Submit your post

Follow Us

महात्मा गांधी का जिक्र कर प्रशांत भूषण सुप्रीम कोर्ट से बोले- मैं रहम नहीं मांगूंगा

मौजूदा चीफ जस्टिस एसए बोबडे और चार पूर्व चीफ जस्टिसों के खिलाफ दो ट्वीट करने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सीनियर वकील प्रशांत भूषण को 14 अगस्त को अवमानना का दोषी करार दिया था. अब 20 अगस्त को प्रशांत भूषण ने इस मामले में विस्तृत बयान जारी किया है. उन्होंने महात्मा गांधी का जिक्र करते हुए अपने ट्वीट्स को जस्टिफाई किया. कहा कि उन्होंने यह सब सोच-समझकर किया था, वे इस पर फिर से विचार नहीं करना चाहते. प्रशांत भूषण ने कहा कि कोर्ट के फैसले से उन्हें दुख हुआ है. वह तो 30 सालों से कोर्ट में एक ‘विनम्र पहरेदार’ की तरह काम कर रहे हैं.

प्रशांत भूषण का पूरा बयान पढ़िए. इसमें उन्होंने कहा है-

मुझे इस बात की पीड़ा है कि मुझे कोर्ट की अवमानना का दोषी माना गया. मुझे संभावित सजा के चलते नहीं बल्कि गलत समझे जाने का दुख है. मैंने इस संस्थान की प्रतिष्ठा को बनाए रखने की कोशिश की है. वो भी एक दरबारी या प्रशंसक के रूप में नहीं बल्कि 30 वर्षों से एक संरक्षक के रूप में. इसके लिए मुझे निजी और पेशेवर रूप से कुछ कीमत भी चुकानी पड़ी है. मैं हैरान हूं कि कोर्ट ने मुझे न्यायपालिका पर दुर्भावनापूर्ण, अपमानजनक और सुनियोजित हमले का दोषी माना.

मैं इस बात से निराश हूं कि अदालत इस मामले में मेरे इरादों का कोई सबूत दिए बिना इस निष्कर्ष पर पहुंची है. मुझे इस बात की भी निराशा है कि कोर्ट ने मुझे शिकायत की वह कॉपी देना भी जरूरी नहीं समझा, जिस पर संज्ञान लेकर मुझे नोटिस दिया गया. इसके अलावा, नोटिस पर मेरे और मेरे वकील के लिखित जवाब की कुछ विशेष बातों पर भी प्रतिक्रिया नहीं दी गई.

मेरे लिए यह विश्वास करना मुश्किल है कि कोर्ट को लगता है कि मेरे ट्वीट्स ने भारतीय लोकतंत्र के अहम स्तंभ की बुनियाद को अस्थिर करने का प्रयास किया है. मैं फिर से कहता हूं कि मेरे दो ट्वीट मेरे वास्तविक विश्वास को व्यक्त करते हैं, जिनकी किसी भी लोकतंत्र में अनुमति होती है. ये एक नागरिक के रूप में अपने कर्तव्य का निर्वहन करने के लिए किए गए प्रयास थे. न्यायपालिका के स्वस्थ कामकाज के लिए खुली आलोचना जरूरी है.

हमारे इतिहास में ऐसे समय में रह रहे हैं, जब संवैधानिक सिद्धांतों को रोजमर्रा के कामों से ऊपर रखना चाहिए. जब संवैधानिक ढांचे को बचाना निजी और पेशेवर कामों से पहले होना चाहिए. आज के लिए भविष्य की जिम्मेदारियों को नहीं त्यागना चाहिए. कोर्ट के मेरे जैसे व्यक्ति के लिए बोलने में असफल होना कर्तव्यों की तिलाजंलि देना होगा.

मेरे ट्वीट हमारे गणतंत्र के इतिहास के इस मोड़ पर मेरे सबसे बड़े कर्तव्य को निभाने का एक छोटा-सा प्रयास थे. मैंने दिमागी सोच-समझ को गंवाकर ये ट्वीट नहीं किए थे. मेरा अपने ट्वीट्स के लिए माफी मांगना पाखंड और अपमानजनक होगा. मैं पूरी विनम्रता से वह दोहराता हूं, जो राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने अपने केस में कहा था- मैं रहम नहीं चाहता. मैं उदारता की अपील भी नहीं करता. मैं यहां हूं ताकि कानूनी रूप से मुझे जो भी सजा मिले, उसे खुशी-खुशी मंजूर कर सकूं.

कोर्ट ने भूषण को 2-3 दिन का समय दिया

प्रशांत भूषण के इस बयान और लंबी बहस के बाद सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें अपने बयान पर पुनर्विचार करने के लिए दो-तीन दिन का समय दिया है. कोर्ट ने कहा कि अगर कोई व्यक्ति अपनी गलती मान लेता है और उसे ठीक करना चाहता है तो वे नरम रुख अपना सकते हैं. ऐसे में उन्हें कुछ समय दिया जाता है. माना जा रहा है कि 24 अगस्त को इस मामले में फिर से सुनवाई हो सकती है.


Video: चीफ जस्टिस पर प्रशांत भूषण की टिप्पणी के मामले में सुप्रीम कोर्ट में क्या हुआ?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?

सलमान खान की रेकी करने वाला शार्प शूटर पकड़ा गया

जनवरी में रची गई थी सलमान खान की हत्या की साजिश!

रोहित शर्मा और इन तीन खिलाड़ियों को मिलेगा इस साल का खेल रत्न!

इसमें यंग टेबल टेनिस सेंसेशन का भी नाम शामिल है.

प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित जसराज नहीं रहे

पिछले कुछ समय से अमेरिका में रह रहे थे.

प. बंगाल: विश्व भारती यूनिवर्सिटी में जबरदस्त हंगामा, उपद्रवियों ने ऐतिहासिक ढांचे भी ढहाए

एक फेमस मेले ग्राउंड के चारों तरफ दीवार खड़ी की जा रही थी.

धोनी के 16 साल के क्रिकेट करियर की 16 अनसुनी बातें

धोनी ने रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया है.

धोनी के तुरंत बाद सुरेश रैना ने भी इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा

इंस्टाग्राम पोस्ट के ज़रिए रिटायरमेंट की बात बताई.

धोनी क्रिकेट से रिटायर, फैंस ने बताया, एक जनरेशन में एक बार आने वाला खिलाड़ी

एक इंस्टाग्राम पोस्ट करके विदा ले ली धोनी ने.