Submit your post

Follow Us

स्पोर्ट्स फ़ैन्स को खुश कर देगी ओडिशा सरकार की ये योजना

Tokyo Olympics में भारतीय हॉकी टीम के शानदार प्रदर्शन के बाद ओडिशा सरकार ने राज्य में स्पोर्ट्स को बढ़ावा देने के लिए नए कदम उठाए हैं. भारतीय हॉकी टीम को आर्थिक सपोर्ट करने वाली ओडिशा सरकार अब राज्य में 89 इनडोर स्टेडियम बनाने जा रही है. यह स्टेडियम मल्टीपर्पस होंगे, जिसका इस्तेमाल कई तरीकों से किया जाएगा.

मीडिया रिलीज के अनुसार,

‘राज्य सरकार राज्य में खेलों के विकास पर लगातार अपना ध्यान केंद्रित कर रही है. पिछले कुछ सालों में, राज्य ने खेलों के विकास और खेल आयोजनों के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान का टैग अर्जित किया है. इस प्रोजेक्ट की शुरुआत 5T पहल के तहत स्पोर्ट्स फील्ड को बदलने के तौर पर की गई है. साथ ही इस प्रोजक्ट के आधारभूत ढांचे का प्लान मुख्यमंत्री, जनप्रतिनिधियों और स्पोर्ट्सपर्सन के निर्देशन में किया गया है.’

मीडिया से बात करते हुए, ओडिशा के चीफ सेक्रेटरी सुरेश चंद्र महापात्र ने कहा,

‘राज्य मंत्रिमंडल ने ‘शहरी खेल अवसंरचना विकास परियोजना’ के तहत 89 बहु-उपयोगी इनडोर स्टेडियमों के निर्माण को मंजूरी दे दी है. इसका कुल खर्चा 693.35 करोड़ रुपये है. ये अगले 18 महीने में पूरा हो जाएंगे. इस प्रोजेक्ट के साथ, एक उभरती हुई खेल शक्ति के रूप में ओडिशा की छवि और मजबूत होगी.’

# स्टेडियम के पीछे का विजन

बहु-उपयोगी स्टेडियम के विजन की बात की जाए तो, इस 693.5 करोड़ के प्रोजेक्ट के जरिए सरकार का लक्ष्य इन स्टेडियमों में ट्रेनिंग प्रोग्राम का आयोजन करना है. स्टेडियमों में बैडमिंटन, टेबल टेनिस, योग और जिमनास्टिक की सुविधाएं देना है. साथ ही इनडोर हॉल का उपयोग इनडोर खेलों के लिए भी किया जाने वाला है, जिससे स्थानीय लोकप्रियता के अनुसार खेलों को बड़े लेवल पर जगह मिले सके.

इसके अलावा इन स्टेडियम का उपयोग ऑफिशल मीटिंग और परीक्षा केंद्रों का आयोजन के लिए भी किया जाना है. साथ ही इस स्टेडियम का निर्माण इस तरीके से भी किया जाने वाला है कि यह 200 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार वाले चक्रवातों का सामना कर सके. और समय आने पर इस स्टेडियम का इस्तेमाल चक्रवात और बाढ़ आश्रयों के रूप में भी किया जा सके. और हेल्थ इमरजेंसी के समय इसे 50-100 बिस्तरों वाले फील्ड हॉस्पिटल में भी तब्दील किया जा सके.


टोक्यो ओलंपिक में गए वो खिलाड़ी, जो मेडल तो नहीं ला पाए पर प्रदर्शन कमाल का किया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?