Submit your post

Follow Us

राशिद जैसे दिग्गजों को खेलते क्यों नहीं देख पाएंगे अफ़ग़ानिस्तान के लोग?

IPL 2021 में खेल रहे अफ़ग़ानिस्तानी प्लेयर्स को उनके मुल्क के लोग नहीं देख पाएंगे. क्योंकि तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान मीडिया आउटलेट्स को IPL का प्रसारण नहीं करने की चेतावनी दे दी है. इसके पीछे का कारण बस इतना सा है कि इस टूर्नामेंट में महिला दर्शक मौजूद हैं. और तालिबानियों को महिलाओं के बाहर निकलने से सख्त नफरत है.

आपको बता दें कि अफ़ग़ानिस्तान में IPL के बैन होने की जानकारी अफ़ग़ानिस्तानी न्यूज चैनल टोलो के जर्नलिस्ट फवाद अमान ने दी है. उन्होंने ट्वीट किया,

‘वाहियात, तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान में Indian Premier League (IPL) के प्रसारण पर प्रतिबंध लगा दिया है. तालिबान ने चेतावनी दी है कि अफ़ग़ान मीडिया आउटलेट्स IPL को ब्रॉडकास्ट ना करें. क्योंकि इसमें लड़कियां नाचती हैं और स्टेडियम में दर्शक के रूप में भी मौजूद रहती हैं.’

# महिलाओं के प्रति तालिबान

अब तालिबान का महिलाओं के प्रति रुख कैसा है, ये तो पूरी दुनिया जानती है. महिलाओं को वो कुछ क्षेत्रों में काम करने की इजाज़त दे रहे हैं, लेकिन खेलों में महिलाओं की हिस्सेदारी से उनको सख्त नफरत है. वो ये साफ कर चुके है कि अफगानिस्तान की महिलाएं किसी भी खेल का हिस्सा नहीं लेंगी. वहीं पुरुष आराम से खेल सकते है. हमारा उनको पूरा समर्थन है.

इंडिया टुडे से बात करते हुए अफ़ग़ानिस्तान क्रिकेट के पूर्व CEO हामिद शिनवारी ने कहा था,

‘यह कहने में बहुत अच्छा लग रहा है कि तालिबान अपने आने के बाद से ही देश में क्रिकेट के विकास का समर्थन कर रहा है. अब तक, मैंने देश में क्रिकेट के विकास में कोई बाधा नहीं देखी है वे सहायक रहे हैं.’

लेकिन अब उनकी ये बात किसी काम की नहीं लगती है. क्योंकि तालिबान के सपोर्ट से खिलाड़ी खेलने तो जा रहे है लेकिन उनके देशवासी उन्हें देख नहीं पा रहे है. वो भी सिर्फ इसलिए क्योंकि वहां स्टैंड्स में महिलाएं मौजूद है. उनका मोटो सिम्पल है, हम अपने यहां की महिलाओं को अधिकार देंगे नहीं, और अगर दुनिया देती है तो उसको अपने यहां दिखाएंगे नहीं.

अब ये तो साफ होता नज़र आ रहा है कि तालिबान के राज़ में तो अफ़ग़ानिस्तानी कभी क्रिकेट का लुत्फ नहीं उठा पाएंगे. क्योंकि अब उनके लिए तो महिलाओं को क्रिकेट स्टेडियम में घुसने से मना तो किया नहीं जाएगा.

# क्रिकेट कमिटी में बदलाव

इसके साथ ही बता दें कि तालिबान ने हाल ही में हामिद शिनवारी को अफ़ग़ानिस्तान क्रिकेट बोर्ड के CEO के पद से हटा दिया गया है. इस बात की जानकारी दी हामिद शिनवारी ने अपने फेसबुक के जरिए दी है. उन्होंने लिखा है कि उनको हटाने का कोई कारण नहीं बताया गया है. उनकी जगह अब नसीबुल्लाह हक्कानी को नया CEO नियुक्त किया गया है.


राजस्थान रॉयल्स और किंग्स इलेविन पंजाब की जंग में कौन जीतेगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जानिए CDS बिपिन रावत के साथ हैलिकॉप्टर में कौन-कौन सवार था?

जानिए CDS बिपिन रावत के साथ हैलिकॉप्टर में कौन-कौन सवार था?

कुन्नूर के घने जंगल में हेलिकॉप्टर क्रैश हुआ

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'