Submit your post

Follow Us

खस्ताहाल लक्ष्मी विलास बैंक के ग्राहकों और कर्मचारियों को मोदी सरकार ने बड़ी ख़ुशख़बरी दी है

संकट में घिरे लक्ष्मी विलास बैंक की हालत PMC बैंक जैसी नहीं होने जा रही है. कम से कम केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर के बयान से तो यही लगता है. सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने कहा है कि लक्ष्मी विलास बैंक के ग्राहकों और कर्मचारियों को घबराने की ज़रूरत नहीं है. बैंक के ज़माकर्ताओं पर पैसे निकालने को लेकर अब कोई प्रतिबंध नहीं रहेगा. न ही किसी कर्मचारी को नौकरी से निकाला जाएगा. ऐसा उन्होंने क्यों कहा, आइए बताते हैं.

# फ़्लैशबैक-

17 नवंबर की शाम को RBI ने लक्ष्मी विलास बैंक पर मोरेटोरियम लगा दिया था. मतलब ये कि इस बैंक के ग्राहकों के लिए लिमिट लगा दी कि वो बैंक से सिर्फ़ 25,000 रूपये तक ही निकाल सकते हैं. RBI द्वारा लगाए इस मोरेटोरियम की अवधि 1 माह है. यानी 16 नवंबर, 2020 तक. RBI ने कहा था-

पिछले कुछ समय से (लक्ष्मी विलास बैंक) इसकी वित्तीय स्थिति तेजी से बिगड़ रही है. लिक्विडिटी, पूंजी और अन्य महत्वपूर्ण मापदंडों पर बैंक सही से परफॉर्म नहीं कर पा रहा है. पूंजी जुटाने के लिए भी बैंक के पास कोई कोई विश्वसनीय योजना नहीं है. ऐसे में सार्वजनिक और जमाकर्ताओं के हित में भारतीय रिजर्व बैंक को तत्काल कार्रवाई करने की आवश्यकता पड़ी है.

RBI ने बीते सप्ताह लक्ष्मी विलास पर मोरेटोरियम लगा दिया था. (तस्वीर: PTI)
RBI ने बीते सप्ताह लक्ष्मी विलास पर मोरेटोरियम लगा दिया था. (तस्वीर: PTI)

RBI ने प्रेस रिलीज़ जारी करके ये भी बताया था कि इस मोरेटोरियम के दौरान लक्ष्मी विलास बैंक की DBIL में विलय की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी.

इसी को लेकर अब केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर का बयान आया है.

# मंत्रीजी कहिन-

सूचना एवं प्रसारण मंत्री जावडेकर ने 25 नवंबर प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कैबिनेट बैठक में लिए गए अहम फ़ैसलों के बारे में बता रहे थे. इसी दौरान उन्होंने बताया कि-

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लक्ष्मी विलास बैंक के DBIL के साथ विलय की योजना को मंजूरी दे दी है. इस मंज़ूरी के साथ ही अब जमाकर्ताओं पर अपनी जमा राशि को बैंक से निकालने पर कोई प्रतिबंध नहीं रहेगा.

DBS, सिंगापुर बेस्ड एक मल्टीनेशनल बैंक या वित्तीय संस्था है. (तस्वीर: pymnts.com)
DBS, सिंगापुर बेस्ड एक मल्टीनेशनल वित्तीय संस्था है. (तस्वीर: pymnts.com)

लक्ष्मी विलास बैंक के ग्राहकों और कर्मचारियों की आशंका दूर करते हुए जावडेकर ने कहा-

लक्ष्मी विलास बैंक के 20 लाख ग्राहकों को घबराने की ज़रूरत नहीं है. इस बैंक का विलय DBIL के साथ होने जा रहा है. जो एक बड़ा बैंक है, जिसकी अंतरराष्ट्रीय पहचान है. DBIL की बैलेन्सशीट भी बहुत मज़बूत है.

बैलेन्स शीट मज़बूत होने को आसान भाषा में कहें तो, DBIL के पास बहुत पैसा और पूंजी है.

प्रकाश जावडेकर ने न सिर्फ़ जमाकर्ताओं बल्कि बैंक के कर्मचारियों को भी राहत की खबर सुनाई. उन्होंने कहा-

लक्ष्मी विलास बैंक के 4,000 कर्मचारियों की नौकरी को भी कोई ख़तरा नहीं है.

मंत्री के अनुसार, ख़तरा सिर्फ़ उन्हें है, जो लक्ष्मी विलास बैंक की इस हालत के लिए दोषी हैं, क्यूंकि RBI ने उनके ख़िलाफ़ जांच शुरू कर दी है.

# वो लोग, जिन्हें मंत्री जी मिस कर गए-

केंद्रीय मंत्री ने लक्ष्मी बैंक के जमाकर्ताओं और कर्मचारियों के लिए तो अच्छी बात बता दी, लेकिन उन्होंने इस बैंक के शेयरधारकों के बारे में कुछ नहीं कहा.

कहा जा रहा है कि इस विलय के बाद लक्ष्मी विलास बैंक के खुदरा शेयरों की वैल्यू ज़ीरो हो जाएगी. यानी जिन्होंने भी इसके शेयर ख़रीदे, उनके सारे पैसे डूब गए. कभी 190 के क़रीब का ये शेयर आज सिर्फ़ पौने आठ रूपये का रह गया है. लेकिन इतना भी रहेगा, इस पर भी शक है.

हालांकि ये देखना रोचक था कि 25 नवंबर को जब पूरा शेयर मार्केट धड़ाम हुआ पड़ा था, लक्ष्मी विलास के शेयर पर 5% का अपर सर्किट लगा हुआ था. अपर सर्किट का मतलब एक दिन में शेयर जितना बढ़ सकता था, बढ़ गया था. शायद उम्मीद के चलते.

