Submit your post

Follow Us

हम पकौड़ों में रोज़गार तलाश रहे थे, बेरोजगारी 45 साल के टॉप पर पहुंच गई

18.15 K
शेयर्स

बेरोजगारी का आंकड़ा आया है. आंकड़ा जो रिस गया. रिसी तो बिजनेस स्टैण्डर्ड में ख़बर छपी. ख़बर NSSO के आंकड़ों के हवाले से. पता लगा देश में बेरोजगारी की दर पिछले 45 सालों में सबसे ज़्यादा है. 45 साल में सबसे ज़्यादा बेरोज़गार दें, ऐसे पहले प्रधानमंत्री बने मोदी जी.

मतलब, माने, मीन्स , माने के… 1972-73 के बाद 2017-18 में ही इतनी ज़्यादा बेरोजगारी हुई है. सरकार इस रिपोर्ट से इसलिए खौफ खाए बैठी है क्योंकि ये आंकड़े नोटबंदी के ठीक बाद के हैं. जिस नोटबंदी की सरकार ने गुणावली गाई. सब उपलब्ध सुरों में जिसका मंगलगान हुआ, इस रिपोर्ट के हिसाब से वो कोलाहल साबित हुई.

कथित लीक्ड रिपोर्ट में कही गई बातें जानने के बाद पंक्तियों का लेखक
कथित लीक्ड रिपोर्ट में कही गई बातें जानने के बाद पंक्तियों का लेखक

बेरोजगारी के आंकड़ों में विस्फोटक क्या था?

1. देश में बेरोजगारी दर – 6.1%
2. शहरी इलाकों में बेरोजगार- 7.8%
3. ग्रामीण इलाकों में बेरोजगार- 5.3%
4. गांव की महिलाओं की हालत और खराब है. ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षित महिलाओं की बेरोजगारी दर 17.3% है.
5. ग्रामीण इलाकों में पढ़े-लिखे पुरुषों की बेरोजगारी का प्रतिशत 10.5 है.
6. रिपोर्ट से ये पता लगा कि 15 से 29 साल के बीच जो ग्रामीण पुरुष हैं. उनकी बेरोजगारी तीन गुना बढ़ी है. आसान भाषा में ऐसे समझिये कि आपके गांव में 1000 युवा हैं. 2011-12 में आप गांव गए . आपने देखा कि 15 से 29 साल के 50 लड़के पड़े-पड़े दिन बिता देते थे. 2017-18 में वैसे ही खाली बैठे लड़कों की संख्या 174 हो गई है.
7. इसी तरह गांव में अगर 2011-12 में 1000 में से 48% महिलाएं खाली बैठी थीं तो 2017-18 में उनकी संख्या बढ़कर 136 हो गई.
8. ये आंकड़े आने के बाद Centre for Monitoring Indian Economy नाम की स्वतंत्र संस्था की बात भी सच साबित हुई. जिसके मुताबिक़ इस एक साल में 1.1 करोड़ नौकरियां कम हुई हैं.
9. सर्वे ये भी कहता है कि लोग काम-धंधे से दूर हो रहे हैं. खेती से दूर जा रहे हैं क्योंकि उसमें फायदा नहीं होता.
10. आंकड़ो के मुताबिक नौकरी कर रहे या नौकरी ढूंढ रहे लोगों की तादाद भी कम हुई है. ये आंकड़ा LFPR मतलब Labour Force Participation Rate के जरिये निकलकर आया. LFPR, 2011-12 में 39.5% था, 2017-18 में घटकर 36.9% हो गया.

हंगामा है क्यों बरपा?
हंगामा है क्यों बरपा?

हंगामा है क्यों बरपा? सब तरफ NSSO की रिपोर्ट की बात क्यों हो रही है?
1. NSSO मतलब National Sample Survey Office report . ऐसा-वैसा संगठन नहीं है. सरकारी संगठन है, सांख्यिकी मंत्रालय के अंडर आता है. देश में जो भी सरकारी सर्वे होते हैं, जो भी आंकड़े जुटाए जाते हैं, वो जुटाने का काम NSSO करता है.
2. कल मतलब 30 जनवरी को लल्लनटॉप शो में हमने बताया कि कैसे सांख्यिकी आयोग के दो सदस्य 3 दिन पहले इस्तीफा दे गए हैं.

3. ये सदस्य थे, पीसी मोहनन और जेवी मीनाक्षी. आयोग में यही दो लोग थे, जो सरकार से सीधे नहीं जुड़े थे. स्वतन्त्र तौर पर अपनी राय दे सकते थे. इनका आरोप थे कि सरकार इनकी बात नहीं सुन रही. आयोग में इन्हें किनारे किया जा रहा, जिसके कारण इन्होने इस्तीफा दिया. इस्तीफे के दौरान जिस चीज की चर्चा सबसे ज़्यादा हुई वो NSSO के यही आंकड़े थे.
4. NSSO की ये रिपोर्ट राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग ने पिछले दिसंबर में ही सरकार को दे दी थी. लेकिन सरकार ने इसे अब तक जारी नहीं किया है.

