Submit your post

Follow Us

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने संसद भंग करने की सिफारिश की

नेपाल में राजनीतिक संकट खड़ा हो गया है. प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने संसद भंग करने की सिफारिश की है. 20 दिसंबर, सुबह 10 बजे नेपाल के पीएम ने कैबिनेट की आपात बैठक बुलाई. इसके बाद राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी से संसद भंग करने की सिफ़ारिश कर दी.

रॉयटर्स की खबर के मुताबिक, नेपाल की सत्ताधारी वामपंथी पार्टी की केंद्रीय समिति के सदस्य बिश्नु रिजाल ने बताया,

प्रधानमंत्री ने संसदीय दल, सेंट्रल कमिटी और पार्टी सचिवालय में अपना बहुमत खो दिया है. उन्होंने पार्टी में मौजूदा स्थिति का हल निकाले बिना आनन-फानन में संसद भंग करने का फ़ैसला लिया है.

इससे पहले, पीएम ओली पर संवैधानिक परिषद अधिनियम से संबंधित एक अध्यादेश को वापस लेने का दबाव था, जिसे उन्होंने 15 दिसंबर को जारी किया था. राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी ने इसे एक घंटे के भीतर मंजूरी दे दी थी. अधिनियम उन्हें पूर्ण कोरम के बिना केवल तीन सदस्यों की उपस्थिति में बैठक बुलाने और निर्णय लेने का अधिकार देता है.

पार्टी के नेता ओली के खिलाफ

पार्टी के ज्यादातर नेता ओली के खिलाफ हो चुके हैं. वे कई दिन से उनके इस्तीफे की मांग कर रहे हैं. पिछले महीने ओली का विरोध कर रहे नौ नेताओं ने बंद कमरे में मीटिंग की थी. इनमें से छह ने प्रधानमंत्री का इस्तीफा मांगा था. मीटिंग के बाद पार्टी प्रवक्ता नारायण काजी श्रेष्ठ ने कहा था- तमाम बातों पर गंभीरता से विचार किया गया है. कुछ चीजें सामने आई हैं और इन पर बातचीत की ज़रूरत है.

पुष्प कमल दहल प्रचंड की अगुआई वाले विरोधी खेमे ने ओली को 19 पेज का प्रस्ताव सौंपा था. इसमें सरकार के कामकाज और पार्टी विरोधी नीतियों पर सवाल उठाए गए थे. ओली प्रधानमंत्री के साथ पार्टी अध्यक्ष भी हैं. पुष्प कमल दहल प्रचंड ने पीएम ओली पर भ्रष्टाचार में शामिल होने और मनमाने ढंग से सरकार चलाने के आरोप लगाए थे.

हिंदू राष्ट्र का मुद्दा उठा

नेपाल की मुख्य विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस ने प्रधानमंत्री केपी शर्मा की सरकार पर आरोप लगाया था कि वह राजशाही की मौन हिमायत कर रहे हैं. हाल में देश के कई हिस्सों में राजशाही के समर्थन में रैलियां की गई थी, जिनमें मांग की गई थी कि संवैधानिक राजशाही को बहाल किया जाए और नेपाल को फिर से एक हिन्दू राष्ट्र घोषित किया जाए. नेपाल 2008 में धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र बना था. इससे पहले 2006 में जन आंदोलन हुआ था और राजशाही को खत्म कर दिया गया था.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नेपाल की राजनीति में चीन का दखल ओली की सरकार को खतरे में डाल रहा है. कई नेताओं को लगता है कि चीन, नेपाल की घरेलू राजनीति में शामिल हो रहा है. इससे पहले भी दो बार ओली सरकार पर संकट आ चुका है.

BBC के मुताबिक, संविधान विशेषज्ञों का कहना है कि नेपाल के नए संविधान में सदन भंग करने को लेकर कोई स्पष्ट प्रावधान नहीं है. प्रधानमंत्री के इस फैसले को अदालत में चुनौती दी जा सकती है


चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के लीक डेटाबेस से दुनिया क्यों परेशान हो रखी है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कभी कृषि कानूनों की पक्षधर रहीं पार्टियों ने अब यूटर्न क्यों ले लिया है?

जानिए पहले क्या था इन राजनीतिक दलों का स्टैंड

क्या बढ़िया फ्रिज न होने के कारण इंडिया में कोरोना वैक्सीन लगने में और लेट हो सकती है?

कोल्ड चेन का पूरा तिया पांचा यहां समझिए.

साल 2015 के बाद गुजरात, केरल, बंगाल, महाराष्ट्र और बिहार के बच्चों में बढ़ा कुपोषण

सर्वे का दावा, बच्चों की लम्बाई और वज़न ख़तरनाक तरीक़े से घट रहे

क्या कोरोना की नई वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों को लकवा मार जा रहा है?

वैक्सीन लगवाने पर कुछ लोगों में एलर्जी की समस्या भी सामने आई है.

किसान आंदोलन के समर्थन में वैज्ञानिक ने केंद्रीय मंत्री के हाथ से अवॉर्ड लेने से मना कर दिया

पत्र में कहा, 'ये मेरी अंतरात्मा के खिलाफ़ है'

350 करोड़ का स्कैम उजागर करने वाले RTI एक्टिविस्ट की मौत पर पुलिस और फ़ैमिली अलग कहानी क्यों बता रहे?

पुलिस ने कहा कि दुर्घटना में मौत हुई, परिवार हत्या का आरोप लगा रहा

एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा, 'ऐसा ही चलता रहा तो कोई भी शिकार बन सकता है'

हैदराबाद के ICFAI लॉ स्कूल में रूल ऑफ लॉ पर लेक्चर दे रहे थे जस्टिस चेलमेश्वर.

कोरोना का ट्रायल वैक्सीन लेने वाले हरियाणा के मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए

कोरोना की वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के दौरान टीका लगाया गया था.

उइगर मुस्लिम ने बताया, 'चीन में हमें ज़बरदस्ती सूअर का मांस खिलाया जाता था'

नसबंदी न करवाने पर उइगर मुस्लिमों के साथ क्या होता है?

सरकार और किसानों के बीच साढ़े सात घंटे तक चली बैठक में क्या नतीजा निकला, जान लीजिए

कृषि मंत्री ने बताया, सरकार किन-किन बातों पर राजी हो गई है