Submit your post

Follow Us

छुअन और तपन पर इन दो वैज्ञानिकों ने ऐसा क्या खोज लिया कि मेडिसिन का नोबेल मिल गया?

नोबेल पुरस्कार. बोलचाल की भाषा में इसे दुनिया का सबसे चर्चित पुरस्कार भी कहा जाता है. इसकी घोषणा हो गई है मित्रों. जनरल नॉलेज का रट्टा मारने वाले और सरकारी नौकरियों की तैयारी करने वाले नाम याद कर लें. इस साल यानी कि 2021 में मेडिसिन के क्षेत्र में ये पुरस्कार मिला है डेविड जूलियस और आर्डेम पेटापोशियन को संयुक्त रूप से. 66 साल के डेविड अमेरिका के न्यूयॉर्क में पैदा हुए थे और फिलहाल सैन फ्रांसिस्को की एक यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं. जबकि 54 साल के आर्डेम की पैदाइश बेरुत, लेबनान की है. फिलहाल वे अमेरिका के कैलिफोर्निया की एक रिसर्च ऑर्गनाइजेशन में प्रोफेसर हैं.

ऐसा क्या किया कि मिला पुरस्कार?

डेविड और आर्डेम को नोबेल पुरस्कार मिला है तापमान और स्पर्श के लिए रिसेप्टर्स की खोज करने के लिए. अब ये रिसेप्टर्स क्या होते हैं वो पहले समझिए. रिसेप्टर्स वो संवेदी अंग होते हैं जो बाहरी बदलावों के बारे में हमारे शरीर को बताते हैं. बाहरी बदलावों का मतलब ठंडा, गरम या लाइट वगैरह. वैज्ञानिक भाषा में नहीं समझ आ रहा तो आसान भाषा में समझते हैं. रिसेप्टर्स ही हमारे शरीर को बताते हैं कि ठंडा, गरम महसूस होने पर किस तरह से रिएक्ट करना है.

नोबेल असेम्बली ने बताया कि गर्मी, ठंड और स्पर्श को महसूस करने की हमारी जो क्षमता है, वो जीवित रहने के लिए बहुत आवश्यक है. अपने दैनिक जीवन में हम इसे बहुत हल्के में लेते हैं लेकिन वैज्ञानिकों के सामने ये अब तक अनसुलझा सवाल था कि आखिर तापमान या स्पर्श को डिटेक्ट कैसे किया जाता है और शरीर के उस हिस्से में पहुंचाया जाता है जहां इनका मतलब हमारे शरीर को समझ में आता है? इस साल के नोबेल पुरस्कार विजेताओं ने इस सवाल का जवाब खोजने में सफलता पाई है.

कित्ता पइसा मिलेगा इनाम में?

नोबेल पुरस्कार जीतने वाले को मिलता है एक गोल्ड मेडल और 10 मिलियन स्वीडिश क्रोनोर. अपने वाले पैसे में बदलने पर गूगल जी बता रहे हैं कि 85300021.32 रुपए होता है. इकाई दहाई सैकड़ा में जोड़ें तो ये होता है 8 करोड़ 53 लाख 21 रुपए और 32 पैसे. बहुत पइसा होता है मित्रों. लेकिन अब सवाल ये कि इत्ता पइसा आता कहां से है?

अल्फ्रेड नोबेल (फोटो- PTI)
अल्फ्रेड नोबेल (फोटो- PTI)

ये पुरस्कार का पैसा आता है नोबल बाबा की वसीयत से. इन्हीं के नाम पर ये पुरस्कार दिया जाता है. पूरा नाम है अल्फ्रेड नोबेल. स्वीडन के रहने वाले थे. एकदम जीनियस इंसान थे. अगर आपने अपने बाल्यकाल में किसने किस चीज का अविष्कार किया, वाले चैप्टर का ध्यान करेंगे तो उसमें इनका नाम भी मिलेगा. हमने तो पढ़ी थी, आपने नहीं पढ़ी तो बता दे रहे हैं डायनामाइट का अविष्कार इन्हीं अल्फ्रेड नोबेल ने किया था. वही डायनामाइट जो बड़े-बड़े पहाड़ों के टुकड़े-टुकड़े कर देता है.

अल्फ्रेड ने ज़िदंगी भर खूब पैसा कमाया, नाम कमाया. 1896 में हो गई इनकी मौत. फिर खोली गई इनकी वसीयत, जिसमें लिखा था कि इनकी सारी कमाई फिजिक्स, केमिस्ट्री, लिटरेचर, फिजियोलॉजी या मेडिसिन और शांति के फील्ड में शानदार काम करने वालों को दी जाए. प्राइज़ के तौर पर. बस तब से ये रीत चली आ रही है. तो इसे फिलहाल के लिए यहीं खत्म करते हैं. नोबेल पुरस्कार के लिए अप्लाई करना हो या फिर इसके बारे में और अधिक जानकारी चाहिए हो तो फिर हमारी साथी लालिमा ने आपके लिए ये वाली स्टोरी लिख कर रखी हुई है. पढ़ लीजिए.

नोबेल की तारीख आ गई, डॉनल्ड ट्रंप पहुंच गए, आप भी जल्दी अप्लाई कर दीजिए


इन वैज्ञानिकों को ब्लैक होल में क्या दिखा कि फिज़िक्स का नोबेल प्राइज़ मिल गया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

Bull Run कांड में सेबी का फैसला, एक ही परिवार के 6 लोगों पर लगा बैन.

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

कांग्रेस की पहली लिस्ट में 50 महिला उम्मीदवार शामिल हैं

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

तस्वीर गौर से देखेंगे तो समझ आ जाएगा, हम तो बता ही देंगे.

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

बीते 24 घंटों के भीतर यूपी के दो कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है.

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने असल में क्या कहा है?

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

कोरोना के केस बढ़ने के बीच DDMA की नई गाइडलाइंस जारी.

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP की तारीफ़ का सच.

Nykaa का IPO अशनीर ग्रोवर और कोटक महिंद्रा के बीच जंग की वजह कैसे बन गया?

Nykaa का IPO अशनीर ग्रोवर और कोटक महिंद्रा के बीच जंग की वजह कैसे बन गया?

BharatPe के लीगल नोटिस और अशनीर ग्रोवर के 'गाली' वाले ऑडियो पर क्या बोला Kotak?

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi भारत में सबसे ज्यादा मोबाइल बेचने वाली चीनी कंपनी है.

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद ने कहा, "मुसलमानों से हिंदुओं को मरवाओगे क्या?"