Submit your post

Follow Us

पूर्व IAS ने ये फोटो खींची, तो भगवा गमछावालों ने रायफल लेकर घर पर हमला कर दिया

हमारा लोकतंत्र, जिस पर हमें अगाध गर्व है, वह धीरे-धीरे भीड़तंत्र में तब्दील हो रहा है. झारखंड में बच्चा-चोरी की अफवाहों पर दो जगह उग्र भीड़ का 6 लोगों की पीट-पीटकर हत्या करना हो या राजस्थान के अलवर में पहलू खान का पक्ष जाने बिना उनकी हत्या या देश में मॉब-लिंचिंग की दूसरी घटनाएं. हम लोकतंत्र से भीड़तंत्र में बदलते जा रहे हैं! भीड़ शरारती और उग्र हो गई है. भीड़ यह नहीं देखती कि कौन किस पद  पर है, कौन गलत है, कौन सही है; बस शक के आधार पर भीड़ का गुस्सा उबाल मार जाता है और भीड़ हमला कर देती है.

मॉब-लिंचिंग का ऐसा ही एक और मामला सामने आया है. यूपी में पूर्व IAS अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह के घर पर रात साढ़े दस और फिर डेढ़ बजे ‘शराब के नशे में धुत्त भगवा गमछाधारी गुंडों ने रायफल और बंदूकों के साथ हमला करने की कोशिश की.’

पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह
पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह

सूर्य प्रताप का कहना है कि उन्होंने ’29 मई को शिवसेना के पूर्व विधायक और माफिया गौरव उपाध्याय की गाड़ी पर लिखे ‘बाहुबली’ की फोटो ली थी. इस पर उपाध्याय के गुर्गों ने आक्रोश जताया.’ उनके फोटो खींचने पर गाड़ी में सवार लड़कों ने उन्हें रोककर आक्रोश जताया. सूर्य प्रताप मानते हैं कि उनके घर पर हमले की कोशिश उनके फोटो खींचने का नतीजा है.

सूर्य प्रताप सिंह की खींची हुई फोटो
सूर्य प्रताप सिंह की खींची हुई फोटो

सूर्य प्रताप 2014 में अपने पद से रिटायर हो गए थे. उन्हें जानने वाले उन्हें एक अक्खड़-मिजाज अधिकारी बताते हैं, जो हर चीज सही और नियमों के मुताबिक देखना चाहते हैं. एक वक्त में मुलायम और अखिलेश के करीबी रहे सूर्य प्रताप का दावा है कि यूपी विधानसभा चुनाव में इन्होंने बीजेपी का समर्थन किया.

फोटो खींचने वाली घटना और अपने घर पर हुए हमले की जानकारी देते हुए सूर्य प्रकाश ने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखा, जिसमें उन्होंने सूबे में लॉ ऐंड ऑर्डर की हालत पर चिंता जताते हुए मुख्यमंत्री योगी पर सवाल उठाए.

अपने ही घर में हमले का शिकार हुए सूर्य प्रताप लिखते हैं, ‘ठीक है. यदि मुझे मारकर भ्रष्टाचारियों का काम चल जाता है, तो मार लो! मेरे बच्चे/परिवार को ऊपर वाला देख लेगा.’ उनकी ये बात उनकी लाचारी दिखाती है कि कोई इंसान भीड़ के आगे किस तरह बेबस हो जाता है. उस समय उसके सही या गलत होने को कोई नहीं पूछता. फिर अगर उसे इंसाफ भी न मिले, तो वह ऊपर देखने के अलावा क्या करेगा.

हाल ही में दिल्ली में भी ऐसा ही एक मामला सामने आया था, जब एक ई-रिक्शावाले ने सड़क पर पेशाब कर रहे दो लोगों को टोका, तो उन लोगों ने रिक्शेवाले को पीट-पीटकर मार डाला. कल को वो रिक्शावाला जितना बेबस था, आज सूर्य प्रताप भी उतने ही बेबस हैं, कल को आप भी इतने ही लाचार हो सकते हैं. ये वो दौर है, जब कोई सूर्य प्रताप का आई-कार्ड देखने की ज़हमत भी नहीं उठाएगा.

सड़क पर पेशाब करने वालों के हाथों मारा गया रविंद्र
सड़क पर पेशाब करने वालों के हाथों मारा गया रविंद्र

कुछ ही दिनों पहले सूर्य प्रताप ने सीएम योगी के काम की तारीफ की थी. उन्होंने अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए कहा था कि योगी में दम है, लेकिन उनके खिलाफ साजिश हो रही है. सूर्य प्रताप के मुताबिक यूपी में अपराध कम न होने के पीछे तीन कारण हैं: पुलिस की अक्षमता, राजनीतिकरण और पिछली सरकार के चहेते अधिकारियों की अधूरी प्रतिबद्धता.

सूर्य प्रताप का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें वह पुलिस थाने में FIR लिखवाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन पुलिस आनाकानी करती दिख रही है. इस बात की पुष्टि अभी तक नहीं हुई है कि FIR दर्ज की गई या नहीं. देखिए वीडियो:


 

यह स्टोरी दी लल्लनटॉप के साथ इंटर्नशिप कर रहे अशोक ने लिखी है.


 

ये भी पढ़ें:

यूपी ही नहीं, पूरे देश में रिश्ते का सर्टिफिकेट लेकर चलिए, वरना पुलिस पीट सकती है

अलवर कांड : ये तस्वीरें बताती हैं, पहलू खान के साथ क्या हुआ था

नैतिकता सिखाने के मामले में यूपी पुलिस को भी पीछे छोड़ दिया

गौरक्षकों ने जिन्हें मार डाला, वो गौ तस्कर नहीं, दूध बेचने वाले किसान थे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग में पीएम मोदी ने नाम ले-लेकर सुनाया.

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC के IPO में बहुत कुछ बदलने जा रहा है. अगले हफ्ते आ सकता है अपडेटेड प्रॉस्पेक्टस.

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

अभी ये सुविधा कुछ ही बैंको तक सीमित है.

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

2013 की बात है जब चहल मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलते थे.

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

कोर्ट ने आकार पटेल को बड़ी राहत दी है.

भारत में कोरोना के XE Variant का पहला केस मिलने के दावे पर सरकार ने क्या कहा?

भारत में कोरोना के XE Variant का पहला केस मिलने के दावे पर सरकार ने क्या कहा?

ये वेरिएंट कितना खतरनाक है, ये भी जान लें.

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

हंसी होगी, संगीत होगा और होंगे सौरभ द्विवेदी!

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

कार्रवाई पर संजय राउत भड़क गए हैं.