Submit your post

Follow Us

पूर्व मेजर जनरल ने कहा, मोदी के खिलाफ चिट्ठी पर सभी की हामी का रिकॉर्ड है

7.68 K
शेयर्स

11 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग थी. दिन भर चुनाव से जुड़ी खबरें चलती रहीं. लेकिन शाम में खबरों की लिस्ट में एक और खबर ने एंट्री मारी. खबर आई कि 156 पूर्व सैनिकों ने राष्ट्रपति को मोदी के खिलाफ चिट्ठी लिखी. चिट्ठी में लोकसभा चुनाव में सैनिकों के नाम के इस्तेमाल पर आपत्ति दर्ज कराई गई है. चिट्ठी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई.

फिर इस मामले में अपडेट आया. चिट्ठी में कई बड़े लोगों के नाम थे उनमें से कुछ सामने आए और उन्होंने साफ तौर पर मना कर दिया कि चिट्ठी में उनका नाम तो है लेकिन चिट्ठी से उनका कोई लेना-देना नहीं है. अब इस मामले में एक और नया लेटेस्ट वाला अपडेट आया है. पूर्व मेजर जनरल सुधीर वोमबटकेरे का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा ‘सभी ईमेल्स को रिकॉर्ड किया गया है’.

अब पुरानी चिट्ठी भी देख लीजिए

Untitled design (48)   Untitled design (49) Untitled design (50) Untitled design (51)

चिट्ठी ने नाम सामने आने के बाद पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल एसएफ रोड्रिग्स ने कुछ इस तरह बयान  दिया था:

सर्विस में रहने के दौरान हमने हमेशा वही किया है जो सरकार ने हमें आदेश दिया. हम देश का एक हिस्सा हैं. हमारा राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है. कोई भी कुछ भी कह सकता है और फिर इसे फेक न्यूज बनाकर बेच सकता है, मुझे नहीं पता कि यह सज्जन कौन हैं, जिसने इसे लिखा है.

पूर्व एयरचीफ मार्शल निर्मल चंद्र सूरी ने कहा:

सशस्त्र बल गैर-राजनीतिक हैं और राजनीतिक रूप से चुनी हुई सरकार का वे समर्थन करते हैं. ऐसी किसी भी चिट्ठी के लिए मेरी सहमति नहीं ली गई. उस चिट्ठी में जो कुछ भी लिखा गया है, उससे मैं सहमत नहीं हूं. हमें गलत बताया गया है.

इसके बाद न्यूज एजेंसी ANI ने भी खबर दी थी कि राष्ट्रपति भवन ने किसी तरह की चिट्ठी मिलने से इनकार कर दिया है. फिर शाम होते-होते ये खबर भी चल पड़ी थी कि चिट्ठी ही फर्जी है. फिर इस मामले में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण का भी बयान आया था. उन्होंने चिट्ठी को फर्जी बताते हुए कहा था:

लोगों से उनकी सहमति न लिया जाना आपत्तिजनक है. मैं कहना चाहूंगी कि चुनाव के समय, फर्जी शिकायतें नहीं दी जानी चाहिए. वास्तविक शिकायतों के लिए आपका स्वागत है, लेकिन प्रख्यात नागरिकों, प्रख्यात अधिकारियों की अनुमति के बिना, अगर चिट्ठी में उनका नाम शामिल किया जाता है तो ये आपत्तिजनक है.

अब तमाम आरोप प्रत्यारोप के बाद पूर्व मेजर जनरल सुधीर वोमबटकेरे ने नया दावा किया है. उन्होंने बातों से जता दिया कि जो चिट्ठी राष्ट्रपति के नाम लिखी गई उसे सभी का समर्थन हासिल था. चिट्ठी बिना किसी सहमति के नहीं लिखी गई थी.

कुल मिलाकर इस मामले ने तूल पकड़ लिया है. लगातार नई-नई बातें सामने आ रही है. अब इस मामले में जो भी अपडेट होगा वो हम आप तक पहुंचाएंगे.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
In a letter row Major General Sudhir Vombatkere says meticulously recorded email responses

टॉप खबर

CM नीतीश कुमार अस्पताल में थे, बच्चे की मौत हो गई

चमकी कहें या इंसेफेलाइटिस, अब तक 129 बच्चों की मौत हो चुकी है.

मनमोहन सिंह को राज्य सभा में भेजने के लिए कांग्रेस ये तिगड़म भिड़ा रही है

अपना एक मात्र चुनाव हारने वाले मनमोहन सिंह पिछले 28 साल में पहली बार संसद के सदस्य नहीं होंगे.

राजीव गांधी के हत्यारे ने संजय दत्त की मुश्किलें बढ़ा दी हैं

जेल में बंद पेरारिवलन ने संजय दत्त से जुड़ी बहुत सी जानकारी इकट्ठी की है.

कठुआ केस के छह दोषियों को क्या सज़ा मिली?

अदालत ने सात में से छह आरोपियों को दोषी माना था. मास्टरमाइंड सांजी राम का बेटा विशाल बरी हो गया.

कठुआ केस में फैसला आ गया है, एक बरी, छह दोषी करार

दोषियों में तीन पुलिसवाले भी शामिल हैं.

पांच साल की बच्ची से रेप किया और फिर ईंटों से कूंचकर मार डाला

उज्जैन में अलीगढ़ जैसा कांड, पड़ोसी ही निकला हत्यारा...

अफगानिस्तान किन गलतियों से श्रीलंका से जीता-जिताया मैच हार गया?

मलिंगा का तो जोड़ नहीं.

क्या चुनावी नतीजे आने के 10 दिनों के अंदर यूपी में 28 यादवों की हत्या हुई है?

28 नामों की एक लिस्ट वायरल हो रही है. लेकिन सच क्या है?

मायावती ने ऐसा क्या कह दिया कि फिलहाल गठबंधन को टूटा मान लेना चाहिए

प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने गठबंधन तोड़ने का सीधा ऐलान तो नहीं किया, लेकिन बहुत कुछ कह गयीं.

चुनाव नतीजे आए दस दिन हुए नहीं, मायावती ने गठबंधन पर सवाल उठा दिए

वो भी तब जब मायावती के पास जीरो से बढ़कर दस सांसद हो गए हैं