Submit your post

Follow Us

आतंकवादियों के साथ गिरफ्तार हुए DSP दविंदर सिंह कश्मीर में आर्मी बेस के सामने घर बना रहे थे

5
शेयर्स

इंडिया टुडे की एक ग्राउंड रिपोर्ट से पता चला है कि जम्मू-कश्मीर के डीएसपी दविंदर सिंह, जिन्हें दो आतंकवादियों के साथ गिरफ्तार किया गया था, श्रीनगर में एक आर्मी बेस के नज़दीक घर बना रहे थे. दविंदर सिंह इंदिरा नगर में घर बना रहे थे जिसे श्रीनगर का सबसे सुरक्षित क्षेत्र माना जाता है. 2017 से इस घर को बनाया जा रहा था. इस घर से एक दीवार बाद 15 कॉर्प्स का हेडक्वार्टर है.

इंडिया टुडे की ग्राउंड रिपोर्ट से पता चला है कि दविंदर सिंह पिछले पांच सालों से यहां किराए के मकान में अपने रिश्तेदार के यहां रह रहे थे. पुलिस ने घर से हथियार और गोला-बारूद भी बरामद किए हैं. इंडिया टुडे की टीम श्रीनगर में जब दविंदर के घर पर पहुंची तो पता चला कि परिवार के सभी सदस्य और रिश्तेदार घर छोड़ चुके हैं. किराए का घर भी बंद दिखा.

Davinder Singh
दविंदर सिंह का घर (फोटो: इंडिया टुडे)

11 जनवरी 2020 को जम्मू और कश्मीर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी दविंदर को 2 आतंकी और एक वकील के साथ गिरफ्तार किए गए थे. इन लोगों पर शक था कि ये लोग आतंकी हमला कर सकते हैं. कुछ समय से दविंदर सिंह की गतिविधियों पर सुरक्षा बलों को संदेह था. इंडिया टुडे से बातचीत में सूत्रों ने बताया है कि बीते दो महीने से डीएसपी दविंदर सिंह सर्विलांस पर थे. आईजी विजय कुमार ने प्रेसवार्ता में बताया था कि उन्होंने खुद साउथ कश्मीर के डीआईजी अतुल गोयल से चेकपॉइंट लगाने के लिए कहा था.

दविंदर का नाम 2001 के संसद हमले के लिए जांच के दौरान सामने आया था. दोषी अफजल गुरु ने ‘कैरवान’ के संपादक विनोद के. जोश के साथ जेल में हुई बातचीत में दविंदर सिंह का ज़िक्र किया था.

दविंदर सिंह का विवादों में नाम

गिरफ्तारी के दौरान दविंदर सिंह श्रीनगर एयरपोर्ट पर एंटी-हाईजैकिंग स्क्वाड में शामिल थे. उनकी जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक ‘डेकोरेटेड’ अधिकारी के रूप में पहचान शुरू होती है 1994 में. जब राज्य की पुलिस से अलग STF का गठन किया गया था. इसे उस समय जम्मू-कश्मीर पुलिस का एसटीएफ कहा जाता था. दविंदर सिंह की इच्छा थी कि STF में शामिल हों. हो गए. बाद में STF का नाम बदलकर SOG कर दिया गया. दविंदर सिंह की पोस्टिंग कश्मीर के बडगाम में.

साल 2001. ख़बरें आने लगीं कि SOG की कस्टडी में लोगों की मौतें हो रही हैं. बहुत बड़े स्तर पर कश्मीर में प्रदर्शन होने लगे. SOG के DSP के रूप में तैनात दविंदर सिंह का ट्रांसफर कर दिया गया. उन्हें सेन्ट्रल कश्मीर के स्टेट इंटेलिजेंस में इंस्पेक्टर बनाकर भेज दिया गया.

इसके बाद 2015 में भी दविंदर सिंह का नाम खबरों में आया था. उनके साथ-साथ डीएसपी मुहम्मद यूसुफ़ मीर के खिलाफ FIR दर्ज की गई. दोनों पर आम लोगों से पैसे उगाहने और उन्हें झूठे मुकदमों में फंसाने का आरोप लगा था.


वीडियो- जम्मू-कश्मीर में डीएसपी दविंदर सिंह दो आतंकियों के साथ अरेस्ट किए गए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

यूपी पुलिस में मचा हंगामा, तो योगी ने की ये बड़ी कार्रवाई

सेक्स चैट से शुरू हुआ था मामला, "घूसखोरी" और पोस्टिंग पर अटकी बात

JNU : जिस समय आइशी घोष को पीटा जा रहा था, उसी वक़्त उन पर FIR हो रही थी

और नक़ाबपोश गुंडों का न कोई नाम, न कोई सुराग

बवाल हुआ तो JNU प्रशासन ने मंत्रालय से कैम्पस को बंद करने की मांग उठा दी

मंत्रालय ने भी ये जवाब दिया.

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...