Submit your post

Follow Us

इस पैरा एथलीट ने अपना ही वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ दिया है

दोहा में वर्ल्ड पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप चल रही है. पैरा एथलेटिक्स में ऐसे लोग भाग लेते हैं जो किसी शारीरिक चुनौती से जूझ रहे हों. इसके जैवलिन थ्रो इवेंट में भारतीय थ्रोअर संदीप चौधरी ने वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ते हुए गोल्ड मेडल जीत लिया. इस इवेंट का सिल्वर भी भारत ने जीता. सुमित अंतिल दूसरे स्थान पर रहे.

संदीप ने 66.18 मीटर के थ्रो के साथ गोल्ड मेडल जीता. सुमित ने इस थ्रो के साथ अपने ही 65.80 मीटर के वर्ल्ड रिकॉर्ड को सुधारा. इतना ही नहीं, इसके साथ ही उन्होंने टोक्यो 2020 पैरालंपिक गेम्स का कोटा भी हासिल कर लिया.

दूसरे स्थान पर रहे सुमित ने 62.88 मीटर तक थ्रो किया. सुमित ने भी इस थ्रो के जरिए टोक्यो 2020 पैरालंपिक का कोटा हासिल कर लिया. इस वर्ल्ड चैंपियनशिप में F44 और F64 दोनों कैटेगरी के एथलीट्स को एकसाथ उतारा गया था. हालांकि वर्ल्ड रिकॉर्ड एथलीट्स की अपनी-अपनी कैटेगरी में ही दर्ज होगा.

F44 कैटेगरी के एथलीट यूक्रेन के रोमान नोवाक ने 57.36 मीटर के थ्रो के साथ ब्रॉन्ज़ मेडल जीता.

#क्या है कैटेगरी

F44 कैटेगरी में ऐसे एथलीट आते हैं जिनके एक या दोनों पैर पूर्णतः स्वस्थ नहीं होते. वे बिना किसी नकली अंग के इवेंट में भाग लेते हैं.

जबकि F64 कैटेगरी के एथलीट्स के अंगों में कमियां और पैरों की लंबाई में अंतर होता है. वे नकली अंगों के साथ इसमें भाग लेते हैं.


चैंपियन एथलीट भारतीय सेना के सुबेदार आनंदन गुनासेकरन की प्रेरित करने वाली कहानी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.