Submit your post

Follow Us

कंगना रनौत के बजाय प्रेस से एकता कपूर ने माफ़ी मांगी, वजह बड़ी इंट्रेस्टिंग है

180
शेयर्स

कंगना रनौत और पत्रकार जस्टिन राव के बीच विवाद काफी बढ़ गया है और बात माफीनामे तक पहुंच गई है. एंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट गिल्ड ऑफ इंडिया नाम की संस्था ने इस फिल्म की प्रोड्यूसर एकता कपूर को एक लेटर लिखकर माफी की मांग की थी. और पूरे मामले पर निंदा की मांग की थी. ऐसा नहीं होने पर मीडिया ने तय कि या है कि कंगना रनौत और इस फिल्म को बॉइकॉट किया जाएगा. अब इस मामले में अपडेट है कि एकता कपूर के प्रोडक्शन हाउस बालाजी मोशन पिक्चर्स की तरफ से आधिकारिक बयान जारी किया गया है.

इसमें लिखा है,

‘संबंधित लोगों के लिए. 7 जुलाई 2019 को सॉन्ग लॉन्च इवेंट पर ‘जजमेंटल है क्या’ की एक्टर और पत्रकार जस्टिन राव के बीच हुए विवाद के बारे में काफी कुछ लिखा जा रहा है. दुर्भाग्य से घटना ने अप्रिय मोड़ ले लिया है. इसमें शामिल लोगों ने निष्पक्ष रूप से अपनी-अपनी रखीं. लेकिन क्योंकि ये हमारी फिल्म के इवेंट पर हुआ, इसलिए प्रोड्यूसर होने के नाते हम माफी चाहते हैं और इस पर खेद व्यक्त करते हैं. हम यह साफ करना चाहते हैं कि हमारा उद्देश्य किसी का अपमान करने या किसी को ठेस पहुंचाने का नहीं था. हमारी फिल्म ‘जजमेंटल है क्या’ 26 जुलाई को रिलीज हो रही है और हम मीडिया से आग्रह करते हैं कि इस एक घटना की वजह से फिल्म की टीम की मेहनत को खराब न होने दें’

बता दें कि 9 जुलाई को एंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट गिल्ड ऑफ इंडिया के सदस्यों ने फिल्म की प्रोड्यूसर एकता कपूर को एक लेटर लिखा है. जिसमें लिखा गया,

‘फिल्म ‘जजमेंटल है क्या’ के एक गाने के लॉन्च इवेंट में मीडिया को बुलाया गया. यहां कंगना रनौत जो कि राजकुमार राव के साथ थीं, हमारे एक पत्रकार पर बुरी तरह भड़क उठीं, बावजूद इसके कि उसका सवाल पूरा भी नहीं हुआ था. एंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट गिल्ड ऑफ इंडिया के सदस्यों ने तय किया है कि कंगना रनौत का बहिष्कार किया जाएगा. उन्हें किसी भी तरह की मीडिया कवरेज नहीं दी जाएगी. हम आपसे और कंगना रनौत से इस मामले पर एक लिखित स्टेटमेंट और कंगना द्वारा किए गए बर्ताव के सार्वजनिक माफी की मांग करते हैं. हमने सामूहिक रूप से कंगना रनौत का बॉइकॉट करने और उन्हें किसी तरह की मीडिया कवरेज न देने का फैसला लिया है. बाकी इस मामले से आपकी फिल्म ‘जजमेंटल है क्या’ किसी तरह से प्रभावित नहीं होगी. हम आपकी फिल्म और बाकी कास्ट मेंबर्स को सपोर्ट करते रहेंगे, कंगना को छोड़कर.’

एंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट गिल्ड ऑफ इंडिया द्वारा 'जजमेंटल है क्या' की प्रोड्यूसर एकता कपूर के लिए लिखा गया ओपन लेटर.
एंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट गिल्ड ऑफ इंडिया द्वारा ‘जजमेंटल है क्या’ की प्रोड्यूसर एकता कपूर के लिए लिखा गया ओपन लेटर.

