Submit your post

Follow Us

राजस्थान में उथल-पुथल के बीच कांग्रेस की केंद्र सरकार से पांच मांगें क्या हैं?

राजस्थान में सियासी उठापटक मची हुई है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के खेमे आमने-सामने हैं. इसी बीच कुछ ऑडियो टेप भी मीडिया के सामने आए. जिनमें विधायकों को खरीदने को लेकर की गई बातचीत सुनाई दे रही है. कथित तौर पर ये बातचीत विधायक भंवरलाल शर्मा, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और संजय जैन नाम के किसी व्यक्ति के बीच हुई थी.

इस ऑडियो टेप के मुद्दे पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला और राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. सुरजेवाला ने बीजेपी के ऊपर करोड़ों रुपये में विधायकों को खरीदने के आरोप लगाए. ये भी कहा कि बीजेपी राजस्थान में कांग्रेस की सरकार को गिराना चाहती है.

सुरजेवाला ने कहा,

“राजस्थान में विधायकों के खरीद-फरोख्त की चर्चा चल रही है. स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) के सामने भी मुकदमा दर्ज है. जांच भी चल रही है. 20, 25, 30 करोड़ रुपए में विधायकों की निष्ठा और विश्वास खरीदकर राजस्थान की आठ करोड़ जनता के जनमत से चुनी हुई कांग्रेस सरकार को अस्थिर करवाने की बीजेपी की साजिश सामने आ गई है.”

इसके अलावा बताया कि कथित ऑडियो टेप की जांच के लिए राजस्थान के सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी ने स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) के सामने मुकदमा दर्ज करवा दिया है. और टेप की जांच चल रही है.

सुरजेवाला ने और क्या-क्या कहा?

कोरोना महामारी के बीचों-बीच मोदी सरकार ने प्रजातंत्र का चीरहरण किया था. पूरा देश कोरोना से जूझ रहा था, लेकिन इसी बीच मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिराने की कोशिश की जा रही थी. 24 मार्च को मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिराई गई, उसी रात से लॉकडाउन लागू किया गया. बीजेपी द्वारा सत्ता की हवस का खेल खेला जा रहा है. बीजेपी कोरोना और चीन से लड़ने के बजाय सत्ता लूटने की कोशिश में लगी है.

ऑडियो टेप के मुद्दे पर क्या बोले?

सुरजेवाला ने कहा ,

“ये तथाकथित बातचीत पहली नज़र में ये दर्शाती है, कि वो लोग जो गुड़गांव के होटल में बीजेपी की मेहमाननवाजी में बैठे हैं, उनके और बीजेपी के केंद्रीय मंत्री के बीच तथाकथित रूप से पैसे का आदान-प्रदान हो रहा है, और सरकार गिराने की साजिश भी.”

इसके आगे सुरजेवाला ने कांग्रेस की पांच मांगें सामने रखीं. ये मांगें हैं-

– पहली नज़र में राजस्थान की कांग्रेस सरकार गिराने की साजिश में शामिल केंद्रीय कैबिनेट मंत्री गजेंद्र शेखावत के खिलाफ SOG द्वारा FIR दर्ज की जाए. पूरी जांच हो. और अगर पद का दुरुपयोग कर जांच प्रभावित करने का अंदेशा हो, जैसा पहली नज़र में लगता है, तो वॉरंट लेकर गजेंद्र शेखावत की तुरंत गिरफ्तारी की जाए.

– भंवरलाल शर्मा विधायक और बीजेपी नेता संजय जैन के खिलाफ भी FIR दर्ज कर कार्रवाई हो.

– पैसे का आदान-प्रदान किस प्रकार से हो रहा है. कालाधन किसने मुहैया करवाया? कहां से आया? हवाला से ट्रांसफर कैसे हुआ? और किस-किसको दिया गया? इसकी पूरी जांच हो.

– जांच में ये भी खुलासा हो कि केंद्र सरकार के कौन-से पदों पर बैठे व्यक्ति, अधिकारी या एजेंसियां राजस्थान की सरकार को गिराने की साजिश कर रहे हैं?

– ये भी जांच हो कि इस ऑडियो में नामित व्यक्तियों के अलावा क्या किसी और व्यक्ति या विधायक द्वारा सरकार गिराने या निष्ठा बदलने के एवज में पैसों का लेन-देन हुआ है? सचिन पायलट भी आगे आकर विधायकों की सूची बीजेपी को देने वाले इस तथाकथित इल्ज़ाम के बारे में अपनी स्थिति सार्वजनिक तौर पर स्पष्ट करें.

चेदन डूडी का नाम भी टेप में

इन पांच मांगों के अलावा सुरजेवाला ने बताया कि इसी टेप में विधायक चेतन डूडी का नाम भी भंवर लाल ने लिया था. सुरजेवाला के मुताबिक, चेतन डूडी को भी लालच देने की कोशिश हुई थी, लेकिन उन्होंने मना कर दिया. इस पीसी में चेतन डूडी भी शामिल थे. उन्होंने कहा,

“मैं ये जानकारी देना चाहता हूं कि तथाकथित जो ऑडियो आया है, उसमें मेरा नाम आया है. मुझे प्रलोभन दने की कोशिश की गई थी, लेकिन मैंने मना कर दिया. कांग्रेस के प्रति निष्ठा है. इस मामले की जो जांच कर रहा है, उसके सामने मैं अपनी बात रखूंगा.”

