Submit your post

Follow Us

अयोध्या में 5 अगस्त के भूमि पूजन को लेकर क्या-क्या तैयारियां चल रही हैं

अयोध्या में राम मंदिर को लेकर तैयारियां तेज हैं. 5 अगस्त को भूमि पूजन है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कार्यक्रम में शामिल होने की रजामंदी दे दी है. तारीख पर फैसला अयोध्या में 18 जुलाई को हुई बैठक में लिया गया. इसके बाद से रोजाना भूमि पूजन के कार्यक्रम से जुड़ी खबरें आ रही हैं. इनमें मंदिर के डिजाइन में बदलाव, भूमि पूजन की तैयारी, रामलला की पोशाक और अयोध्या में रंग-रोगन की खबरें शामिल हैं. इन्हीं तैयारियों की खास बातों पर एक नज़र डालते हैं.

भूमि पूजन की तैयारियां जांचने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ 25 जुलाई को अयोध्या गए थे.
भूमि पूजन की तैयारियां जांचने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ 25 जुलाई को अयोध्या गए थे.

योगी बोले- अयोध्या को दुनिया का गौरव बनाएंगे

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ. वे भी 5 अगस्त के कार्यक्रम को भव्य बनाने में लगे हुए हैं. 25 जुलाई को वे अयोध्या गए थे. यहां उन्होंने तैयारियों का जायजा लिया और राम जन्मभूमि ट्रस्ट के सदस्यों से मुलाकात की. फिर कहा कि अयोध्या को देश और दुनिया का गौरव बना देंगे. अयोध्या के पास खुद को साबित करने का मौका है.

कौन-कौन होगा भूमि पूजन में शामिल

जैसा कि ऊपर बताया, भूमि पूजन 5 अगस्त को होगा. इसके लिए दोपहर में 12.15 बजे का मुहूर्त निकाला गया है. कोरोना वायरस का समय है. ऐसे में गिनती के लोग ही इसमें शामिल होंगे. पीएम मोदी, सीएम योगी के साथ ही संघ प्रमुख मोहन भागवत, कई राज्यों के मुख्यमंत्री, राम मंदिर आंदोलन के बड़े चेहरे जैसे- लालकृष्ण आडवाणी, साध्वी ऋतंभरा, उमा भारती, मुरली मनोहर जोशी, विनय कटियार, संघ-विश्व हिंदू परिषद के नेता और कई बड़ी हस्तियां भूमि पूजन के दौरान मौजूद रहेंगी. बताया जाता है कि मेहमानों की संख्या 200 से ज्यादा नहीं होगी.

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट की बैठक में मौजूद सदस्य.
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट की बैठक में मौजूद सदस्य.

2023 तक तैयार होगा मंदिर, 161 फीट होगी ऊंचाई

ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने प्रेस को बताया कि हालात सामान्य होने के बाद मंदिर तीन से साढ़े तीन साल में बनकर तैयार हो जाएगा. रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक में मंदिर के नक्शे में बदलाव पर फैसला हुआ था. ट्रस्ट ने निर्णय लिया कि मंदिर में तीन की जगह पांच गुंबद होंगे. मंदिर की ऊंचाई भी प्रस्तावित नक्शे से ज्यादा होगी.

मंदिर के नए डिज़ाइन में विश्व हिंदू परिषद के बनाए डिज़ाइन को आधार बनाया जाएगा. पहले मंदिर को 128 फीट ऊंचा बनाया जाना था, अब इसे 161 फीट कर दिया गया है. राम मंदिर के नए मॉडल के तहत इसमें कुल 17 हिस्से होंगे. इन्हें शिखर, गर्भगृह, कलश गोपुरम रथ, मंडप और अर्थ मंडप, परिक्रमा तोरण, प्रदक्षिणा अधिष्ठान जैसे वर्गों में बांटा गया है.

