Submit your post

Follow Us

पिता बच्ची को मंदिर छोड़कर गया, लौटा तो पुजारी रेप कर रहा था

हर खबर की एक औकात होती है. मसलन, आबकारी विभाग के किसी अधिकारी का रिश्वत लेते पकड़ा जाना जिले लेवल की खबर है. उसमें किसी मंत्री का शामिल होना राज्य लेवल की खबर है. और उस मंत्री का प्रधानमंत्री का साला होना राष्ट्रीय स्तर की खबर है. पर हमारे आसपास इतनी घटनाएं हो रही होती हैं कि हम सबको तवज्जो नहीं देते. हमारा ध्यान उन पर तब जाता है, जब वो बार-बार होती हैं. कठुआ रेप-मर्डर केस हमें एक सोसायटी के तौर पर भले न सुधार पाया हो, लेकिन उसका इतना हासिल तो है कि उसने देश की बच्चियों के साथ रेप को राष्ट्रीय स्तर की खबर बना दिया.

कठुआ, उन्नाव, सासाराम, सूरत, गाज़ीपुर और गाज़ियाबाद के बाद अब राजस्थान के अजमेर से खबर आई है. यहां के कल्याणीपुर गांव में हनुमान मंदिर के 70 साल के पुजारी ने सात साल की बच्ची के साथ रेप की कोशिश की. बच्ची के पिता ने पुजारी को बच्ची के साथ ही पकड़ लिया, पीटा और पुलिस के हवाले कर दिया. पुलिस ने पुजारी के खिलाफ पॉक्सो के तहत केस दर्ज किया है.

ajmer

डीटेल जान लीजिए

कल्याणपुरी गांव में कालीचाट माता का एक मंदिर है. पिता बच्ची को अपने साथ उसी मंदिर में ले जा रहा था. मंदिर बहुत ऊंचाई पर था, तो पिता ने उसे रास्ते के ही हनुमान मंदिर पर उतार दिया. पिता के चले जाने पर हनुमान मंदिर का पुजारी सेवानंद बच्ची को फुसलाकर अपने कमरे में ले गया.

लौटने पर पिता को जब बच्ची नहीं मिली, तो वो उसे खोजते हुए पुजारी के कमरे में गया. वहां पुजारी उसे बच्ची के साथ आपत्तिजनक हालत में मिला. पिता ने पहले बच्ची को पुजारी के कमरे से घर छोड़ा, फिर घर और गांववालों को साथ लेकर पुजारी को पीटा. इसके बाद उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया.

पुजारी की पिटाई के बार मंदिर के पास खड़े गुस्साए लोग.
पुजारी की पिटाई के बार मंदिर के पास खड़े गुस्साए लोग.

पुलिस ने क्या किया

पुलिस ने पुजारी को शांतिभंग के आरोप में अरेस्ट करके कोर्ट में पेश किया. वहां से ज़मानत मिलने के बाद उसे दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार किया. उस पर पॉक्सो के तहत केस दर्ज किया गया है. अलवर गेट थाने की पुलिस ने जवाहरलाल नेहरू हॉस्पिटल में बच्ची का मेडिकल कराया और सेवानंद को एक दिन की रिमांड पर लिया.

कई बरसों से मंदिर में पुजारी है सेवानंद

थाना प्रभारी और केस के जांच अधिकारी हरिपाल सिंह के मुताबिक पुजारी का पूरा नाम सेवानंद उर्फ बलवंत सिंह उर्फ धोबीला है. वो मूलत: मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले के हिनौता खेवरियां इलाके का रहने वाला है. वो पिछले 40 सालों से अजमेर में रह रहा है और कई बरसों से मंदिर में पुजारी का काम कर रहा है. अजमेर पुलिस ने एमपी पुलिस से कॉन्टैक्ट करके सेवानंद का क्रिमिनल रिकॉर्ड भी खंगाला, जिसमें पता चला कि जबलपुर में उसके खिलाफ कोई केस नहीं दर्ज है.

मां के साथ बच्ची.
मां के साथ बच्ची.

हम क्या करें

उम्मीद करें कि शहरों की इस लिस्ट में अब और नाम न जुड़ें. उम्मीद पर दुनिया कायम है.

(तस्वीरें: भास्कर से साभार.)


ये भी पढ़ें:

हिंदुत्व के नाम पर गुंडागर्दी करने वालों से ऐमज़ॉन कंपनी यूं डरी, कि दुम-दबाकर भागी 

गाजियाबाद रेप केस पर ये घिनौना कैम्पेन कौन चला रहा है?

आसाराम ने जो किया था वो रेप था या नहीं, जानिए हर एक बारीक बात

गुड़िया रेप केस: हिमाचल पुलिस की इतनी भद्द आज तक नहीं पिटी थी, CBI नई थ्योरी लाई है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.

क्या 73 दिन में कोरोना वैक्सीन आ रही है? बनाने वाली कंपनी ने बताई सच्ची-सच्ची बात

कन्फ्यूजन है कि खुश होना है या अभी रुकना है?

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?