Submit your post

Follow Us

मोदी की 'हुंकार' रैली में धमाके करने के आरोपियों को NIA कोर्ट ने दोषी ठहराया

अक्टूबर 2013 की घटना है. यही तारीख थी. 27 अक्टूबर. नरेंद्र मोदी 2014 के लोकसभा चुनाव के लिए BJP के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बन चुके थे. उस दिन बिहार की राजधानी पटना स्थित गांधी मैदान में उनकी रैली थी. ‘हुंकार’ रैली नाम दिया गया था. लेकिन रैली में एक के बाद एक धमाके हो गए. पटना जंक्शन पर भी धमाका हुआ था. इन ब्लास्ट में 6 लोगों की मौत हो गई थी. 90 से ज्यादा घायल हुए थे. अब इस मामले में विशेष NIA अदालत ने फैसला सुनाते हुए 10 में से 9 आरोपियों को दोषी करार दिया है. वहीं सबूतों के अभाव में एक आरोपी को बरी कर दिया गया है.

NIA ने इस मामले में कुल 11 लोगों को अरेस्ट किया था. जांच के बाद उसने 21 अगस्त 2014 को सभी अभियुक्तों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था. इनमें से एक नाबालिग था, जिसकी अलग से सुनवाई की गई थी. बाकी 10 आरोपी थे हैदर अली, नोमान अंसारी, मोहम्मद मुजिबुल्लाह अंसारी, मोहम्मद इम्तियाज आलम, अहमद हुसैन, फकरुद्दीन, मोहम्मद फिरोज असलम, इम्तियाज अंसारी, मोहम्मद इफ्तिकार आलम और अजहरुद्दीन कुरैशी. इनमें से फकरुद्दीन को अदालत ने बरी कर दिया है.

Gandhi Maidan Serial Blast
धमाके के बाद की तस्वीर. (फाइल फोटो- इंडिया टुडे.)

कैसे बनाई साजिश?

इस केस में वकील लल्लन प्रसाद सिन्हा ने NIA की तरफ से पैरवी की थी. उन्होंने इंडिया टुडे से बात करते हुए बताया,

“अदालत में सुनवाई के दौरान सुरक्षा एजेंसियों ने ये साबित किया कि गांधी मैदान में सीरियल ब्लास्ट करने की पूरी साजिश रायपुर (छ्त्तीसगढ़) में रची गई थी. गांधी मैदान सीरियल ब्लास्ट कांड एक अंतरराज्यीय साजिश थी जिसे रायपुर में रचा गया था. आतंकवादियों को बम बनाने की सामग्री झारखंड से मिली थी. NIA कोर्ट ने 10 में से 9 आरोपियों को दोषी ठहराया है और एक को बरी कर दिया है.”

इंडिया टुडे/आजतक से जुड़े रोहित कुमार सिंह की रिपोर्ट के अनुसार गिरफ्तार आतंकी इम्तियाज NIA के लिए अहम कड़ी साबित हुआ. जांच एजेंसी ने जब उससे सख्ती से पूछताछ शुरू की तो उसने कई नाम उगले. इसके बाद मास्टर माइंड हैदर अली समेत दो दर्जन से अधिक आतंकियों को जांच एजेंसी ने दबोचा. बाद में बोधगया ब्लास्ट मामले का खुलासा भी इसी आतंकी के बयान से हुआ था.

2013 Gandhi Maidan Serial Blasts Case
धमाके के 3 दोषियों को ले जाती पुलिस. (तस्वीर- पीटीआई)

एनआईए की स्पेशल कोर्ट बीते आठ वर्षों से इस मामले की सुनवाई कर रही थी. अब फैसला आने के बाद 9 दोषियों की सजा का ऐलान 1 नवंबर को किया जाएगा. NIA का पक्ष रखने वाले एक और वकील मोहन प्रसाद ने कहा कि जांच एजेंसी दोषियों के खिलाफ मौत की सजा की मांग करेगी.

(ये स्टोरी हमारे यहां इंटर्नशिप कर रहीं सृष्टि ने लिखी है.)


गुजरात दंगों के दो पोस्टर बॉय एक फ्रेम में आए हैं, और यही नए भारत की तस्वीर है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?