Submit your post

Follow Us

'चौकीदार चोर है' वाले बयान पर राहुल गांधी को सुप्रीम कोर्ट ने क्या सजा दी?

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर फैसला आया है. नहीं, नहीं कोई चुनाव का नहीं. उनके एक बयान पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही थी. बयान जो राहुल गांधी की लोकसभा चुनाव के दौरान रैलियों में जमके गूंजता था. चौकीदार चोर है…चौकीदार चोर है… इसके खिलाफ बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. मानहानि का मुकदमा चलाने को कहा था. आरोप लगाया था कि राहुल गांधी सब जगह कह रहे हैं कि सुप्रीम कोर्ट ने माना है कि चौकीदार चोर है. राफेल डील के मामले में. इस याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी को राहत के साथ ही चेतावनी भी दी है. उनकी माफी को मंजूर कर लिया है. साथ ही कहा है कि राहुल के खिलाफ अब अवमानना का केस नहीं चलेगा. कोर्ट ने चेतावनी भरे स्वर में कहा –

संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों को सावधानी से बयान देना चाहिए. कोर्ट को राजनीति विवाद में घसीटना गलत है. राहुल गांधी ने माफी मांग ली थी. हमने माफी को मंजूर कर लिया है. पर वो आगे से ज्यादा सतर्क रहें.

अयोध्या भूमि विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने लगातार 40 दिनों तक सुनवाई की थी. 16 अक्टूबर 2019 को सुनवाई पूरी हो गई थी. अब सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुना दिया है.
सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी पर फैसला सुनाया.

मामले में मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ जिसमें जस्टिस एसके कौल और केएम जोसेफ भी शामिल थे. उन्होंने राहुल और मीनाक्षी के पक्षों की दलीलें सुनने के बाद राहुल गांधी के खिलाफ अवमानना याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया था. और 14 नवंबर को फैसला सुनाया. सुनवाई के वक्त मीनाक्षी लेखी की ओर से पेश वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने कहा था कि कोर्ट से दो बार डांट खाने के बाद अंत में राहुल ने तीसरा हलफनामा दाखिल कर अपने बयान पर कोर्ट से बिना शर्त माफी मांगी है. रोहतगी ने कहा कि राहुल ने बहुत देर से माफी मांगी है और सुप्रीम कोर्ट के पूर्व फैसले के मुताबिक देर से मांगी गई माफी स्वीकार नहीं की जा सकती. उन्होंने कहा कि वह राहुल गांधी की माफी का विरोध करते हैं. कोर्ट उनके खिलाफ कार्यवाही करे. उन्हें सजा दे या तो जेल भेजे या फिर निंदा या पेनाल्टी आदि की सजा दी जाए. रोहतगी ने कहा या फिर राहुल गांधी जनता के बीच जाकर माफी मांगें.

रोहतगी की दलीलों का विरोध करते हुए राहुल गांधी के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि उन्होंने शुरू में ही पहले हलफनामे मे अपनी गलती मान ली थी और कोर्ट से खेद भी जताया था. ऐसा उन्होंने कोर्ट से अवमानना नोटिस जारी होने के पहले ही कर दिया था. सिंघवी ने कहा उन्होंने माफी मांगने या गलती मानने में कोई देरी नहीं की. ऐसे में कोर्ट राहुल के खिलाफ अवमानना मामला बंद कर दे.


लल्लनटॉप वीडियो देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राज्यसभा की 18 सीटों में से कांग्रेस और बीजेपी ने कितनी जीतीं?

एक और पार्टी है जिसने कांग्रेस जितनी सीटें जीती हैं.

दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ऑक्सीजन सपोर्ट पर, दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किए गए

कुछ दिन पहले कोरोना पॉज़िटिव आए थे, अब प्लाज़मा थेरेपी दी जाएगी.

चीनी सेना की यूनिट 61398, जिससे पूरी दुनिया के डेटाबाज़ डरते हैं

बड़ी चालाकी से काम करती है ये यूनिट.

गलवान घाटी में झड़प के बाद भी चीनी सेना मौजूद, 200 से ज्यादा ट्रक और टेंट लगाए

सैटेलाइट से ली गई तस्वीरों में यह सामने आया है.

पेट्रोल-डीजल के दाम में फिर से उबाल क्यों आ रहा है?

रोजाना इनके दाम घटने-बढ़ने की पूरी कहानी.

उत्तर प्रदेश में एक IPS अधिकारी के ट्रांसफर पर क्यों तहलका मचा हुआ है?

69000 भर्ती में कार्रवाई का नतीजा ट्रांसफर बता रहे लोग. मगर बात कुछ और भी है.

गलवान घाटी: LAC पर भारत के तीन नहीं, 20 जवान शहीद हुए हैं, कई चीनी सैनिक भी मारे गए

लड़ाई में हमारे एक के मुकाबले तीन थे चीनी सैनिक.

गलवान घाटीः वो जगह जहां भारत-चीन के बीच झड़प हुई

पिछले कुछ समय से यहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं.

लद्दाख: गलवान घाटी में भारत-चीन झड़प पर विपक्ष के नेता क्या बोले?

सेना के एक अधिकारी समेत तीन जवान शहीद हुए हैं.

क्या परवीन बाबी की राह पर चल पड़े थे सुशांत?

मुकेश भट्ट ने एक इंटरव्यू में कहा.