Submit your post

Follow Us

कोई कुत्ता मार जाता है, कोई जान पर खेल गइया बचाता है

बहुत दिनों से एक के बाद एक ऐसी ख़बरें आ रही हैं. जानवरों को कभी कोई पीट रहा है, कोई उनके बाल जला रहा है. कोई गोली ही मार दे रहा है. कभी किसी गधे को बेमतलब पीटा जा रहा है, कभी कुत्तों को मार दिया जा रहा है. आज ही एक और खबर आई.

अब गाजियाबाद में एक आदमी को कुत्तों के भौंकने की वजह से बहुत प्रॉब्लम हो रही थी. और उससे भी ज्यादा प्रॉब्लम इस बात से थी कि पड़ोस वाली औरत कुत्तों को रोज़ खाना खिलाती हैं. वैसे हर कॉलोनी में इस तरह के एकाध जलकुकड़े ज़रूर होते हैं. लेकिन ये वाले कुछ ज्यादा नीच निकले. इनको इतना गुस्सा आया कि लाठी से दौड़ा-दौड़ा कर कुत्तों को मारने लगे. एक कुत्ते को इतना मारा कि बेचारा वो कुत्ता मर गया. CCTV कैमरे में इनकी ये हरक़त रिकॉर्ड हो गई. पुलिस में FIR कर दी गई है.

दो दिनों पहले अभी वड़ोदरा में भी ऐसा ही कुछ हुआ था. दो ‘शूरवीर’ थे. एक कुत्ते को बाइक के पीछे बांध कर घसीट लिए. सिर्फ मज़े लेने के लिए. वो तो गनीमत है कि दो भले लड़कों ने बचा लिया. अब उस कुत्ते का इलाज चल रहा है.

credit: ANI
credit: ANI

लेकिन जो लोग इस तरह अपने से कमज़ोर किसी जानवर, बच्चे या बुज़ुर्ग को इस तरह से मारते हैं. क्या साबित करना चाहते हैं? बहुत स्ट्रांग हैं? स्टड हैं? कोई हीरो हैं? किसी दिन जब इनको इनसे बड़ा वाला कोई मिल जाएगा, पूरा पिलपिला जाएंगे.

खैर, इन सारी बुरी वाली बातों के बीच में एक अच्छी वाली खबर भी आई है.

मुरादाबाद का किस्सा है. एक बिना मुंडेर वाला कुआं था. 35 फीट गहरा. एक गाय कहीं से घास चर के आ रही होगी. कुएं में गिर गई. लेकिन वहां आस-पास भले लोग रहते थे. पुलिस और फायर-ब्रिगेड वालों को बुला लिया. सबने मिल कर उस गाय को बाहर निकाला. अब उसका भी इलाज करवा रहे हैं.

credit: ANI
credit: ANI
credit: ANI
credit: ANI

हालांकि ये एक छोटी से बात है. लेकिन इतनी सारी बुराई के बीच में ऐसी छोटी सी एक भी अच्छी खबर मिल जाती है तो अच्छा लगता है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोना के आइसोलेशन वॉर्ड में सोशल डिस्टेंसिंग का अब्बा-डब्बा-जब्बा कर दिया

साथ मिलकर नमाज़ पढ़ते दिखे कोरोना के संदिग्ध मरीज़.

डॉक्टरों ने कहा- क्वारंटीन करना पड़ेगा, तो पूरे मोहल्ले ने पत्थर मारते हुए दौड़ा लिया

ये हाल उस शहर का है, जहां से एक दिन में 13 केस आए हैं.

मरकज में पहुंचे लोगों ने हर राज्य में कोरोना वायरस के मामले बढ़ा दिए हैं

तबलीगी जमात में शामिल होने के बाद लोग अलग-अलग राज्यों के लिए रवाना हो गए थे.

कोरोना वायरस से पद्म श्री अवॉर्डी की मौत, विदेश से लौटने के बाद कई धार्मिक सभाएं की थीं

गोल्डन टेंपल के पूर्व रागी थे निर्मल सिंह.

कोरोना के मरीज़ों के लिए महिंद्रा ने जो सस्ता वेंटिलेटर बनाया, उसका डिज़ाइन चोरी किया हुआ है!

इसे सबसे पहले बनाने वाले डॉक्टर क्या कह रहे?

जयपुर: एक शख्स से मोहल्ले के 26 लोगों को कोरोना वायरस इंफेक्शन हो गया

18 दिन पहले ओमान से लौटा था शख्स.

कोरोना से लड़ने के लिए अजीम प्रेमजी ने अब सच में बहुत बड़ी रकम डोनेट कर दी है

डोनेशन की भ्रामक अफवाहों के बीच अब असली खबर आई.

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, बिना हमसे जांच कराए कोरोना की कोई ख़बर न छपे

कहा कि इससे लोग डर सकते हैं.

कोरोना: तबलीगी जमात ने दिखाई पुलिस-प्रशासन को लिखी पुरानी चिट्ठी

तबलीगी ज़मात की सफ़ाई क्या है? दस्तावेज़ क्या कहते हैं?

जिस चीज़ की ज़रूरत डॉक्टरों को सबसे पहले होती है, सरकार उसे अब मंगा रही है

15 भारतीय कंपनियों ने क्वालिटी टेस्ट पास कर लिया है.