Submit your post

Follow Us

'कातिल' ने फोन करके कहा- हत्या कर दी है, लाश उठा लो; फ्लैट में मिला NC नेता का शव

नेशनल कॉन्फ्रेंस के वरिष्ठ नेता और जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) विधान परिषद के पूर्व सदस्य त्रिलोचन सिंह वजीर (Tarlochan singh wazir) की दिल्ली में हत्या कर दी गई. उनका शव 9 सितंबर को दिल्ली के मोतीनगर इलाके के एक घर से मिला. पुलिस को इसकी जानकारी त्रिलोचन सिंह के भाई ने दी. असल में हत्या की बात कुबूलते हुए एक शख्स ने त्रिलोचन सिंह के एक करीबी को फोन किया था. इस शख्स का नाम है हरप्रीत सिंह खालसा. हरप्रीत ने कथित तौर पर कहा था, ‘मैंने और हरमीत ने मिलकर त्रिलोचन सिंह की हत्या कर दी है, आकर लाश उठा लो.’

दिल्ली के फ्लैट से मिली सड़ी-गली लाश

9 सितंबर, दिन गुरुवार. राजधानी दिल्ली का मोतीनगर इलाका. पुलिस एक फ्लैट पर पहुंची. फ्लैट के अंदर से काफी बदबू आ रही थी. पुलिस मकान की तीसरी मंजिल पर पहुंची. वहां उन्हें एक फ्लैट पर ताला लगा मिला. पुलिस की टीम दरवाजा तोड़कर अंदर पहुंची. अंदर जाकर देखा तो सड़ी गली हालत में एक लाश पड़ी थी. खबर फैलते ही इलाके में सनसनी फैल गई. लाश के पास एक मोबाइल फोन था. पुलिस ने उस फोन की जांच की तो पता चला यह फोन नेशनल कॉन्फ्रेंस के जम्मू के नेता त्रिलोचन सिंह वजीर (67 साल) का है.

पुलिस ने धारा 302 के तहत हत्या का केस दर्ज कर लिया है. बाकी एंगल से भी जांच की जा रही है. पुलिस को ये मर्डर लग रहा था. इसका सबसे बड़ा कारण है कि जिस शख्स हरप्रीत सिंह के फ्लैट में लाश मिली थी, वो फरार था. दूसरी बात ये कि घर का दरवाजा भी अंदर से बंद नहीं था. पुलिस को ये जानकारी भी मिली कि हरप्रीत ने हत्या की बात फोन करके कबूली है.

हत्या की खबर जम्मू-कश्मीर तक पहुंची. जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम और नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने त्रिलोचन सिंह की मौत पर दुख जाहिर किया. उन्होंने लिखा,

‘दोस्त सरदार त्रिलोचन सिंह वजीर की आकस्मिक मौत की जानकारी मिली. वह विधान परिषद के पूर्व सदस्य थे. कुछ दिन पहले जम्मू में उनसे मिला था. नहीं पता था कि यह हमारी आखिरी मुलाकात होगी. उनकी आत्मा को शांति मिले.’

‘परिवार को गुमराह करता रहा हरप्रीत’

शक की सुई बार-बार फ्लैट को किराए पर लेने वाले हरप्रीत सिंह खालसा की तरफ जा रही है. लेकिन पुलिस इस उलझन को भी सुलझाने की कोशिश कर रही है कि आखिर त्रिलोचन सिंह उसके फ्लैट पर कैसे पहुंचे. 1 सितंबर को त्रिलोचन सिंह जम्मू से दिल्ली आए थे. 3 सितम्बर को उन्हें कनाडा जाना था. जब वो कनाडा नहीं पहुंचे तो घर वालों को चिंता हुई. हरप्रीत ने परिवारवालों को बताया कि त्रिलोचन सिंह को बीच में जर्मनी के एयरपोर्ट पर क्वारंटीन कर लिया गया है. इससे त्रिलोचन सिंह के परिवारवालों को संतुष्टि नहीं हुई. उन्होंने इमिग्रेशन में चेक किया तो पता चला कि त्रिलोचन भारत छोड़कर गए ही नहीं थे. इसके बाद परिवार वाले उनकी तलाश में जुट गए. शव मिलने के बाद त्रिलोचन के परिवार का शक हरप्रीत पर बढ़ गया.

