Submit your post

Follow Us

वकील ने बताया, जेल में किस तरह कटे रिया चक्रवर्ती के 28 दिन

एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती 28 दिन बाद जेल से बाहर आ गई हैं. सुशांत सिंह राजपूत केस से जुड़े ड्रग्स मामले में रिया को बुधवार 7 अक्टूबर को बॉम्बे हाईकोर्ट ने सशर्त जमानत दी थी. अब रिया के वकील सतीश मानशिंदे ने बताया है कि जेल में रिया ने अपना समय कैसे बिताया. उन्होंने कहा कि मुझे ऐसा लगता है कि सुशांत का परिवार रिया से बदला लेना चाहता है.

रिया इतने दिनों तक बायकुला जेल से रही थीं. उनके वकील सतीश मानशिंदे ने एनडीटीवी को बताया कि जेल में रिया चक्रवर्ती बिल्कुल पॉजिटिव रहती थीं. सतीश ने कहा,

“मैं इतने सालों बाद एक क्लाइंट को देखने व्यक्तिगत रूप से जेल गया था, क्योंकि उन्हें (रिया) बहुत डरा दिया गया था. मैं देखना चाहता था कि वह किस स्थिति में हैं. मेरा सौभाग्य था कि वह अच्छी तरह से थीं. वह जेल में खुद की देखभाल करती थीं. अपने लिए और साथी कैदियों के लिए योग क्लासेज़ भी ऑर्गनाइज़ करती थीं.

रिया ने खुद को जेल में एडजस्ट कर लिया था, क्योंकि कोरोना महामारी के कारण घर का खाना नहीं मिल सकता था. वह कैदियों के साथ ऐसे रहती थीं, जैसे उन्हीं की तरह साधारण महिला हों. एक आर्मी ऑफिसर की बेटी होने के नाते रिया ने जंग जैसे हालातों का सामना किया. वह ऐसे किसी भी व्यक्ति का सामना करने को तैयार है, जो उन पर आरोप लगाने और उन्हें नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहा है.”

सतीश ने आगे बताया,

“रिया को जिस कारण से डराया गया, उसका कारण सिर्फ यही था क्योंकि उसका (सुशांत का) परिवार उनके पीछे था. मुझे नहीं पता कि क्यों सुशांत का परिवार रिया से प्रतिशोध लेना चाहता है. मेरा कहना है कि सीबीआई, एनसीबी, ईडी जैसी केंद्रीय एजेंसियों ने उन्हें (रिया) केवल इसलिए घेर लिया, क्योंकि वह उस सज्जन (सुशांत) की लिव-इन पार्टनर थीं.”

कोर्ट ने कहा था, रिया ड्रग रैकेट का हिस्सा नहीं

रिया चक्रवर्ती पर एनसीबी ने ड्रग सिंडिकेट का हिस्सा होने का आरोप लगाया था. कहा था कि वह सुशांत के लिए ड्रग्स का इंतजाम करती थीं. इस पर बॉम्बे हाई कोर्ट ने जमानत देते हुए कहा था कि रिया ड्रग डीलरों के किसी रैकेट का हिस्सा नहीं हैं. उन्होंने कथित तौर पर हासिल किए ड्रग्स पैसे कमाने या किसी अन्य मक़सद से नहीं दिए थे. उनका कोई आपराधिक इतिहास भी नहीं रहा है.

हाईकोर्ट ने जमानत देते हुए कई शर्तें भी लगाईं. एक लाख का बॉन्ड भरने के अलावा रिया को अपना पासपोर्ट जमा कराना पड़ा है. कोर्ट की अनुमति के बिना वह विदेश यात्रा नहीं कर सकेंगी. हर 10 दिन में थाने में हाजिरी लगानी होगी. एनसीबी के साथ पूछताछ में सहयोग करना होगा. एजेंसी जब भी बुलाएगी, उन्हें जाना होगा. ग्रेटर मुंबई छोड़ने से पहले भी जांच अधिकारियों को बताना होगा.

शौविक चक्रवर्ती को नहीं मिली बेल

रिया चक्रवर्ती को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने ड्रग्स मामले में 8 सितंबर को गिरफ्तार किया था. एक दिन पहले उनके भाई शौविक को अरेस्ट किया था. दोनों ने स्पेशल एनडीपीएस कोर्ट में ज़मानत के लिए अर्ज़ी डाली, जिसे खारिज करते हुए उन्हें दो हफ्ते के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था. बाद में, एक बार फिर उनकी कस्टडी बढ़ाई गई थी. 6 अक्टूबर को रिया और शौविक को 20 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेजने के आदेश दिए गए थे. लेकिन हाई कोर्ट ने अब रिया को जमानत दे दी है, हालांकि उनके भाई की बेल ऐप्लिकेशन खारिज कर दी गई.


वीडियो: लगभग एक महीने बाद जेल से निकलीं रिया, क्या बोले बॉलीवुड सितारे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

दो बार छह छ्क्के लगा चुका वह भारतीय, जिसे करोड़पति बनना रास ना आया

गणित के मास्टर भी हैं CSK को पीटने वाले राहुल त्रिपाठी.

आधी रात को क्यों जलाई थी हाथरस विक्टिम की बॉडी, यूपी सरकार ने अब बताया है

साथ ही ये भी बताया कि 14 सितंबर से अब तक क्या-क्या किया.

कंफर्म हो गया, अकेले चुनाव लड़ेगी चिराग पासवान की पार्टी

क्या ये चिराग पासवान के लिए ज़मीन तैयार करने की रणनीति है?

शिक्षा मंत्रालय की गाइडलाइंस, बताया 15 अक्‍टूबर से किन शर्तों पर खुलेंगे स्कूल-कॉलेज

स्टूडेंट्स, अभिभावकों की लिखित सहमति से ही स्कूल जा सकते हैं.

इस शर्त पर यूपी प्रशासन ने राहुल-प्रियंका को हाथरस जाने की अनुमति दी

कथित गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहे हैं राहुल-प्रियंका.

हाथरस केस: एसपी और सीओ सस्पेंड, जानिए डीएम का क्या हुआ?

सभी पक्ष-विपक्ष वालों का पॉलीग्राफी टेस्ट भी होगा.

हाथरस केस: यूपी पुलिस को किसी को भी गांव में जाने से रोकने का बहाना मिल गया है!

खबर है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पीड़ित परिवार से मिलने जाने वाले हैं.

सभी आरोपियों को बरी करते हुए कोर्ट ने कहा - इन्होंने बाबरी मस्जिद को बचाने की कोशिश की थी

आ गया है 28 साल पुराने मामले में फ़ैसला

हाथरस के कथित गैंगरेप मामले पर विराट कोहली ने क्या कहा?

अक्षय कुमार ने भी ट्वीट किया है.

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

तो क्या इस वक़्त देश के पास अर्थव्यवस्था सही करने का सिर्फ़ एक बटन बचा है?