Submit your post

Follow Us

नेपाल का ये हवाईजहाज ऐसा रास्ता भटका कि 250 किलोमीटर दूर जाकर रुका

नेपाल में एक प्राइवेट विमान ने अपने निर्धारित डेस्टिनेशन से अलग दूसरे शहर के लिए उड़ान भर ली. नेपाल की बुद्ध एयर के विमान में यात्री जनकपुर जाने के लिए सवार हुए, लेकिन पहुंच गए पोखारा. डेस्टिनेशन से 255 किलोमीटर दूर. इस विमान में 69 यात्री सवार थे. बुद्ध एयर ने अपनी गलती मानी है.

नेपाल के अखबार काठमांडू पोस्ट की वेबसाइट पर छपी खबर के मुताबिक, एयरलाइन के मैनेजिंग डायरेक्टर बीरेंद्र बहादुर बसंत ने कहा कि इस मामले की जांच के लिए कमेटी बनाई गई है.

नेपाल में कोरोना की वजह से छह महीने तक एयर ट्रैफिक बंद रहा था. 21 सितंबर को विमानों की आवाजाही शुरू हुई. अब विमान करीब-करीब पूरी क्षमता के साथ उड़ान भर रहे हैं.

शुक्रवार, 18 दिसंबर को भी काठमांडू एयरपोर्ट के डोमेस्टिक टर्मिनल पर बहुत हलचल थी. दोपहर का वक्त था. मौसम उड़ानों के लिए अनुकूल नहीं था. इसकी वजह से कुछ फ्लाइट्स पहले ही डिले हो चुकी थीं.

खराब मौसम की वजह से पोखरा जाने वाली फ्लाइट को विजुअल फ्लाइट रूल्स (VFR) के चलते तीन बजे तक उड़ान भरने की मंजूरी दी गई. वैसे ही देरी हो रही थी, ऐसे में बुद्ध एयर के अधिकारियों ने पहले पोखरा के लिए फ्लाइट रवाना करने का फैसला किया. इसी के तहत फ्लाइट्स के नंबर चेंज कर दिए गए. जनकपुर और पोखरा की तरफ जाने वाले उड़ानों में 15-20 मिनट का अंतर था.

शुरुआती रिपोर्ट के मुताबिक, फ्लाइट नंबर चेंज करने की वजह से गड़बड़ी हुई. ग्राउंड स्टाफ ने ऑन पेपर तो पोखरा जाने वाले 69 पैसेंजर्स की लिस्ट फ्लाइट U4505 से बदलकर फ्लाइट U4607 कर दी, लेकिन इस स्टाफ ने इस बारे में फ्लाइट कैप्टन और को-पायलट को जानकारी नहीं दी. फ्लाइट अटेंडेंट ने भी प्लेन में अनाउंसमेंट किया कि फ्लाइट जनकपुर के लिए उड़ान भर रही है. लेकिन जब फ्लाइट लैंड हुई तो यात्रियों को पता चला कि ये जनकपुर नहीं पोखारा है. जनकपुर से 255 किलोमीटर दूर.

एयरलाइन ने कहा कि ग्राउंड स्टाफ और पायलट के बीच कम्युनिकेशन गैप था. पायलट्स ने भी पैसेंजर्स को नहीं देखा. उड़ान भरने के बाद पायलटों से बात करने की कोशिश की गई, पर नहीं हो पाई, क्योंकि कंपनी के नियमों के चलते उन्हें बात करने की इजाजत नहीं थी.

एविएशन एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस तरह की घटनाएं होती तो हैं लेकिन ये बहुत रेयर होता है. काठमांडू पोस्ट को नेपाल के सिविल एविएशन अथॉरिटी के पूर्व डायरेक्टर जनरल त्री रत्न मननधर ने बताया कि पिछले ढाई दशक में नेपाल के विमानन इतिहास में इस तरह की यह दूसरी घटना है. इससे पहले 1993 में इस तरह की घटना हुई थी. तत्कालीन रॉयल नेपाल एयरलाइंस कॉरपोरेशन का एक ट्विन ओटर सिमरा हवाई अड्डे पर उतरा था, जिसे भरतपुर हवाई अड्डे पर उतरना था.


तारीख: मिडल ईस्ट के अरब स्प्रिंग की कहानी, जिसने तानाशाहों की हुकूमतें जला दीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

लगातार हो रही हिंसा की जांच के लिए होम मिनिस्ट्री ने अपनी टीम बंगाल भेज दी है.

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

कीनिया में अपने दोस्त से मिलने गए थे, वहां तेज बुखार आया था.

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

कुछ दिन पहले ही कोरोना से अपने पिता को गंवा दिया.

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.