वहीं कंगना की बहन रंगोली चंदेल ने मीडिया को टार्गेट करते हुए लिखा कि कंगना कभी माफी नहीं मांगेंगी. रंगोली ने ट्विटर पर लिखा,

‘एक बात का वादा करती हूं, कंगना से माफी नहीं मिलेगी, इन बिकाऊ, नंगे, देशद्रोही, देश के दलाल मीडिया वालों को, मगर वो तुमको धो-धो कर सीधा जरुर करेगी. देखते जाओ, तुमने गलत इंसान से माफ़ी की मांग की है.’

Ek baat ka main vaada karti hoon, Kangana se apology toh nahin milegi, in bikau, nange, deshdrohi, desh ke dalal, libtard mediawalon ko, magar woh tumko dho dho kar sidha zaroor karegi … just wait and watch, tumne galat insaan se maafi mangi hai … 🙏 pic.twitter.com/gm8UvupO3S

— Rangoli Chandel (@Rangoli_A) July 9, 2019

क्या है पूरा मामला?

‘जजमेंटल है क्या’ के पहले गीत ‘द वखरा’ को सात जुलाई को रिलीज किया गया. इस इवेंट में मीडिया कंगना से फिल्म से जुड़े सवाल कर रही थी. प्रेस कॉन्फ्रेंस में जस्टिन राव नाम के पत्रकार ने जैसे ही अपना नाम बताया, कंगना रनौत भड़क उठीं.

कंगना ने कहा,

‘जस्टिन तुम तो हमारे दुश्मन बन गए हो यार. बड़ी घटिया बातें लिख रहे हो. कितनी ज्यादा गंदी-गंदी बातें लिख रहे हो, इतना गंदा सोचते कैसे हो?’

जब पत्रकार ने बीच में टोकते हुए कहा कि उनका इस तरह का आरोप लगाना गलत है तो कंगना ने कहा, ‘लेकिन तुम्हारे लिए ऐसा करना ठीक है? कंगना ने आगे कहा,

“तुमने कहा कि मैं जिंगोस्टिक महिला हूं, जिसने मणिकर्णिका बनाई है. क्या राष्ट्रवाद पर फिल्म बनाकर मैंने कोई गलती कर दी?’

मामले को शांत करने के लिए प्रोड्यूसर एकता कपूर को बीच में आना पड़ा और उन्होंने मीडिया से हाथ जोड़कर माफी मांगी. इसके बाद पूरी टीम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस पूरी की. लेकिन कंगना ने पत्रकार के सवाल का जवाब देने से भी मना कर दिया.


वीडियो- 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सरकार Facebook से यूजर्स की जानकारी मांग रही है

2 साल में तीन गुनी हुई इमरजेंसी रिक्वेस्ट्स की संख्या.

पुनर्विचार की सभी याचिकाएं खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने रफ़ाल को हरी झंडी दी

राहुल गांधी ने पीएम मोदी को रफ़ाल डील में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए खूब घेरा था.

महाराष्ट्र में नहीं बनी शिवसेना-एनसीपी की सरकार, अब लगेगा राष्ट्रपति शासन

एनसीपी को सरकार बनाने के लिए आज शाम साढ़े आठ बजे तक का समय मिला था.

करतारपुर कॉरिडोर: PM मोदी ने इमरान को शुक्रिया कहा, लेकिन इमरान का जवाब पीएम मोदी को पसंद नहीं आएगा

वहां पर भी कॉरिडोर से ज़्यादा 'विवादित मुद्दे' पर ही बोलता नज़र आया पाकिस्तान.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला: विवादित ज़मीन रामलला को, मुस्लिम पक्ष को कहीं और मिलेगी ज़मीन

जानिए, कोर्ट ने अपने फैसले में और क्या-क्या कहा है...

नेहरु से इतना प्यार? मोदी अब बिना कांग्रेस के नेहरू का ख्याल रखेंगे

एक भी कांग्रेस का नेता नहीं. एक भी नहीं.

शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने से बचाना है, तो बस एक ही तरीका है

शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की मिस्ट्री पर क्या कहा?

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ

दफ़्तर में घुसकर महिला तहसीलदार पर पेट्रोल छिड़का, फिर आग लगाकर ज़िंदा जला दिया

इस सबके पीछे एक ज़मीन विवाद की वजह बताई जा रही है. जिसने आग लगाई, वो ख़ुद भी झुलसा.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

पुलिस और वकील इस झड़प की अलग-अलग कहानी बता रहे हैं.