Submit your post

Follow Us

इन 20 फिल्मों और वेब सीरीज़ को किसी फ्री साइट पर ग़लती से भी न देखिएगा, आफत आ जाएगी

चीन और भारत के बीच तनाव बना हुआ है. इसी के चलते साइबर अटैक का खतरा भी बनता दिख रहा है. यानी मोबाइल या कम्प्यूटर में आपका जो डेटा है, उसके लीक होने की संभावना बनते दिख रही है. साइबर एक्सपर्ट का मानना है कि भारत को किसी गंभीर साइबर अटैक का सामना करना पड़ सकता है. इससे बचने के लिए महाराष्ट्र साइबर डिपार्टमेंट ने दस फिल्मों और दस वेब सीरीज़ की लिस्ट निकाली है. नहीं-नहीं, ये फिल्में और सीरीज़ आपको अटैक से बचाएंगी नहीं, बल्कि इन्हें फ्री वेबसाइट्स में देखने से आप अटैक का शिकार हो सकते हैं. ‘इंडिया टुडे’ के सौरभ वक्तानिया ने बताया कि ये लिस्ट एक चेतावनी के तौर पर निकाली गई है.

कौन-सी दस फिल्में हैं?

मर्दानी-2
ज़ूटोपिआ
जवानी दिवानी
छपाक
लव आज-कल
इन्सेप्शन
बाहुबली
रजनीगंधा
गली बॉय
बाला

कौन-सी दस वेब सीरीज़ हैं?

दिल्ली क्राइम
ब्रूकलिन नाइन-नाइन
पंचायत
अकूरी
फौदा
घोउल
माइंडहंटर
नार्कोस
देवलोक
लॉस्ट

क्या कहना है साइबर डिपार्टमेंट का?

ये कि इन फिल्मों और सीरीज़ को फ्री वेबसाइट्स पर कतई न देखें. फ्री वेबसाइट्स, यानी जिन तक पहुंचने के लिए, या जिन पर मौजूद सामान का इस्तेमाल करने के लिए आपको पैसे न चुकाने पड़ें. साइबर डिपार्टमेंट का कहना है कि अगर कोई व्यक्ति फ्री वेबसाइट्स पर क्लिक करता है, तो उसी वक्त एक मालवेयर डाउनलोड हो जाता है. इस बात का उस व्यक्ति को पता भी नहीं चलता. और मालवेयर के ज़रिए कम्प्यूटर या मोबाइल की सारी जानकारी हैक कर ली जाती है. हैकर फिर उस जानकारी को या तो बेच सकता है, या फिर उस व्यक्ति को ब्लैकमेल करके पैसा वसूल कर सकता है.

दरअसल, कोरोना की वजह से अभी बहुत से लोग घर से ही काम कर रहे हैं या घर पर ही हैं. ऐसे में वक्त मिलते ही फिल्म या सीरीज़ देखने लग जाते हैं. इसलिए महाराष्ट्र साइबर डिपार्टमेंट का कहना है कि इंटरनेट का इस्तेमाल करने वालों की संख्या बढ़ने का फायदा उठाने के लिए साइबर क्रिमिनल तैयार बैठे हैं.

अंकुर पुराणिक, साइबर एक्सपर्ट हैं. वो कहते हैं,

‘साइबर क्रिमिनल लोगों के मोबाइल और डेटा तक पहुंचने के नए-नए तरीके बनाते रहते हैं. वो हमेशा कोशिश करते हैं कि मालवेयर सॉफ्टवेयर आपके मोबाइल तक चला जाए. वो आपका पासवर्ड और OTP जानना चाहते हैं. वो अलग-अलग ऑफर्स के मैसेज आपको भेजते हैं. जैसे कोई लिंक भेज दी कि इसे क्लिक करो तो नेटफ्लिक्स का फ्री सब्सक्रिप्शन मिल जाएगा, या फ्री डेटा मिलेगा, या पेटीएम वैरिफिकेशन का लिंक. आप जैसे ही इन लिंक्स पर क्लिक करते हैं आपके फोन या कम्प्यूटर में वायरस इन्स्टॉल हो जाता है. आपका सारा डेटा साइबर क्रिमिनल्स तक पहुंच जाता है. इसलिए हमेशा पहले से तैयार रहें.’

कैसे बचा जा सकता है इन अटैक से?

अंकुर पुराणिक ने बताया कि अगर अलग-अलग मोबाइल फोन्स हों, तो उनका इस्तेमाल किया करें. आगे कहा,

‘सबसे ज़रूरी ये कि हर वक्त सारे ऐप्स खोलकर न रखें. अगर एक ऐप का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो दूसरे को बंद रखें. पेटीएम में पेमेंट की लिमिट रखें. मोबाइल या कम्प्यूटर पर एंटी वायरस या एंटी मालवेयर सॉफ्टवेयर इन्स्टॉल करके रखें.’

अब तक कितनी शिकायत?

अकेले महाराष्ट्र साइबर डिपार्टमेंट में ही लॉकडाउन के दौरान 512 साइबर क्राइम के केस दर्ज किए गए. 273 लोगों की गिरफ्तारी हो गई है. इन मामलों में 196 केस तो अपमानजनक वॉट्सऐप मैसेज फॉरवर्ड के ही हैं. 213 मामले अपमानजनक फेसबुक पोस्ट शेयर करने के, 28 मामले टिकटॉक और ट्विटर वीडियो शेयरिंग के हैं. 11 मामले अपमानजनक ट्वीट्स के हैं, 4 मामले इंस्टाग्राम पर अपमानजनक पोस्ट करने के हैं. करीब 108 आपत्तिजनक पोस्ट्स को हटाया गया है.


वीडियो देखें: जो पॉपुलर चाइनीज़ ऐप बैन हुए हैं, अब उनकी जगह ये इस्तेमाल कर रहे हैं लोग

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.

भारत सरकार के चाइनीज़ ऐप बंद करने के स्टेप पर TikTok ने चिट्ठी में क्या लिखा?

अपने यूज़र्स के बारे में भी कुछ कहा है.

PM CARES के तहत बने देसी वेंटिलेटर इस हाल में मिले कि लौटाने की नौबत आ गई

और ख़राब वेंटिलेटर बनाने वालों ने क्या सफ़ाई दी?

भारत में चीन के 59 मोबाइल ऐप बैन, टिकटॉक, यूसी, वीचैट भी लपेटे में

कहा कि देश की सुरक्षा की ख़ातिर इन्हें बैन किया जा रहा है.

गैंगस्टर आनंदपाल एनकाउंटर के बाद हुई हिंसा के लिए CBI ने चार्जशीट में किस-किस का नाम जोड़ा है?

एनकाउंटर की सीबीआई जांच की मांग को लेकर हिंसा हुई थी.

क्या अरुणाचल में चीन भारतीय सीमा में 50 किलोमीटर तक घुस गया है?

बीजेपी सांसद ने यह दावा किया है.

पतंजलि का कोरोनिल लॉन्च करने वाले डॉक्टर ने दवा की सबसे बड़ी गड़बड़ी बता दी!

मरीज़ों को केवल कोरोनिल नहीं दी गई थी.