Submit your post

Follow Us

JNU के उमर खालिद पर जानलेवा हमला करने वाला नवीन, जिसके चुनाव लड़ने पर हंगामा मचा है

761
शेयर्स

नवीन दलाल. हरियाणा विधानसभा चुनाव में शिवसेना उम्मीदवार. बहादुरगढ़ सीट से टिकट मिला है. दलाल के चुनाव लड़ने पर हंगामा मचा हुआ है. दलाल वही शख्स है जिसने अगस्त, 2018 में जेएनयू छात्र नेता उमर खालिद पर जानलेवा हमला किया था. दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब के बाहर. खुद को गौरक्षक बताने वाले दलाल ने छह महीने पहले ही शिवसेना की मेंबरशिप ली है और वो पार्टी के बहादुरगढ़ यूनिट का जिला अध्यक्ष भी है.

दलाल ने एक गौरक्षा संगठन बनाया हुआ है. नाम है गौ रक्षक सेना. द इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में दलाल ने कहा,

‘हम गौरक्षा, राष्ट्रवाद और स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान जैसे मुद्दों पर चुनाव लड़ रहे हैं. कांग्रेस, बीजेपी के गाय, राष्ट्रवाद, किसान और गरीबों से कुछ लेनादेना नहीं है. वो सिर्फ राजनीति करते हैं.’

उमर खालिद की हत्या की कोशिश

13 अगस्त की शाम थी. उमर खालिद ‘खौफ से आज़ादी’ नाम के एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कॉन्स्टीट्यूशन क्लब पहुंचे थे. कार्यक्रम से पहले वह पास ही मौजूद चाय की एक दुकान के पास खड़े थे. वह अपने दोस्तों के साथ थे. तभी नवीन दलाल ने गोली चला दी, दरवेश भी वहीं मौजूद था. हालांकि, बंदूक जाम होने की वजह से उमर बाल-बाल बचे थे. हमले के बाद नवीन और दरवेश वहां से बच निकले थे. बाद में दोनों ने वीडियो जारी किया था और हमले को ‘देश के लिए स्वतंत्रता दिवस का तोहफा’ बताया था. इसके बाद दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया था. फिलहाल दलाल जमानत पर रिहा है.

उस वीडियो का स्क्रीनशॉट जो दलाल और दरवेश ने उमर खालिद पर हमले के बाद जारी किया था.
उस वीडियो का स्क्रीनशॉट जो दलाल और दरवेश ने उमर खालिद पर हमले के बाद जारी किया था.

अपराधों का इतिहास रहा है

उमर खालिद पर हमला पहला मामला नहीं था जब नवीन दलाल का नाम किसी अपराध में सामने आया था. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, पांच साल पहले यानी 2014 में कई लोग गाय के कटे सिर के साथ बीजेपी हेडऑफिस पहुंचे थे. इन लोगों की मांग थी कि गौकशी के खिलाफ सख्त कानून बनाए जाएं. नवीन दलाल भी इस भीड़ में शामिल था और पुलिस ने उसे इस मामले में गिरफ्तार भी किया था. मामला दिल्ली के पार्लियमेंट स्ट्रीट थाने में दर्ज है, फिलहाल कोर्ट में सुनवाई चल रही है.

वहीं दलाल के खिलाफ एक और केस पेंडिंग है. IPC की धारा 147/149 के तहत दंगे फैलाने का मामला बहादुरगढ़ के थाने में दर्ज है. दलाल ने खुद अपने शपथ पत्र में अपने खिलाफ तीन आपराधिक मामले दर्ज होने की बात कही है.


वीडियोः महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 के बीच बीजेपी नेता के परिवार में पांच की हत्या

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सरकार Facebook से यूजर्स की जानकारी मांग रही है

2 साल में तीन गुनी हुई इमरजेंसी रिक्वेस्ट्स की संख्या.

पुनर्विचार की सभी याचिकाएं खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने रफ़ाल को हरी झंडी दी

राहुल गांधी ने पीएम मोदी को रफ़ाल डील में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए खूब घेरा था.

महाराष्ट्र में नहीं बनी शिवसेना-एनसीपी की सरकार, अब लगेगा राष्ट्रपति शासन

एनसीपी को सरकार बनाने के लिए आज शाम साढ़े आठ बजे तक का समय मिला था.

करतारपुर कॉरिडोर: PM मोदी ने इमरान को शुक्रिया कहा, लेकिन इमरान का जवाब पीएम मोदी को पसंद नहीं आएगा

वहां पर भी कॉरिडोर से ज़्यादा 'विवादित मुद्दे' पर ही बोलता नज़र आया पाकिस्तान.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला: विवादित ज़मीन रामलला को, मुस्लिम पक्ष को कहीं और मिलेगी ज़मीन

जानिए, कोर्ट ने अपने फैसले में और क्या-क्या कहा है...

नेहरु से इतना प्यार? मोदी अब बिना कांग्रेस के नेहरू का ख्याल रखेंगे

एक भी कांग्रेस का नेता नहीं. एक भी नहीं.

शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने से बचाना है, तो बस एक ही तरीका है

शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की मिस्ट्री पर क्या कहा?

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ

दफ़्तर में घुसकर महिला तहसीलदार पर पेट्रोल छिड़का, फिर आग लगाकर ज़िंदा जला दिया

इस सबके पीछे एक ज़मीन विवाद की वजह बताई जा रही है. जिसने आग लगाई, वो ख़ुद भी झुलसा.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

पुलिस और वकील इस झड़प की अलग-अलग कहानी बता रहे हैं.