश राणा, भूपेंद्र सिंह चौधरी, अनिल राजभर, राम नरेश अग्निहोत्री, कमला रानी

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) : नील कंठ तिवारी, कपिल देव अग्रवाल, सतीश द्विवेदी, अशोक कटारिया, श्रीराम चौहान और रवींद्र जायसवाल

राज्य मंत्री : अनिल शर्मा, महेश गुप्ता, आनंद स्वरूप शुक्ल, विजय कश्यप, डॉ. गिरिराज सिंह धर्मेश, लाखन सिंह राजपूत, नीलिमा कटियार, चौधरी उदयभान सिंह, चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय, रमाशंकर सिंह पटेल


लल्लनटॉप वीडियो देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कानपुर कांड : आरोपी की गिरफ़्तारी में सच कौन बोल रहा? यूपी पुलिस या आरोपी के घरवाले?

वीडियो में क्या कहा कानपुर कांड के आरोपी ने?

विकास दुबे को बचाने के लिए अपने ही साथियों को धोखा देने वाले दो पुलिसवाले धर लिए गए हैं

घटना में आठ पुलिसवाले शहीद हुए थे.

PM Cares के पैसों से बने वेंटिलेटर पर सवाल उठे तो बनाने वाले ने राहुल गांधी को घेर लिया

कहा कि राहुल गांधी के सामने डेमो दिखा सकता हूं.

क्या गलवान में पीछे हटकर चीन 1962 वाली चाल दोहरा रहा है?

58 साल पहले भी ऐसा ही हुआ था. पहले चीन गलवान में पीछे हटा और कुछ दिन बाद भारत पर हमला कर दिया.

सरकार ने वो आदेश दिया है कि कंपनियां मास्क और सैनिटाइज़र के दाम में मनचाहा बदलाव कर सकती हैं

राज्यों ने शिकायत नहीं की, तो सरकार ने आदेश निकाल दिया

बुरी खबर! 'मेरे जीवनसाथी', 'काला सोना' जैसी फ़िल्में बनाने वाले प्रड्यूसर हरीश शाह नहीं रहे

कैंसर से जारी जंग आखिरकार हार गए.

दिल्ली की जेल में सजा काट रहे सिख दंगे के दोषी नेता की कोरोना से मौत हो गई

विधायक रह चुके इस नेता की कोरोना रिपोर्ट 26 जून को पॉज़िटिव आई थी.

श्रीलंका का ये क्रिकेटर हत्या के आरोप में गिरफ्तार

44 टेस्ट, 76 वनडे और 26 टी20 खेल चुका है.

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?