Submit your post

Follow Us

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस्तीफा दिया

पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में महीनों से चल रही खींचतान का नतीजा सामने आ गया है. पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने शनिवार यानी 18 सितंबर को शाम तकरीबन 4 बजे अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया. इस्तीफे देने की जानकारी कैप्टन अमरिंदर सिंह के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने ट्वीट करके दी.

सूत्रों के मुताबिक इससे पहले सुबह अमरिंदर सिंह ने सोनिया गांधी से फोन पर बात की और कहा कि “इस तरह के अपमान के साथ वह कांग्रेस में नहीं रह सकते हैं.” जानिए कैसे 18 सितंबर सुबह से ही कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे का काउंटडाउन शुरू हो गया था.

मीटिंग पर मीटिंग

आज यानी 18 सितंबर को पंजाब में कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग बुलाई गई थी. ये मीटिंग ही मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के लिए परेशानी का सबब बनी, क्योंकि करीब 40 से ज्यादा नाराज विधायकों ने उन्हें हटाने की मांग करते हुए पार्टी आलाकमान को चिट्ठी लिखी थी. इस विधायक दल की बैठक में सभी विधायकों को अनिवार्य रूप से शामिल होने को कहा गया था. इसमें पर्यवेक्षक के तौर पर हरीश रावत और अजय माकन मौजूद रहेंगे.

हालांकि कांग्रेस की मीटिंग से पहले ही अमरिंदर सिंह ने इस्तीफा सौंप दिया. इस्तीफे से पहले कैप्टन ने अपने करीबियों की एक मीटिंग बुलाई थी, जिसमें मंत्रियों समेत 16 विधायक मौजूद थे. इस्तीफा देते वक्त कैप्टन के साथ उनका परिवार था. जो मंत्री-विधायक मीटिंग में पहुंचे थे, वे सब 5 बजे होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक के लिए पंजाब कांग्रेस भवन निकल गए थे. 18 सितंबर की सुबह सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सोनिया गांधी को फोन करके AICC द्वारा बिना उन्हें विश्वास में लिए कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाए जाने पर ऐतराज दर्ज कराया था. उन्होंने कहा था कि अगर इसी तरह से पार्टी में उन्हें दरकिनार किया जाता रहा तो वो बतौर सीएम बने रहने के इच्छुक नहीं हैं. वहीं, सिद्धू खेमे की ओर से कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाए जाने की चर्चा थी. कहा गया कि पीपीसीसी की मीटिंग में एक संकल्प पास करके फैसला लेने के लिए पार्टी हाईकमान को अधिकृत कर दिया जाएगा. उसके बाद नए सीएम की घोषणा कर दी जाएगी. पंजाब में शपथ ग्रहण भी श्राद्ध का वक्त शुरू होने से पहले ही करा दिया जाएगा. सीएम के लिए सुनील जाखड़, सुखजिंदर रंधावा और अंबिका सोनी का नाम आ रहा है. हालांकि सबसे तगड़ी दावेदारी सुनील जाखड़ की मानी जा रही है. सुनील जाखड़ ने 9 अगस्त के बाद 18 सितंबर को ट्वीट किया और लिखा.

“श्री राहुल गांधी की जय, गॉर्डियन गांठ के इस पंजाबी संस्करण के लिए अलेक्जेंड्रिया समाधान अपनाने के लिए. हैरानी की बात ये है कि पंजाब कांग्रेस के विवाद को सुलझाने के इस साहसिक फैसले ने न सिर्फ कांग्रेस कार्यकर्ताओं को रोमांचित किया है, बल्कि अकालियों की रीढ़ में भी कंपकपी पैदा कर दी है.”

सिद्धू के सलाहकार ने कहा सीएम का चेहरा बदला जाए

पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने भी ट्वीट कर इस बात की पुष्टि की कि कांग्रेस पार्टी के निर्देश पर 18 सितंबर को विधायक दल की बैठक बुलाई गई है.

