Submit your post

Follow Us

क्या IIM अहमदाबाद और गुजरात की आर्किटेक्ट कंपनी ने मिलकर दो महीने से मज़दूरों का पैसा डकार रखा है?

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम), अहमदाबाद को मज़दूरों की तरफ़ से नोटिस मिला है. ये मज़दूर आईआईएम की ही एक नई बिल्डिंग बनाने के काम में लगे थे, तभी कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन लग गया. इसके बाद से पिछले दो महीनों में मज़दूरों को तनख़्वाह तक नहीं मिली है. ये सभी दूसरी जगहों से आकर यहां काम कर रहे थे. अब वापस भी नहीं जा पा रहे. इन्हीं सब बातों को लेकर मज़दूरों की ओर से वकील आनंदवर्धन जे. याज्ञनिक ने नोटिस भेजा है. नोटिस की कॉपी आईआईएम, अहमदाबाद के डायरेक्टर, गुजरात के चीफ सेक्रेटरी, श्रम विभाग के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी और डिप्टी लेबर कमिश्नर को भेजी गई है.

नई बिल्डिंग के कंस्ट्रक्शन का काम आईआईएम-अहमदाबाद की तरफ से एचसीपी डिज़ाइन, प्लानिंग एंड मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी को दिया गया था. इसी कंपनी ने मज़दूरों को काम पर रखा. नोटिस में इस कंपनी को कॉन्ट्रैक्टर और आईआईएम को प्रिंसिपल एम्प्लॉयर (प्रमुख नियोक्ता) बताया गया है.

आनंद याज्ञनिक ने ‘दी लल्लनटॉप’ को बताया –

“कन्स्ट्रक्शन साइट पर अभी जो लोग हैं, उनमें 20 बच्चे हैं, 25-30 महिलाएं हैं. सबको बस राशन दिया जा रहा है. मज़दूरों ने विरोध प्रदर्शन भी किया था. जिन मज़दूरों को गिरफ्तार किया गया, उन्हें भी पुलिस ने अब तक मजिस्ट्रेट के सामने पेश नहीं किया है.”

वकील का दावा- गिरफ्तार मज़दूरों में से दो कोरोना पॉज़िटिव

नोटिस में लिखा है कि करीब एक साल से 500 मज़दूर यहां काम कर रहे हैं. ये मज़दूर झारखंड और पश्चिम बंगाल के हैं. कॉन्ट्रैक्टर मज़दूरों को जबरन अपने होम स्टेट नहीं जाने दे रहा, ताकि नए मज़दूर न ढूंढने पड़ें, काम प्रभावित न हो. जिन मज़दूरों को रोककर रखा गया है, उनमें से दो कोरोना पॉज़िटिव भी हैं, फिर भी कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है.

आईआईएम का जवाब

आईआईएम ने तमाम पॉइंट पर अपने जवाब दिए हैं. इन जवाब पर 23 मई को आनंद याज्ञनिक अपना काउंटर फाइल करेंगे. आईआईएम ने क्या कहा?

वेतन पर – हमारा हर बिल एक प्रोसेस से होकर गुज़रता है. इसलिए ये ऑन रिकॉर्ड है कि हमने मज़दूरों का सारा बकाया दिया है.

कोविड पॉज़िटिव की बात पर – हेल्थ डिपार्टमेंट के लोग साइट पर आए थे. सैंपल भी लिए गए. कोई पॉज़िटिव नहीं पाया गया. फिर भी अगर दो लोगों के पॉज़िटिव आने की बात सही है, तो कॉन्ट्रैक्टर इस पर ध्यान देंगे.

एचसीपी डिज़ाइन कौन-सी कंपनी है?

एचसीपी डिज़ाइन गुजरात की कंपनी है. मालिक हैं पद्मश्री आर्किटेक्ट बिमल पटेल. इस कंपनी के प्रोजेक्ट में शामिल हैं अहमदाबाद की रिज़र्व बैंक बिल्डिंग, साबरमती रिवर फ्रंट वगैरह. नई दिल्ली का सेंट्रल विस्टा री-डेवलपमेंट प्रोजेक्ट भी एचसीपी डिज़ाइन के पास ही है.


ऐसा क्या है इस कोरोना वायरस सुपर स्प्रेडर में, जिसके केस मिलने पर अहमदाबाद में सब बंद हो गया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

केंद्र से अक्सर लड़ने वाली ममता बनर्जी की पीएम मोदी ने किस बात पर तारीफ की?

पश्चिम बंगाल दौरे पर पीएम मोदी ने 'अमपन' को लेकर एक हज़ार करोड़ रुपए की मदद का ऐलान किया.

रिज़र्व बैंक ने एक बार फिर रेपो रेट घटाया, EMI से तीन महीने और छुटकारा

मार्च और अप्रैल महीने में रिज़र्व बैंक ने रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट घटाया था.

प्लेन और ट्रेन से जाने के लिए टिकट और किराए के नियम सरकार ने बताए हैं

जानिए, रेलवे के ऑफलाइन टिकट कहां से मिल सकते हैं.

क्या गुजरात में खराब वेंटीलेटर की वजह से 300 कोरोना मरीज़ों की मौत हो गई?

कांग्रेस ने विजय रूपाणी सरकार पर वेंटीलेटर घोटाले का आरोप लगाया है.

अब इस तारीख से देश के अंदर फ्लाइट्स से यात्रा कर सकेंगे

इससे पहले 200 नॉन एसी ट्रेन चलने की सूचना दी गई थी.

'अम्फान' आ चुका है, पश्चिम बंगाल में दो की मौत, कई घरों को नुकसान

ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में अपना असर दिखा रहा है.

प्रियंका गांधी ने जो गाड़ियां यूपी भेजी हैं, उनमें कितनी बसें हैं, कितने ऑटो?

छह सूचियों में कुल 1049 गाड़ियों की डिटेल्स भेजी गई है.

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

इस बार ख़ुद रेल मंत्री ने बताया है.

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.

प्रियंका गांधी वाड्रा की 1000 बसों में कुछ नंबर ऑटो और कार के कैसे निकल गए?

हालांकि संबित पात्रा ने भी जिस बस को स्कूटर बताया, वहां एक पेच है.