राम मंदिर भूमि पूजन के लिए देश के सभी तीर्थ स्थानों से मिट्टी और जल मंगाया गया है. (Photo: PTI)
राम मंदिर भूमि पूजन के लिए देश के सभी तीर्थ स्थानों से मिट्टी और जल मंगाए गए हैं. (Photo: PTI)

सभी तीर्थ स्थानों से मंगाया पानी-मिट्टी

भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए देश के सभी तीर्थ स्थलों की मिट्टी और पानी का उपयोग होगा. इसके लिए काम शुरू हो चुका है. जगह-जगह से मिट्टी-पानी लाया जा रहा है. भूमि पूजन के कार्यक्रम को बाकी लोग भी देख सकें, इसके लिए जगह-जगह टीवी स्क्रीन लगाई जाएंगी. भूमि पूजन का ‘दूरदर्शन’ पर लाइव प्रसारण भी किया जाएगा. ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास ने बताया कि भूमि पूजन के लिए 40 किलो चांदी से बनी एक ईंट रखी जाएगी.

ट्वीट में देखिए चांदी की वह ईंट जिसका उपयोग भूमि पूजन में होगा.

अयोध्या की सजावट शुरू

भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए अयोध्या की सजावट शुरू हो चुकी है. जगह-जगह रंग-रोगन किया जा रहा है. राम के जीवन से जुड़ी हुई कलाकृतियां और पेंटिंग बनाई जा रही हैं. फ्लाईओवर, पार्क जैसी जगहों की मरम्मत का काम हो रहा है. सड़कों को भी ठीक कराया जा रहा है.

भूमि पूजन से पहले अयोध्या को खूबसूरत बनाने पर काम हो रहा है.
भूमि पूजन से पहले अयोध्या को खूबसूरत बनाने पर काम हो रहा है.

दो दिन तक दिवाली की तरह जलाए जाएंगे दीए

भूमि पूजन से दो दिन पहले यानी 3 अगस्त से ही अयोध्या में उत्सव शुरू हो जाएगा. प्रशासन की ओर से शहर में लाखों दीए जलाए जाने की तैयारी है. साथ ही लोगों से अपील की जाएगी कि वे अपने घरों के बाहर दीए जलाएं.

अयोध्या में दीवारों की सजावट का काम शुरू हो चुका है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस बारे में कहा,

अयोध्या में 4 और 5 अगस्त की रात को सभी घरों और मंदिरों में दीपोत्सव होगा. दिवाली अयोध्या से जुड़ी है. अयोध्या के बिना इस त्योहार के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता.

 

भूमि पूजन के दिन हरे रंग के वस्त्र पहनेंगे रामलला

भूमि पूजन के दिन रामलला की मूर्ति को हरे रंग के वस्त्र पहनाए जाएंगे. ‘आज तक’ की खबर के अनुसार, इन वस्त्रों में नवरत्न जड़ा होगा. रामलला के साथ ही तीनों भाई- लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न और हनुमान को भी नई पोशाक पहनाई जाएगी. रिपोर्ट के अनुसार, रामलला के लिए वस्त्रों की सिलाई बाबूलाल टेलर्स के नाम से शंकर लाल का परिवार करता रहा है. रामादल के अध्यक्ष पंडित कल्कि राम के द्वारा इन वस्त्रों को तैयार कराया जा रहा है. इन वस्त्रों को वह राम जन्मभूमि के पुजारी सत्येंद्र दास को सौंपेंगे.

राम मंदिर निर्माण के लिए राजस्थान से पत्थर मंगाए गए हैं. (Photo: PTI)
राम मंदिर निर्माण के लिए राजस्थान से पत्थर मंगाए गए हैं. (Photo: PTI)

हाहाकारी भूकंप भी झेल जाएगा मंदिर

आर्किटेक्ट चंद्रकांत सोमपुरा 1990 से राम मंदिर के डिज़ाइन पर काम कर रहे थे. उन्हें ही नए मंदिर की ज़िम्मेदारी भी दी गई है. उनके बेटे आशीष ने ‘दैनिक जागरण’ से कहा कि मंदिर भूकंप के झटके सहने में भी सक्षम होगा. अगर रिक्टर पैमाने पर भूकंप की क्षमता 10 भी रहती है, तो भी मंदिर को कुछ नहीं होगा.

मंदिर नागर शैली में बनाया जाएगा. इसमें एक साथ 10 हजार लोग दर्शन कर सकेंगे. राम मंदिर के निर्माण के लिए राजस्थान से पत्थर मंगाया गया है. इसमें भरतपुर, जोधपुर के पत्थर के साथ ही मकराना का संगमरमर भी शामिल है.

राम मंदिर का नया मॉडल. अब तीन की जगह मंदिर में पांच शिखर होंगे.
राम मंदिर का नया मॉडल. अब तीन की जगह मंदिर में पांच शिखर होंगे.

‘टाइम कैप्सूल’ पर असमंजस

मंदिर निर्माण से पहले जमीन में ‘टाइम कैप्सूल’ रखने की खबर आई थी. राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने ये जानकारी दी थी. उन्होंने कहा था कि जमीन में 2000 फीट नीचे ‘टाइम कैप्सूल’ रखा जाएगा. कहा गया कि इसमें मंदिर का पूरा इतिहास-भूगोल, सारी जानकारियां दर्ज़ होंगी, जो आने वाले कई साल तक ज़मीन के भीतर सुरक्षित रहेंगी. ताकि भविष्य में जन्मभूमि और राम मंदिर का इतिहास देखा जा सके और कोई विवाद न हो. लेकिन 28 जुलाई को राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के ही जनरल सेक्रेटरी चंपत राय ने इसका खंडन कर दिया है. कहा कि ‘टाइम कैप्सूल’ रखने की खबर गलत है.

अब देखना होगा कि इसमें आगे क्या अपडेट आता है. जो भी आएगा, जब भी आएगा, आपको जरूर बताया जाएगा.


Video: अयोध्या राम मंदिर की नीव में 2,000 फीट नीचे पीएम मोदी दफनाएंगे टाइम कैप्सूल

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

'मेरे महबूब क़यामत होगी' वाली हीरोइन नहीं रहीं

इन्हें भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री की पहली फिल्म 'गंगा मैया तोहे चुनरी चढ़इबो' में भी काम करने का गौरव प्राप्त है.

पैसों की कमी के चलते परिवार ने एक्टर का डायलिसिस रोका, अब ICU में भर्ती हैं

अनुपम श्याम ने 'प्रतिज्ञा' सीरियल में ठाकुर सज्जन सिंह का नेगेटिव रोल निभाया था, जो खासा लोकप्रिय हुआ था.

Oxford की कोरोना वाली वैक्सीन को लेकर भारत में क्या बड़ा होने जा रहा है?

ऑक्सफर्ड में तैयार हुई इस वैक्सीन के पहले दो फेज़ के ट्रायल सफल रहे हैं.

इस नई तकनीक से पांच मिनट में ही फोन की बैटरी 50% चार्ज हो जाएगी, पर कैसे

क्वाल्कॉम क्विक चार्ज 5 की खास बातों पर एक नज़र.

अयोध्या में 'टाइम कैप्सूल' को लेकर गज़ब का कन्फ्यूजन चल रहा है

एक जने बोले- रखा जाएगा, अब दूसरे जने बोले- ना.

23 सरकारी कंपनियों में हिस्सेदारी बेचने पर वित्त मंत्री ने बड़ी बात कही है

मोदी सरकार लंबे समय से इस जुगत में लगी है.

इस ऐप पर फिल्म-सीरीज़ देखने के लिए दिन का सिर्फ एक रुपया खर्च करना पड़ेगा

लेकिन कमिटमेंट पूरे साल का देना होगा.

हेलमेट को लेकर कहासुनी हुई तो पुलिसवाले ने बाइक सवार के सिर में चाभी घोंप दी

मामला उत्तराखंड के उधमसिंह नगर का है.

सुरक्षा बलों के लिए जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने 49 बरस पुराना नियम बदल दिया है

27 अगस्त, 1971 से लागू था वो नियम.

सबकुछ ठीक करते हुए भी इंग्लैंड के साथ चौथे दिन फिर खेल हो गया!

बारिश ने चौथे दिन एक गेंद नहीं फेंकने दी, आखिरी दिन कौन मारेगा बाज़ी!