वहीं सिद्धू के सलाहकार मोहम्मद मुस्तफा ने ट्वीट कर लिखा,

“2017 में पंजाब ने हमें 80 विधायक दिए, लेकिन दुखद ये है कि कांग्रेस पार्टी एक अच्छा मुख्यमंत्री पंजाब को नहीं दे पाई. पंजाब के दुख और दर्द को समझते हुए अब समय आ गया है कि मुख्यमंत्री का चेहरा बदला जाए.”

इधर, पंजाब कांग्रेस के महासचिव परगट सिंह ने स्वीकार किया कि विधायकों ने हाई कमान को चिट्ठी लिखी थी. उन्होंने आजतक से कहा कि ये किसी की अहंकार का सवाल नहीं है. विधायक लंबे समय से बैठक की मांग कर रहे थे, जो अभी तक हुई नहीं थी. वहीं परगट ने माना कि कांग्रेस में किसी तरह की गुटबाजी नहीं है और किसी भी तरह का एजेंडा विधायकों तक नहीं पहुंचाया गया है. सिर्फ उनको कांग्रेस दफ्तर में आने और बैठक में भाग लेने के लिए कहा गया है.

शुरू से ही कैप्टन और सिद्धू के बीच है 36 का आंकड़ा

2017 में पंजाब में कांग्रेस ने विधानसभा का चुनाव जीता. कैप्टन अमरिंदर सिंह मुख्यमंत्री बने. मुख्यमंत्री बनने के बाद भी कैप्टन अमरिंदर की हाई कमान के साथ हमेशा एक असहजता दिखती रही. और इस असहजता का फायदा मिला बीजेपी छोड़कर 2017 में ही कांग्रेस में शामिल हुए नेता नवजोत सिंह सिद्धू को. नवजोत सिंह सिद्धू ने हाई कमान की सिफारिश के साथ डिप्टी सीएम बनने का दावा पेश किया. लेकिन कैप्टन अमरिंदर नहीं माने. कैबिनेट मंत्री बने, लेकिन बाद में वहां से भी इस्तीफा दे दिया. और कैप्टन अमरिंदर के विरोध का मोर्चा संभाल लिया. नवजोत सिंह सिद्धू अपने ही मुख्यमंत्री पर सवाल उठात रहे, कांग्रेस सरकार के कामों पर सवाल उठाते रहे. उसके बावजूद गांधी परिवार के भरोसेमंद बने रहते हैं. दोनों के झगड़े के दौरान जब कैप्टन अमरिंदर सिंह दिल्ली गए तो गांधी परिवार से मिलने का वक्त नहीं मिला. लेकिन सिद्धू की राहुल गांधी से मुलाकातों वाली तस्वीरें आती रहीं.

Cm Captain Amarinder Singh And Navjot Singh Sidhu
कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू की तकरार के चलते कांग्रेस की अंदरूनी सियासत पहले से सुर्खियों में है. (फाइल फोटो)

नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाने का दिलासा 2019 में मंत्री पद छोड़ने के बाद से ही दिया जा रहा था. लेकिन सीएम अमरिंदर इस तरह की चर्चाओं में वीटो करते आए हैं. अमरिंदर की दलील ये रही है कि सिद्धू अभी पार्टी में नए हैं, 2017 में ही शामिल हुए. इसलिए किसी सीनियर नेता को पार्टी की कमान देनी चाहिए. दूसरी दलील ये कि मुख्यमंत्री सिख हैं तो पार्टी अध्यक्ष गैर-सिख होना चाहिए. हालांकि देर से ही सही पंजाब में 23 जुलाई को नवजोत सिंह सिद्धू ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर शपथ ले ली. समारोह के पहले खुसुर-पुसुर थी कि सिद्धू से तमाम मतभेदों के बीच मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह यहां आएंगे कि नहीं. लेकिन अमरिंदर पहुंचे, भाषण दिया, सिद्धू से बातचीत भी हुई. लेकिन कैप्टन और सिद्धू के रिश्ते असहज ही बने रहे. कैप्टन के इस्तीफे के बाद अब सबकी नजरें इस बात पर हैं कि पंजाब का अगला सीएम कौन होगा. हालांकि ये बाद भी देखने वाली होगी कि कैप्टन अमरिंदर सिंह का राजनीतिक भविष्य अब क्या मोड़ लेगा. सोशल मीडिया पर उनके बीजेपी जॉइन करने के कयास लगाए जाने लगे हैं.