त्रिलोचन सिंह के जिस करीबी को हरप्रीत ने कथित तौर पर फोन करके हत्या की बात कबूली थी, उसने त्रिलोचन के भाई को पूरी बात बताई. त्रिलोचन सिंह के भाई जम्मू-कश्मीर पुलिस के रिटायर्ड एसएसपी हैं. उन्होंने जम्मू पुलिस को कॉल करके बताया, तब जाकर त्रिलोचन सिंह की लाश मिली. फिर दिल्ली पुलिस को जानकारी दी गई. दिल्ली में डीसीपी वेस्ट उर्विजा गोयल ने बताया कि उनके पास जम्मू पुलिस से फोन आया था. उसके बाद त्रिलोचन सिंह को ढूंढना शुरू किया गया. जम्मू पुलिस ने आशंका जताई थी कि वह दिल्ली के रमेश नगर इलाके में हो सकते हैं. 8 सितंबर को पुलिस ने उन्हें रमेश नगर में ढूंढा लेकिन कोई जानकारी नहीं मिली. अगले दिन जानकारी मिली कि मोती नगर के बसई दारापुर इलाके के एक फ्लैट से तेज बदबू आ रही है. पुलिस वहां पहुंची तो त्रिलोचन सिंह का शव मिला.

सीसीटीवी में दिखे दोनों आरोपी

पुलिस ने पता लगाया कि जिस फोन से हरप्रीत ने कथित तौर पर त्रिलोचन की हत्या की जानकारी दी थी, उसकी आखिरी लोकेशन दिल्ली की थी. मौक़ा-ए-वारदात पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली गई. इसमें हरप्रीत के साथ हरमीत भी दिखाई दे रहा है. पुलिस सूत्रों ने आजतक से दावा किया कि हरप्रीत ने त्रिलोचन की हत्या की प्लानिंग लंबे वक्त से कर रखी थी. हरप्रीत ने इसके लिए मोती नगर के बसई दारापुर इलाक़े में जनवरी में किराए पर घर लिया था. जिस घर में लाश मिली, उसका सारा सामान हरप्रीत पहले ही बेच चुका था.

त्रिलोचन सिंह के भाई ने पुलिस को बताया है कि उनकी (त्रिलोचन) आरोपियों के साथ पॉलिटिकल लड़ाई चल रही थी. शायद इसी वजह से हत्या को अंजाम दिया गया है. त्रिलोचन सिंह के भाई ने दिल्ली पुलिस को कुछ और नाम दिए हैं जो हत्या की साज़िश में शामिल हो सकते हैं. हालांकि कई सवालों के जवाब मिलने अभी बाकी हैं. जैसे-

– हत्या का मक़सद क्या है?
– त्रिलोचन सिंह आरोपी हरप्रीत के फ्लैट पर कैसे पहुंचे?
– हत्याकांड को अंजाम कैसे दिया गया?

इन सब बातों का खुलासा आरोपियों की गिरफ़्तारी के बाद ही हो पाएगा. फिलहाल पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी हुई है.


वीडियो – सिविल डिफेंस वालंटियर मर्डर केस में परिवार ने की हाई लेवल जांच कराने की मांग

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

इंसाफ दिलाने के लिए धमकियों और खतरों की परवाह नहीं की.

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा.

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात.

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

कश्मीर ज़ोन पुलिस ने बताया घटनास्थलों को खाली कराया गया. तलाशी जारी.

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

राकेश टिकैत ने भी मीडिया से बात की है.

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

कुरान को लेकर अफवाह उड़ी और बांग्लादेश के कई हिस्सों में सांप्रदायिक तनाव फैल गया.

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

जज ने दोनों पक्षों की दलीलें तो सुनी लेकिन अपना फैसला रिज़र्व रख दिया.

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

किसी ने लोन लेकर परिवार को नया घर दिया था तो कोई दिवंगत पिता के शोक में जाने वाला था.

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

पुलिस ने संदिग्ध आतंकी के पास से एके-47, हैंड ग्रेनेड और कई कारतूस मिलने का दावा किया है.

Urban Company की महिला 'पार्टनर्स' ने इसके खिलाफ मोर्चा क्यों खोल दिया है?

Urban Company की महिला 'पार्टनर्स' ने इसके खिलाफ मोर्चा क्यों खोल दिया है?

ये महिलाएं अर्बन कंपनी के लिए ब्यूटिशियन या स्पा वर्कर का काम करती हैं.