Submit your post

Follow Us

कोरोना पर BJP विधायक ने शिवराज से कहा- वर्चुअल मीटिंग के तमाशे से कुछ नहीं होने वाला

मध्यप्रदेश में BJP सरकार पर पार्टी के ही एक विधायक ने हमला बोला है. मैहर विधानसभा से BJP विधायक नारायण त्रिपाठी ने कोरोना काल में शिवराज सरकार के कामकाज पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चिट्ठी लिखकर लोगों के लिए दवा, बेड और ऑक्सीजन की व्यवस्था करने की अपील की है. उन्होंने मुख्यमंत्री से कहा है कि वर्चुअल मीटिंग के तमाशे से कुछ नहीं होने वाला है.

मुख्यमंत्री को भेजे पत्र में नारायण त्रिपाठी ने लिखा है कि कोरोना से पूरे विंध्य के साथ-साथ मध्यप्रदेश का बुरा हाल है. मरीज को सतना से रीवा रेफर करने तक की सुविधा नहीं है. संक्रमित मरीजों को रीवा से जबलपुर ले जाने का कोई फायदा नहीं है. इलाज की मंडी नागपुर का भी बुरा हाल है. भोपाल हो या दिल्ली हर जगह यही स्थितियां हैं. प्रदेश के अस्पतालों में बेड नहीं हैं. वेंटिलेटर का नामोनिशान नहीं है. ऑक्सीजन के बिना लोग दम तोड़ रहे हैं. जरूरी दवाओं का कोई इंतजाम नहीं है.

Narayan Tripathi Letter
BJP MLA नारायण त्रिपाठी का पत्र.

टीवी चैनलों पर जारी बयानों में सब ठीक है.

विधायक ने पत्र में लिखा कि टीवी चैनलों पर जारी बयानों में सब कुछ ठीक दिखाया जा रहा है, सब नियंत्रण में है. ये सब लोगों के लिए मजाक बनता जा रहा है. प्रदेश का हर आदमी दहशत में है. सब कोरोना की चपेट में हैं. कब किसके साथ क्या हो जाए कोई नहीं जानता.

एक माह का संपूर्ण लॉकडाउन लगे

नारायण त्रिपाठी ने शिवराज सिंह चौहान से अपील है की प्रदेश को बचाने की जिम्मेदारी आपकी है. लोगों के लिए दवा, बेड, ऑक्सीजन, वेंटिलेटर की व्यवस्था और स्वास्थ्यकर्मियों के लिए सुरक्षा के साथ-साथ कोरोना से बचाव के उपायों जैसे PPE किट आदि का इंतजाम करें. अगर ऐसा नहीं कर सकते तो प्रदेश के अतिगरीब, गरीब और मध्यवर्गीय परिवारों के लिए खाने पीने की व्यवस्था कर राज्य में एक महीने का संपूर्ण लॉकडाउन लगाएं. साथ ही उन्होंने इस दौरान मेडिकल टीमें घर-घर जाकर कोरोना टेस्ट और वैक्सीनेशन का काम करें और संक्रमितों का घर पर ही इलाज की व्यवस्था करें.

मुख्यमंत्री को लिखे पत्र के बारे आजतक से बातचीत की

विधायक नारायण त्रिपाठी ने आजतक से कहा कि हालात भयावह हैं. लोग असमय मृत्यु के गाल में समा रहे हैं. सतना में 6 वेंटिलेटर चालू थे. सभी बंद और ठप पड़े हैं. मैंने मुख्यमंत्री शिवराज जी को लिखा कि प्रदेश की जनता से आपने रिश्ता बनाया. किसी को बहन बनाया, भांजे-भांजिया बनाए. अब ये वक्त है कि आप प्रदेश में बेड, ऑक्सीजन, वेंटिलेटर उपलब्ध कराइए और धर्म का निर्वहन कीजिए. बड़ी तकलीफ है, बड़ी पीड़ा है. हम कुछ बोलते हैं तो लोग कहते हैं बागी है.


मध्यप्रदेश: ऑक्सीजन के अभाव में 12 की जान गई, कमलनाथ ने सरकार पर साधा निशाना

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

भारत सरकार की ओर से इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने ऑक्सीजन की किल्लत पर केंद्र सरकार को बुरी तरह लताड़ दिया है

बुधवार रात 8 बजे हुई सुनवाई में कोर्ट ने केंद्र को जमकर खरी-खोटी सुनाई.

कोरोना संकट के बीच देश के ये 3 शीर्ष मेडिकल एक्सपर्ट आपके लिए बहुत काम की बातें बता गए हैं

कोरोना की रोकथाम से जुड़े हर जरूरी सवाल का जवाब दिया है.

कोविड प्रोटोकॉल्स की धज्जियां उड़ाते UP पंचायत चुनाव पर हाईकोर्ट की ये टिप्पणियां ज़रूर जानिए

सरकारी कर्मचारियों की चुनावी ड्यूटी पर भी नाराज़गी ज़ाहिर की.