Submit your post

Follow Us

यूपी विधानसभा अध्यक्ष ने कम कपड़ों पर महात्मा गांधी की तुलना राखी सावंत से कर दी, अब दे रहे सफाई

यूपी विधानसभा के स्पीकर हैं हृदय नारायण दीक्षित. उन्नाव से विधायक हैं. उनका एक अटपटा बयान सोशल मीडिया पर काफी चर्चा में है. असल में उन्होंने पढ़ाई और महात्मा गांधी पर बोलते-बोलते अभिनेत्री राखी सावंत का नाम लेकर चुटकी ले ली. जब बयान को लेकर बवाल हुआ तो हृदय नारायण दीक्षित ने सफाई दी. उन्होंने आरोप लगाया कि बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया जा रहा है. आइए जानते हैं पूरा मामला.

‘अगर ऐसा होता तो राखी सावंत महान बन जातीं’

विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित शनिवार 18 सितंबर को बांगरमऊ में आयोजित प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन में महात्मा गांधी की महानता पर बोल रहे थे, लेकिन बात राखी सावंत तक पहुंच गई. हृदय नारायण दीक्षित ने वक्ताओं द्वारा उन्हें लेखक, पढ़ने वाला, विद्वान और प्रबुद्ध बताए जाने के जवाब में कहा कि केवल पढ़ने या लिखने भर से कोई महान नहीं बनता. उसमें दूसरे और भी तमाम गुण होते हैं. इसके लिए उन्होंने महात्मा गांधी का उदाहरण दिया. उन्होंने कहा कि

“गांधी जी अखबार पढ़ा करते थे, कम कपड़े पहनते थे, धोती ओढ़ते थे. गांधी जी को बापू कहा गया. अब अगर कोई कपड़े उतार देने भर से महान हो जाता तो राखी सावंत महात्मा गांधी से बड़ी बन जातीं.”

विधानसभा अध्यक्ष जैसे संवैधानिक पद पर रहते हुए हृदय नारायण दीक्षित के बीजेपी के कार्यक्रम में शामिल होने पर भी सवाल उठे. जब अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने दीक्षित से इस बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि कार्यक्रम में शामिल होने से पहले उन्होंने वादा किया था कि किसी भी तरह की राजनीतिक टिप्पणी नहीं करेंगे. और ये वादा निभाया भी.

बवाल बढ़ा तो सफाई दी

सोशल मीडिया पर हृदय नारायण दीक्षित का बयान वायरल होने के बाद उन्होंने बाद में सफाई दी. दीक्षित का कहना था कि वहां वक्ताओं ने उनकी तारीफ की. किसी ने विद्वान बताया तो किसी ने महान. उसी के जवाब में अपने भाषण में उन्होंने महात्मा गांधी का उल्लेख किया था. उन्होंने ट्विटर पर लिखा-

“सोशल मीडिया पर कुछ मित्र मेरे भाषण के एक अंश का वीडियो अन्यथा अर्थों के संकेत के साथ प्रसारित कर रहे हैं. वास्तव में यह उन्नाव के प्रबुद्ध सम्मेलन में मेरे भाषण का अंश है जिसमें सम्मेलन संचालक ने मेरा परिचय देते हुए मुझे प्रबुद्ध लेखक बताया था. मैंने इसी बिंदु से बात आगे बढ़ाते हुए कहा कि कुछ पुस्तकों और लेखों के लिखने से ही कोई प्रबुद्ध नहीं हो जाता. महात्मा गांधी कम कपड़े पहनते थे. देश ने उन्हें ‘बापू’ कहा. लेकिन इसका अर्थ यह नहीं राखी सावंत भी गांधी जी जैसी हो जाएंगी. मित्रगण मेरे भाषण को वास्तविक संदर्भ में ही ग्रहण करने की कृपा करें.धन्यवाद.”

 

AAP विधायक ने सिद्धू को कहा था ‘पंजाब के राखी सावंत’

राजनीति के पिछले हफ्ते में राखी सावंत के खबरों में रहने का यह इकलौता मामला नहीं था. हृदय नारायण दीक्षित के भाषण के एक दिन पहले यानी 17 सितंबर को आम आदमी पार्टी में पंजाब के सह प्रभारी और दिल्ली से विधायक राघव चड्ढा ने राखी सावंत का जिक्र किया था. उन्होंने पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब की राजनीति का राखी सावंत करार दे दिया था. चड्ढा ने अपने ट्वीट में कहा था कि

“पंजाब पॉलिटिक्स के राखी सावंत नवजोत सिंह सिद्धू अपनी ही सरकार और उसके मुखिया कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ रोजाना बयानबाजी कर रहे थे, लेकिन आलाकमान की फटकार के बाद अब वह चुप हैं. अब उन्हें कुछ और नहीं सूझ रहा, इसलिए वह आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल के खिलाफ फिजूल की बयानबाजी कर रहे हैं”

राघव चड्ढा की इस बयानबाजी के बाद राखी सावंत ने एक न्यूज चैनल पर नाराजगी जताई थी. राखी ने बेहद सख्त अंदाज में कहा था, मिस्टर राघव चड्ढा- मुझसे और मेरे नाम से दूर रहो. जो मिस्टर चड्ढा, चड्ढा हो ना, मेरा नाम लोगे ना तो मैं तुम्हारा चड्ढा उतार दूंगी. राखी सावंत ही नहीं बल्कि उनके पति रितेश ने भी राघव चड्ढा के बयान पर गुस्सा जताया था. रितेश ने अपने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा,

“मिस्टर राघव, कृपया इसको मेरी चेतावनी समझें !! यदि आपने अपनी किसी भी राजनीतिक कट्रोवर्सी में मेरी पत्नी के नाम का दोबारा इस्तेमाल किया, तो आपको कानूनी समस्या का सामना करना पड़ेगा. मैं यह भी बता दूं कि ‘आप’ कभी नहीं जीतेंगे, क्योंकि आप उस पद के लायक नहीं हैं. आप किसी का नाम खराब करने की कोशिश कर रहे हैं.”

 

अपने अगले पोस्ट में रितेश ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को टैग करते हुए लिखा, कृपया अपने विधायक को एजुकेट करिए.


वीडियो – AAP नेता राघव चड्ढा ने सिद्धू को राजनीति का ‘राखी सावंत’ कहा, बवाल हो गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?