स्क्रीनग्रैब: गूगल फ़ाइनेंस
लक्ष्मी विलास बैंक के शेयरों की हालत इस ग्राफ से देखिए. (स्क्रीनग्रैब: गूगल फ़ाइनेंस)

# DBIL के बारे में जान लीजिए

DBIL का फुल फ़ॉर्म DBS बैंक इंडिया लिमिटेड. ये सिंगापुर के एक वित्तीय संस्थान DBS की भारतीय सब्सिडरी है. DBS का फुल फ़ॉर्म डिवेलपमेंट बैंक ऑफ़ सिंगापुर. इसकी बैंकिंग शाखा का नाम DBS बैंक. ठीक जैसे HDFC की बैंकिंग शाखा का नाम HDFC बैंक.

DBIL या DBS के बारे में प्रकाश जावडेकर की बात सौ फ़ीसदी सही है. DBS एक ‘बिलियन डॉलर’ संस्था है. एशिया के कुछ सबसे बड़े वित्तीय संस्थानों में से एक. 50 साल से भी ज़्यादा पुरानी. लेकिन लक्ष्मी विलास तो उससे भी पुराना बैंक था.

# लक्ष्मी विलास बैंक-

लक्ष्मी विलास को लगभग 100 साल होने वाले हैं. मतलब ये आज़ादी से भी कई साल पहले 3 नवंबर, 1926 में स्थापित हो गया था. तमिलनाडु के करूर शहर में. लक्ष्मी विलास बैंक की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, इसकी देशभर में 563 शाखाएं हैं. इनमें सात वाणिज्यिक बैंकिंग शाखाएं और एक सैटेलाइट ब्रांच है. बैंक के कुल 974 एटीएम लगे हैं. लक्ष्मी विलास बैंक का दावा है कि भारत के 16 राज्यों और तीन केंद्र शासित प्रदेशों में उसकी मौजूदगी है.


वीडियो: PMC और यस बैंक की तरह ही अब इस बैंक पर भी लगा मोरेटोरियम, RBI को लगानी पड़ी पैसे निकालने की लिमिट-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल का निधन, एक महीने तक कोविड-19 से लंबी जंग लड़ी

कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल का निधन, एक महीने तक कोविड-19 से लंबी जंग लड़ी

पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दुख जताया.

कंगना-रंगोली पर सेडिशन केस की सुनवाई करते बॉम्बे हाईकोर्ट ने बहुत ज़रूरी बात कही है

कंगना-रंगोली पर सेडिशन केस की सुनवाई करते बॉम्बे हाईकोर्ट ने बहुत ज़रूरी बात कही है

"क्या हम अपने नागरिकों के साथ ऐसा व्यवहार करेंगे?”

दिल्ली दंगा : चार्जशीट में फ़ोटो लगाकर पुलिस ने कहा, 'ये दंगे को लेकर सीक्रेट मीटिंग हुई है'

दिल्ली दंगा : चार्जशीट में फ़ोटो लगाकर पुलिस ने कहा, 'ये दंगे को लेकर सीक्रेट मीटिंग हुई है'

इसके अलावा वाट्सऐप चैट को लेकर दिल्ली पुलिस ने क्या दावा किया?

दंगे की चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने कहा, 'पटना में बैठकर उमर ख़ालिद ने दिल्ली में दंगा भड़काया'

दंगे की चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने कहा, 'पटना में बैठकर उमर ख़ालिद ने दिल्ली में दंगा भड़काया'

दिल्ली पुलिस ने किस सीक्रेट ऑफ़िस की बात की है?

डॉक्टर कर रहे थे दिमाग की सर्जरी और मरीज टीवी पर देख रहा था 'बिग बॉस'!

डॉक्टर कर रहे थे दिमाग की सर्जरी और मरीज टीवी पर देख रहा था 'बिग बॉस'!

चौंक गए ना आप? चलिए बताते हैं कि आखिर ये मामला क्या है.

ड्रग्स केस: कॉमेडियन भारती सिंह को तीन घंटे की पूछताछ के बाद NCB ने गिरफ्तार किया

ड्रग्स केस: कॉमेडियन भारती सिंह को तीन घंटे की पूछताछ के बाद NCB ने गिरफ्तार किया

मुंबई स्थित घर से एजेंसी ने गांजा बरामद किया था.

मुकेश भाई की रिलायंस के दिए 19 किलो सोने से सजा कामख्या मंदिर देख लो

मुकेश भाई की रिलायंस के दिए 19 किलो सोने से सजा कामख्या मंदिर देख लो

गुवाहाटी के इस मंदिर की गिनती देश के सबसे पुराने शक्त पीठों में होती है.

नाम से नफरत थी, शिवसेना के नेता ने दे डाला 'कराची स्वीट्स' को अल्टिमेटम

नाम से नफरत थी, शिवसेना के नेता ने दे डाला 'कराची स्वीट्स' को अल्टिमेटम

दुकानदार ने साइन बोर्ड पर छिपा दिया 'कराची' शब्द

एक और प्राइवेट बैंक का बंटाधार? RBI को लगानी पड़ी पैसे निकालने की लिमिट

एक और प्राइवेट बैंक का बंटाधार? RBI को लगानी पड़ी पैसे निकालने की लिमिट

PMC और यस बैंक की तरह ही अब इस बैंक पर भी लगा मोरेटोरियम.

तबलीगी जमात पर सरकार के किस जवाब से सुप्रीम कोर्ट खफा हो गया

तबलीगी जमात पर सरकार के किस जवाब से सुप्रीम कोर्ट खफा हो गया

तुषार मेहता से सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा?