Submit your post

Follow Us

राहुल गांधी चुनाव तो हारे, अब अपना घर भी गंवाने जा रहे!

5
शेयर्स

राहुल गांधी को अपना सरकारी बंगला अब खाली करना होगा. वजह? क्योंकि राहुल गांधी अमेठी से अपना चुनाव हार गए हैं.

नई दिल्ली में राहुल गांधी के बंगले का पता है 12, तुग़लक लेन. ये बंगला उन्हें 2004 में मिला था, जब वे पहली बार अमेठी से चुनाव जीत कर लोकसभा पहुंचे थे. लेकिन इस बार हार गए.

नियमानुसार चुनाव हार गए सांसदों को नई दिल्ली में मिला अपना सरकारी आवास खाली करना होता है. राहुल गांधी पर भी ये नियम लागू होता ही है. जीते सांसदों को फिर से बंगले आवंटित किए जाते हैं. वह भी उनकी प्राथमिकता के आधार पर. ये काम लोकसभा सचिवालय की तरफ से किया जाता है.

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक़ लोकसभा सचिवालय से खाली किये जाने वाले बंगलों की सूची आई है, जिसमें राहुल गांधी का पता भी शामिल है.

दूसरी तरफ राहुल गांधी ने वायनाड लोकसभा से चुनाव में जीत दर्ज की है. तो शायद उन्हें फिर से सरकारी बंगला आवंटित किया जाएगा.

राहुल गांधी का मौजूदा सरकारी बंगला 12, तुग़लक लेन. सरकारी बंगलों की “टाइप 8” केटेगरी में आता है. टाइप 8 बंगले दिल्ली के लुटियन इलाके की सबसे ऊंची श्रेणी में गिने जाते हैं. लुटियन यानी दिल्ली का वो इलाका, जिसे ब्रिटिशकाल के आर्किटेक्ट एडवर्ड लुटियन ने डिज़ाइन किया था, जहां बड़े-बड़े नेताओं के बंगले हैं.

नियमों के अनुसार, लोकसभा सचिवालय सांसदों को खाली बंगलों की सूची मुहैया कराता है. सांसद इन बंगलों में से अपने पसंद के घर चुनकर आवेदन कर सकते हैं. एएनआई के मुताबिक़, सांसदों को इस बार 517 बंगलों की सूची मुहैया करायी गयी है. राहुल गांधी का बंगला भी इसी सूची में शामिल है.

हालांकि समाचार एजेंसी के सूत्रों के अनुसार राहुल गांधी के दफ्तर ने लोकसभा सचिवालय की इस सूची के बारे में कोई भी जानकारी होने से इंकार किया है.

अमेठी लोकसभा पहली बार जीतने के बाद राहुल गांधी को ये बंगला मिला था. 2005 में, राहुल गांधी ने इस घर में गृह प्रवेश किया तो अपनी सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी, रॉबर्ट वाड्रा और उनके बच्चों के साथ एक छोटी-सी पूजा की.

इसके पहले राहुल गांधी 10, जनपथ रोड पर रहते थे, जो सोनिया गांधी का आवास है. राहुल गांधी ने सबसे पहले 12, तुग़लक लेन को अपना दफ्तर बनाने का फैसला लिया था. इसके पहले वे राज्यसभा सांसद और गांधी परिवार के करीबी कैप्टन सतीश शर्मा के सरकारी आवास 35, रक़ाबगंज रोड से अपना दफ्तर संचालित करते थे.

नेताओं के सरकारी बंगलों पर बहुत लम्बे बवाल पहले हो चुके हैं. अखिलेश यादव पर आरोप लगे कि बतौर मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश उन्हें जो सरकारी बंगला मिला था, उसे खाली करते हुए वे नलों की टोटियां और ज़मीन पर लगी टाइलें खोल ले गए. पीडब्ल्यूडी ने प्रदेश सरकार को रिपोर्ट सौंपी कि अखिलेश यादव ने बंगला खाली करते हुए तकरीबन 10 लाख का नुकसान किया.

पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के बेटे और बागपत से सांसद रह चुके चौधरी अजित सिंह जब 2014 में अपना लोकसभा चुनाव सत्यपाल सिंह के हाथों हार गए, तो उनसे उनका 12, तुग़लक रोड (‘लेन’ नहीं) वापिस लिया गया. ये बंगला चरण सिंह के समय से उनके पास था. यूपी के जाट समुदाय – जिनके बीच अजित सिंह और चरण सिंह की पहुंच है – इस बंगले को लेकर बहुत भावुक रहे हैं. जब अजित सिंह को बंगला खाली करना था, तो पश्चिम यूपी से कई जाट बंगले पर पहुंच गए और अजित सिंह से बंगला खाली न करने के लिए कहने लगे. लेकिन कहानी है कि अजित सिंह ने बंगला खाली किया, चलते-चलते अपने पिता चरण सिंह की फोटो उतारी और पश्चिम यूपी से आए जाटों-किसानों से कहा, “चलो अब नए ठिकाने.”


लल्लनटॉप वीडियो: झारखंड के लातेहार में 65 साल के बुजुर्ग की मौत, घर में नहीं था अन्न का एक दाना

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Rahul Gandhi official home 12 Tughlaq Road to be taken back after he lost Amethi Election

टॉप खबर

राजीव गांधी के हत्यारे ने संजय दत्त की मुश्किलें बढ़ा दी हैं

जेल में बंद पेरारिवलन ने संजय दत्त से जुड़ी बहुत सी जानकारी इकट्ठी की है.

कठुआ केस के छह दोषियों को क्या सज़ा मिली?

अदालत ने सात में से छह आरोपियों को दोषी माना था. मास्टरमाइंड सांजी राम का बेटा विशाल बरी हो गया.

कठुआ केस में फैसला आ गया है, एक बरी, छह दोषी करार

दोषियों में तीन पुलिसवाले भी शामिल हैं.

पांच साल की बच्ची से रेप किया और फिर ईंटों से कूंचकर मार डाला

उज्जैन में अलीगढ़ जैसा कांड, पड़ोसी ही निकला हत्यारा...

अफगानिस्तान किन गलतियों से श्रीलंका से जीता-जिताया मैच हार गया?

मलिंगा का तो जोड़ नहीं.

क्या चुनावी नतीजे आने के 10 दिनों के अंदर यूपी में 28 यादवों की हत्या हुई है?

28 नामों की एक लिस्ट वायरल हो रही है. लेकिन सच क्या है?

मायावती ने ऐसा क्या कह दिया कि फिलहाल गठबंधन को टूटा मान लेना चाहिए

प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने गठबंधन तोड़ने का सीधा ऐलान तो नहीं किया, लेकिन बहुत कुछ कह गयीं.

चुनाव नतीजे आए दस दिन हुए नहीं, मायावती ने गठबंधन पर सवाल उठा दिए

वो भी तब जब मायावती के पास जीरो से बढ़कर दस सांसद हो गए हैं

अरविंद केजरीवाल ने चुनाव में बंपर वोट खींचने वाला ऐलान कर दिया है

वो ऐसी स्कीम लेकर आए हैं कि दिल्ली-NCR की महिलाएं खुश हो गईं.

आखिर क्या सोचकर मोदी ने UP के इन नेताओं को कैबिनेट में जगह दी है?

इनमें कुछ से पिछली सरकार के दौरान बीच में ही मंत्रालय छीन लिया गया था.