वीडियो – पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा- निर्णय लेने की छूट नहीं दी गई तो ईंट से ईंट खड़का देंगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

डेढ़ महीने पहले राजनीति छोड़ने का ऐलान करने वाले बाबुल सुप्रियो ने TMC जॉइन की

डेढ़ महीने पहले राजनीति छोड़ने का ऐलान करने वाले बाबुल सुप्रियो ने TMC जॉइन की

केंद्रीय मंत्री पद से हटाए जाने के बाद भाजपा छोड़ी थी.

मनोज पाटिल सुसाइड अटेम्प्ट केस: साहिल खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, कहा नकली स्टेरॉयड्स का रैकेट

मनोज पाटिल सुसाइड अटेम्प्ट केस: साहिल खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, कहा नकली स्टेरॉयड्स का रैकेट

कहानी में एक और किरदार सामने आया है, राज फौजदार.

राजस्थान में अब सब-इंस्पेक्टर परीक्षा का पेपर लीक, वॉट्सऐप बना जरिया

राजस्थान में अब सब-इंस्पेक्टर परीक्षा का पेपर लीक, वॉट्सऐप बना जरिया

पुलिस ने बीकानेर, जयपुर, पाली और उदयपुर से 17 लोगों को गिरफ्तार किया है.

क्या पाकिस्तान यूपी चुनाव में आतंकी हमले कराने की तैयारी में है?

क्या पाकिस्तान यूपी चुनाव में आतंकी हमले कराने की तैयारी में है?

दिल्ली पुलिस ने 6 संदिग्धों को गिरफ्तार कर कई दावे किए हैं.

नसीरुद्दीन शाह ने योगी आदित्यनाथ के 'अब्बा जान' वाले बयान पर बड़ी बात कह दी है!

नसीरुद्दीन शाह ने योगी आदित्यनाथ के 'अब्बा जान' वाले बयान पर बड़ी बात कह दी है!

नसीर ने ये भी कहा कि कई मुस्लिम अपने पिता को बाबा भी कहते हैं.

AIMIM के पूर्व नेता पर FIR, दोस्त के साथ हलाला कराने की कोशिश का आरोप

AIMIM के पूर्व नेता पर FIR, दोस्त के साथ हलाला कराने की कोशिश का आरोप

पूर्व पत्नी ने लगाया रेप के प्रयास का आरोप, AIMIM नेता ने कहा- बेबुनियाद.

75 साल बाद नर्सिंग के पाठ्यक्रम में किए गए बड़े बदलाव हैं क्या?

75 साल बाद नर्सिंग के पाठ्यक्रम में किए गए बड़े बदलाव हैं क्या?

ये बदलाव जनवरी 2022 से लागू होंगे.

पश्चिम बंगाल के पूर्व CM बुद्धदेव भट्टाचार्य की साली बेघर हैं, फुटपाथ पर सोती हैं

पश्चिम बंगाल के पूर्व CM बुद्धदेव भट्टाचार्य की साली बेघर हैं, फुटपाथ पर सोती हैं

इरा बसु वायरोलॉजी में PhD हैं और 30 साल से भी ज्यादा समय तक पढ़ाया है.

'माओवादी' बताकर CRPF ने 8 आदिवासियों का एनकाउंटर किया था, 8 साल बाद ये 'एक भूल' साबित हुई है

'माओवादी' बताकर CRPF ने 8 आदिवासियों का एनकाउंटर किया था, 8 साल बाद ये 'एक भूल' साबित हुई है

यहां तक कि CRPF कान्स्टेबल की मौत भी फ्रेंडली फायर में हुई थी!

अक्षय कुमार की मां का निधन

अक्षय कुमार की मां का निधन

अपने जन्मदिन से सिर्फ एक दिन पहले अक्षय को मिला गहरा सदमा.