सुरजेवाला ने बताया कि टेप की जांच होने तक कांग्रेस ने भंवर लाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया है. दोनों को कारण बताओ नोटिस भेजा गया है. वहीं, सचिन पायलट को कांग्रेस से निष्कासित नहीं किया गया है. प्राथमिक सदस्यता से निलंबित किया है. उनके लिए पार्टी के दरवाजे खुले हैं.

सचिन पायलट से संपर्क हो रहा है या नहीं? जब ये सवाल किया गया, तब सुरजेवाला ने कहा,

“जो बातें पार्टी के लेवल पर होनी चाहिए, वो पार्टी के लेवल पर ही होनी चाहिए. तीन बार आपके समक्ष आकर खुले मन से मैंने कहा कि उनके लिए सारे दरवाज़ें खुले हैं. ये भी कहा कि अगर सुबह का भूला शाम को घर आ जाए, तो वो भूला नहीं कहलाता. उसके बाद क्या वार्तालाप हुई, आप भी ये मानेंगे कि शायद सार्वजनिक तौर से मीडिया के सामने या आपके माध्यम से कहना, एक व्यक्तिगत बात को कहना, उचित नहीं होगा.”

पीसी के आखिर में सुरजेवाला ने कहा कि केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह के अलावा भी बहुत ऊंचे पद का कोई इस साजिश में शामिल हो सकता है. उन्होंने कहा,

“क्या गजेंद्र शेखावत जी अकेले ये काम कर सकते हैं? इस बात की पहुंच गजेंद्र जी से बहुत ऊपर मिलेगी. वो ऊपर कहां तक है? कौन है जो दिल्ली में बैठकर जो राजस्थान के कांग्रेस विधायकों की खरीद-फरोख्त कर रहा है. ये बात सामने आना ज़रूरी है. ताकि वो लोग जो प्रजातंत्र का चीरहरण करते हैं और जनमत का अपहरण करते हैं, उन भाजपाइयों का चेहरा बेनकाब हो.”

आखिर में फिर ये बात दोहराई कि जब मीडिया में ये ऑडियो टेप वायरल हुए थे, तभी महेश जोशी ने रात में लिखित शिकायत दे दी थी. फिर राजस्थान सरकार और राजस्थान SOG से मांग की कि बहुत सारे सबूत सामने आ चुके हैं, अब दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो.


वीडियो देखें: सचिन पायलट ने बताई मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से झगड़े की असली वजह

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या है रिलायंस जियो की नई पेशकश जियो टीवी+

जियो टीवी+ की सारी खासियतों पर एक नजर.

कानपुर कांड का एक और फ़ोन कॉल, 'आसपास पुलिस हो, तो बस खांस देना, हम समझ जाएंगे'

क्या घर वाले छिपे आरोपियों के बारे में जानते थे?

ऐपल ने सैमसंग को 7100 करोड़ का जुर्माना किस गलती के लिए चुकाया?

इसके पीछे ऐपल और सैमसंग के बीच का एक क़रार है.

मोदी के 'आत्मनिर्भर भारत' को समर्पित करते हुए मुकेश अंबानी बोले, 'जियो का 5G तैयार हुआ पड़ा है!'

सोचा, केवल चीन और अमेरिका जैसे देशों को ही इस रेस में शामिल मान रहे लोगों को बता दें.

जांचे बिना ही पुलिस ने शख्स को मरा घोषित कर दिया, फोटोग्राफर ने बचाया

कोरोना के डर से पुलिस ने छूकर भी नहीं देखा.

यूपी पुलिस ने अपनी ही FIR में माना, 'हां, विकास दुबे की गाड़ी बदली गई थी'

गोली के खोखे बारिश और घासफूस में खो गए.

राजस्थान के झमेले के बीच सचिन पायलट ने बीजेपी का दिल तोड़ने वाली बात कह दी है

CM अशोक गहलोत से क्यों ग़ुस्सा हैं, बता दिया सचिन पायलट ने.

कानपुर कांड की रात वहां मौजूद औरत ने फोन करके अपनी भाभी को क्या बताया, सुनिए ऑडियो

“पुलिस वाले हैं. विकास भैया ने मारा है, इन सब लोगों ने मारा है.”

यूपी पुलिस विकास दुबे के घर ये वाले हथियार खुद नहीं खोज पाई, आरोपी ने बताया कहां रखे हैं

इसके पहले पुलिस और फ़ोरेंसिक टीम विकास दुबे का घर ढहाकर छान चुकी है.

गूगल का भारत में 75,000 करोड़ रुपये के निवेश का पूरा प्लान क्या है

खुद सुंदर पिचाई ने ऐलान किया है.