Submit your post

Follow Us

अमित शाह ने बताया प्रवासी मजदूरों की ट्रेन की टिकट का पैसा कौन दे रहा है

गृह मंत्री अमित शाह 30 मई को आज तक के ई-एजेंडा कार्यक्रम से जुड़े.  मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक साल पूरा होने के मौके पर. उन्होंने प्रवासी मज़दूरों की समस्या, टिकट के पैसे के विवाद, दिल्ली दंगे और अनलॉक-1 जैसे मुद्दों पर बात की. जानते हैं कि अलग-अलग बातों पर शाह क्या बोले?

प्रवासियों के मुद्दों पर..

“लॉकडाउन के पहले एक महीने में हमारी कोशिश यही थी कि थोड़ी तकलीफ होगी, लेकिन इन लोगों को कोरोना न हो. सब लोग धीरे-धीरे जाएं. जब ये लोग एक जगह से दूसरी जगह जाएं तो वहां क्वारंटीन, बेड्स वगैरह की सुविधाएं पूरी हों. जैसे ही ये तैयारी पूरी हुई, हमने 1 मई को श्रमिक ट्रेन शुरू कर दी.”

टिकट के पैसे आख़िर दिए किसने?

“अगर 100 रुपया अगर ख़र्च हुआ है तो 15 रुपए राज्य सरकार का लगा, 85 केंद्र का. कुछ राज्य सरकारों ने ऐसी व्यवस्था की कि अगर हम पहले ही इनको पैसा दे देंगे तो वे यहां आकर क्वारंटीन नहीं करेंगे. तो क्वारंटीन सेंटर में आने के बाद कुछ राज्यों ने उनको एक हज़ार रुपए ऐसे ही दे दिए. कुछ राज्यों ने टिकट का पैसा प्लस 500 रुपए दिए. ओडिशा ने दो हज़ार रुपए दिए.”

सीएए-एनआरसी पर..

“सीएए के बिल में किसी की नागरिकता लेने का प्रोविज़न ही नहीं है. नागरिकता देने का प्रोविज़न है.

एनआरसी अभी आया नहीं है. लाने की कोई बात भी नहीं है. आएगा तो सबसे चर्चा होगी. जो लोग संवैधानिक तरीके से विरोध कर रहे हैं, उनको लोकतंत्र में ये अधिकार है. या तो उन तक जानकारी पहुंच नहीं सकी है या उनको भड़काया गया है.”

इसके अलावा शाह ने ये बातें बोलीं –

# कश्मीर पर पाकिस्तान की बुरी नज़र का इलाज हो चुका है. अनुच्छेद-370 हटाकर.

# पीओके भारत का अंग है.

# चीन के साथ डिप्लोमेटिक और सेना के लेवल पर बातचीत जारी है.

# दिल्ली दंगों की जांच जारी है. कोई भी षड्यंत्रकारी बचेगा नहीं.

# अनलॉक-1 देश को वापस शुरू करने की प्रक्रिया है. लोगों को बस सावधान रहना है. दो गज़ दूरी का ख़्याल रखना है.


लॉकडाउन 5.0 लागू, जानिए अब अलग-अलग फेज में क्या छूट दी जाएंगी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.