Submit your post

Follow Us

मुंबई: भिखारी के घर से इतने पैसे मिले कि पुलिस हक्का-बक्का रह गई

मुंबई में 5 सितंबर को गोवंडी स्टेशन के पास ट्रेन से कट एक भिखारी की मौत हो गई. रेलवे पुलिस ने भिखारी की पहचान की. 82 साल के भिखारी का नाम बुर्जू चंद्र आजाद था. पुलिस को भिखारी के पास से कुछ डाक्यूमेंट्स मिले जिसके जरिए पुलिस बुर्जू के घर तक पहुंची.

रेलवे पुलिस को वहां पैसों से भरी थैलियां मिलीं जिसमें करीब दो लाख रुपये के सिक्के मिले. इसके साथ ही पुलिस को बुर्जू की पासबुक मिली जिसमें कुल 8 लाख 77 हजार रुपये जमा हैं. पुलिस को कैश और सिक्के गिनने में करीब 8 घंटे लग गए.

न्यूज़ एजेंसी एएनआई का ट्वीट देखिए.

बताया जा रहा है कि बुर्जू मुंबई की लोकल ट्रेन में भीख मांगता था. रेल पुलिस को भिखारी की झोपड़ी से आधार कार्ड, पैन कार्ड और सीनियर सिटिजन कार्ड मिला है जिस पर राजस्थान का पता लिखा हुआ है. पुलिस ने मिले पते पर परिवार से संपर्क करने के लिए जीआरपी की एक टीम भेज दी है.

बुर्जू के पड़ोसियों ने पुलिस को बताया है कि उसके साथ उसका परिवार भी रहता था लेकिन बाद में उसका परिवार घर चला गया और वह गुजारे के लिए भीख मांगने लगा था.


वीडियो- इलेक्शन कमीशन की टीम वीडियो रिकॉर्डिंग कर रही थी, मॉडल ने गुस्से में कैमरा ही तोड़ दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.

ऑनलाइन क्लास में Noun समझाने के चक्कर में पाकिस्तान की तारीफ, टीचर सस्पेंड

टीचर शादाब खनम ने माफी भी मांगी, लेकिन पैरेंट्स ने शिकायत कर दी.