सरकार ने क्या कहा?
सरकार की तरफ से इन आंकड़ों को लेकर हीलाहवाली जारी है. नए-नए किस्म के बहाने गढ़े जा रहे हैं. नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार इस सबके बीच सामने आए. कहिन कि — देश में बेरोजगारी, 45 साल में सबसे ज्यादा हो गई– ऐसा कहने वाली रिपोर्ट सत्यापित नहीं है. आंकड़ों को अभी प्रोसेस किया जा रहा है. कोई उनसे पूछे कि इत्ते दिन से क्या रिपोर्ट रखी-रखी ब्याज दे रही है. आई क्यों नहीं अब तक? इस प्रोसेस की कोई सीमा है कि 16 मई के बाद आएगी?

बड़ा सवाल
बड़ा सवाल

फिलहाल जो आंकड़े लीक हुए. ये सबूत थे. सबूत इस बात के कि नोटबंदी के बाद देश में रोज़गार के क्या हाल हुए. इसे अब तक जारी न करने का कारण, 6 साल के बच्चे को भी समझ आ जाएगा, सरकार अपने ही संगठन की वैध रिपोर्ट कैसे जारी कर दे, जिसके आने के बाद ये साफ़ हो जाएगा कि सरकार के फ़ैसले गलत थे.

भारी मिसटेक हो गया सर, एक दम बलंडर हो गया
भारी मिसटेक हो गया सर, एक दम बलंडर हो गया

नोटबंदी के बाद देश में बेरोजगारी बढ़ गई. कुछ ही महीनों में चुनाव हैं. सरकार वही है जो पकौड़ों में रोज़गार दिखा रही थी. जो पकौड़ों में रोज़गार में नहीं देख पा रहे थे, उन्हें उस रोज़गार में आत्मसम्मान दिखाया जा रहा था. इस बहाने सरकार का फेल्योर छुपाया जा रहा था.

इन आंकड़ों के बाद सरकार से जवाब देते नहीं बनेगा. देखना ये होगा कि सरकार क्या करती है? वो इस रिपोर्ट के रिस जाने पर आंख बंद कर लेगी? रिपोर्ट को पूरी तरह झुठला देगी. बिजनेस स्टैण्डर्ड को झूठा ठहराएगी या रिपोर्ट जारी करेगी. आगे जो कुछ भी होगा, सरकार की मुसीबतें बढ़ाने वाला ही होगा.

अपडेट: इस मामले में नई ताजी बात ये बता चली है कि नीति आयोग ने इसे केवल ड्राफ्ट रिपोर्ट बताया है. लेकिन NSC के चेयरमैन पद से पिछले हफ्ते इस्तीफा देने वाले पीसी मोहनन ने इसे फाइनल रिपोर्ट बताया है. नीति आयोग के वाइस चेयरमैन राजीव कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि जुलाई से दिसंबर, 2018 यानी 2 क्वॉर्टर का डेटा अभी प्रोसेस में है और सरकार मार्च में एम्प्लॉयमेंट सर्वे जारी करेगी. इंडियन एक्सप्रेस से मोहनन ने कहा कि प्रोसीजर के मुताबिक ये फाइनल रिपोर्ट है. NSC इस रिपोर्ट को अप्रूव कर चुका है. हमने अप्रूव किया है और इसे किसी और अप्रूवल की जरूरत नहीं है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

विद्या बालन ने बताया फ़िल्मों के डायरेक्टर कास्टिंग काउच के लिए क्या क्या करते हैं

डायरेक्टर्स कभी ऑडिशन, कभी मीटिंग के बहाने बुलाते थे.

10वीं की स्टूडेंट ने स्कूल में बच्ची को जन्म दिया तो पता चला 7 महीने पहले रेप हुआ था

रेपिस्ट की उम्र जानेंगे तो मनाएंगे कि धरती ख़त्म हो जाए.

चुनाव के पहले कांग्रेस जॉइन की थी, अब रिज़ाइन कर मोदी की तारीफ़ में लगीं अर्शी खान

'मेरा डांस करना, बिकिनी पहनना अच्छा नहीं लगेगा.'

टाइम मैगज़ीन ने दुनिया की 100 सबसे झामफाड़ जगहों में भारत की कौन सी दो जगहें चुनी?

दूसरी वाली जानकर आप हैरान हो जाएंगे.

Free Fire: सबसे ज्यादा डाउनलोडेड यह गेम अब भारतीयों को प्रीमियम अनुभव देगा

PUBG भूल जाइए, क्या आप फ्री फायर खेलने को तैयार हैं?

ओ तेरी! आईआईटी से एमटेक किया, फिर रेलवे में पटरियों की देखभाल वाली नौकरी जॉइन कर ली

ऐसा अनर्थ पहले कभी नहीं हुआ है.

यूपी पुलिस ने जिस बच्ची को नाले में घुसकर निकाला, उसका क्या हुआ?

जन्माष्टमी के दिन नाले में पड़ी हुई बच्ची कुछ स्कूली बच्चों को दिखी थी.

ऑस्ट्रेलिया 1 रन से मैच जीतने वाली थी, अंपायर की गलती ने पासा पलट दिया

अंपायर की इस ग़लती ने इंग्लैंड की लॉटरी लगा दी.

पीएम मोदी को यूएई ने सबसे बड़ा सम्मान दिया, पाकिस्तान को बुरा लग गया

पाकिस्तान ने इस अवॉर्ड का विरोध किया है. कश्मीर के मसले पर.

पुलिस और प्रदर्शनकारियों की झड़प के बीच बेचारा JCB ऑपरेटर फंसकर मारा गया

...और फिर राजनीति हुई. घनघोर.