Submit your post

Follow Us

कोरोना का नियम बदला, अब बिना टेस्ट ही घर भेजे जाएंगे कम बीमार मरीज

केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस के मरीजों को अस्पताल से छुट्टी देने के निर्देशों में बदलाव किया है. इसके तहत अब गंभीर रूप से बीमार मरीजों का ही डिस्चार्ज से पहले टेस्ट होगा. और उनकी रिपोर्ट नेगेटिव  आने का इंतजार किया जाएगा. बाकी मरीजों को बिना टेस्ट के छुट्टी दे दी जाएगी. साथ ही छुट्टी मिलने के बाद घर पर केवल सात दिन आइसोलेशन में रहना होगा.  केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने 8 मई को इस बारे में गाइडलाइंस जारी कर दी. अब तक नियम था कि कोरोना पॉजीटिव व्यक्ति की जब तक 24 घंटे में दो रिपोर्ट नेगेटिव नहीं आती थी. उसे डिस्चार्ज नहीं करते थे.

क्या है नई गाइडलाइंस

बहुत हल्के, हल्के या संक्रमण से पहले के लक्षणों वाले मरीज

# ऐसे मरीजों को कोविड केयर फैसिलिटी में भर्ती किया जाएगा.
# यहां पर रोजाना शरीर का तापमान और ऑक्सीजन लेवल की जांच होगी.
# 10 दिन बाद इस तरह के मरीजों को छुट्टी दी जा सकती है. बशर्तें उन्हें लगातार तीन दिन तक बुखार न हो.
# छुट्टूी देते समय किसी जांच की जरूरत नहीं.
# ऐसे मरीजों को घर पर सात दिन तक बाकी सब लोगों से अलग रहना होगा.
# छुट्टी देने से पहले अगर किसी मरीज का ऑक्सीजन लेवल 95 प्रतिशत से नीचे जाता है तो उन्हें डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर भेजा जाएगा.

Untitled Design (33)
एक अस्पताल पर फूल बरसाता सेना का हेलीकॉप्टर. यह कदम कोरोना वॉरियर्स यानी डॉक्टरों के सम्मान में उठाया गया था. (Photo:AP)

मॉडरेट लक्षणों वाले मरीज

# ऐसे मरीजों को डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर में भर्ती किया जाएगा. इन्हें ऑक्सीजन बेड दिया जाएगा.
# अगर तीन दिन बुखार नहीं आता है, अगले चार दिन तक ऑक्सीजन लेवल 95 प्रतिशत तक ही रहता है तो मरीज को 10 दिन में डिस्चार्ज किया जा सकता है.
# इन्हें भी छुट्टी देने से पहले टेस्ट की जरूरत नहीं होगी.
# इन्हें भी सात दिन तक घर में बाकी सब लोगों से अलग रहना होगा.
# जिन मरीजों का तीन दिन में बुखार नहीं उतरा और जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत होगी. उन्हें बीमारी के लक्षण हटने पर ही छुट्टी दी जाएगी. साथ ही यह भी देख जाएगा कि लगातार तीन दिन तक उनका ऑक्सीजन लेवल ठीक रहा हो.

गंभीर रूप से बीमार

# ऐसे मरीजों को पूरी तरह से ठीक होने पर ही छुट्टी दी जाएगी.
# बीमारी के लक्षण समाप्त होने के अलावा RT-PCR टेस्ट एक बार नेगेटिव आने पर छुट्टी दी जाएगी.

Mumbai Coronavirus Case
कोविड-19 मरीज़ के सैंपल लेता हेल्थ वर्कर. प्रतीकात्मक तस्वीर. क्रेडिट- PTI.

फिर से बीमारी के लक्षण दिखने पर

# छुट्टी मिलने के बाद अगर फिर से खांसी, बुखार या सांस लेने में दिक्कत होती है तो कोविड केयर सेंटर से संपर्क करना होगा. राज्य की हेल्पलाइन सेवा या 1075 पर भी फोन किया जा सकता है.
# 14 दिन तक टेली कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उसकी सेहत पर नज़र रखी जाएगी.

सरकार के फैसले पर सवाल

सरकार के इस फैसले पर सवाल भी उठे हैं. एम्स के रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी श्रीनिवास राजकुमार ने द हिंदू से कहा कि यह फैसले खतरा बढ़ा सकता है. उन्होंने कहा कि बिना जांच किए मरीजों को भेजे जाने पर दूसरे लोगों में वायरस फैल सकता है. अगर सरकार पर्याप्त संख्या में टेस्टिंग सुविधा तैयार नहीं कर पाई तो 40 दिन तक क्या कर रही थी.

भारत में कोरोना वायरस के मामलों का स्टेटस


Video: क्या प्राइवेट अस्पताल कोरोना मरीजों से एक्स्ट्रा फीस वसूल रहे हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

राहुल ने जताई थी चिंता, रविशंकर प्रसाद ने बताया-आरोग्य सेतु ऐप में इकट्ठा डेटा का क्या होता है

आज तक ई-एजेंडा कार्यक्रम में बताया भारत वॉट्सऐप का देसी वर्जन तैयार करने में लगा है.

स्पेशल ट्रेन चल रही है, फिर भी पैदल ही क्यों घर चले जा रहे हैं लाखों मजदूर?

तमाम मज़दूरों की शिकायत है कि हेल्पलाइन नंबर पर भी मदद नहीं मिल रही.

चीन के वुहान मार्केट से कोरोना वायरस फैलने पर WHO ने बड़ी बात कही है

कोरोना वायरस के मामले दिसंबर 2019 से आने शुरू हो गए थे.

विराट के इस खिलाड़ी ने कहा, धोनी को इंडिया के लिए खेलना चाहिए!

'अगर वो खेलते हैं, फिर ये टीम के लिए बहुत आसान हो जाएगा.'

कोरोना वायरस के चलते इस आदमी का दुनिया में सबसे ज़्यादा नुकसान हुआ है

दुनियाभर की इकॉनमी पर लॉकडाउन.

चैपल बोले- ऐसे ऑस्ट्रेलिया में नहीं जीतेगा भारत, अब शमी ने सवाल सुने बिना ही जवाब दे दिया!

चैपल को क्यों लगता है, ऐसे तो ऑस्ट्रेलिया में इंडिया के चांस ज़ीरो हैं.

कैप्टन धोनी की तारीफ करते-करते रिकी पॉन्टिंग के बारे में ये क्या कह गए माइक हसी!

ऑस्ट्रेलियन फैंस को चुभेगी हसी की ये बात.

मुंबई में मीटिंग चल रही थी और साउथ फिल्म इंडस्ट्री 'ऊपर' से काम चालू करने की परमिशन ले आई

इस पूरे गेम के पीछे इस आदमी का हाथ है.

लॉकडाउन के बीच कैलाश मानसरोवर यात्रा को लेकर अच्छी खबर आई है

कई साल से चल रहा काम पूरा हो गया है.

Unacademy से पढ़ते हैं तो संभल जाएं, हैकर्स ने कई यूजर्स का डेटा चुरा लिया है

हैकर्स का कहना है अनअकेडमी का पूरा डाटाबेस उनके पास है.