Submit your post

Follow Us

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

“कोई देश खुद को लॉक करना पसंद नहीं करेगा, लेकिन भारत में तत्काल ही कुछ हफ्तों के लॉकडाउन की जरूरत है ताकि संक्रमण की चेन को तोड़ा जा सके.”

ये कहना है कोरोना पर दुनिया की सबसे भरोसेमंद आवाजों में से एक, डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी का. अंग्रेजी अखबार ‘इंडियन एक्सप्रेस’ से बात करते हुए उन्होंने कहा कि लॉकडाउन लगाना थोड़ा वक्त देगा. इस कठिन और हताश करने वाली स्थिति से बाहर निकलने के लिए हमें कदम उठाने होंगे. ‘तुरंत वाले, उसके बाद वाले और फिर लंबी दूरी वाले’

उन्होंने कहा कि हमें तीन काम करने हैं-

1. लॉकडाउन
2. मेडिकल सेवाएं
3. वैक्सीनेशन

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी, अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के चीफ मेडिकल एडवाइज़र हैं जो सात अमेरिकन राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं. शुक्रवार 30 अप्रैल को उन्होंने ‘इंडियन एक्सप्रेस’ से बात की और भारत की स्थिति पर अपनी राय रखी. उन्होंने कहा,

“मैं एक पब्लिक हेल्थ पर्सन हूं. कोई राजनीतिक आदमी नहीं हूं. भारत इस वक्त बहुत मुश्किल हालातों में है. अभी जब मैं इस इंटरव्यू के लिए तैयारी कर रहा था तब मैंने CNN पर एक वीडियो देखा जो हालातों की गंभीरता को बता रहा था तो जब आपके सामने ऐसे हालात हों तो कदम तुरंत उठाने पड़ते हैं.”

लॉकडाउन की वकालत

उन्होंने अखबार से बातचीत में कहा कि सबसे पहले एक क्राइसिस ग्रुप बनाना चाहिए जो चीजों को व्यवस्थित करना शुरू करे. मैंने सुना है कि लोग सड़कों पर अपने पिताओ, माताओं, बहनों और भाइयों के लिए ऑक्सीजन तलाश कर रहे हैं. भारत में जिस तरह से संक्रमण फैल रहा है और लोग बेबस नजर आ रहे हैं, ऐसे में देश में कुछ वक्त के लिए लॉकडाउन लगाने की जरूरत है, ताकि हालातों पर काबू पाया जा सके.

Usa
अमेरिकी एयरफोर्स का विमान 30 अप्रैल को मदद सामग्री लेकर भारत पहुंचा. (फोटो- AP)

डॉक्टर फॉउसी ने कहा,

“पहली बात यह है कि सबसे पहले यह देखना है कि आप अभी क्या कर सकते हैं. मध्यवर्ती चीजें क्या है जो आप दो सप्ताह में कर सकते हैं? इस आपदा को रोकने के लिए आप जिन चीजों को कर सकते हैं, उनको अलग-अलग फेज़ में करना होगा. जैसे आपको अभी लोगों को वैक्सीन देनी होगी, ये जरूरी है. आज लोगों को ऑक्सीजन चाहिए, अस्पताल और मेडिकल मदद चाहिए, लेकिन अगर आज आप बाकी लोगों को वैक्सीन देते हैं तो आप उन्हें बीमार होने से बचा सकते हैं.”

‘दुनिया करे भारत की मदद’

उन्होंने कहा कि एक कमीशन बनाना चाहिए या फिर एक इमरजेंसी ग्रुप जो ऑक्सीजन, दवाइयां और अन्य चीजों की व्यवस्था करे और शायद WHO या अन्य देशों से सहायता ले. मुझे खुशी है कि ऐसे वक्त में अमेरिका भारत को दवाइंयां, ऑक्सीजन, PPE और वेंटिलेटर्स देने के लिए आगे आया है. दूसरे देशों को भी भारत की मदद करनी चाहिए, क्योंकि पुरानी आपदाओं के वक्त भारत बेहद उदार रहा है. अब वक्त है कि दूसरे देश भारत की मदद के लिए आगे आएं.

Lockdown
पिछले साल मार्च के आखिर में लगे लॉकडाउन की वजह से देश भर में लाखों मजदूरों को पैदल ही अपने घर वापस जाना पड़ा था. (फोटो: PTI)

डॉक्टर फाउसी ने कहा,

“जब चीन में आपदा का दौर था तब आपको याद होगा कि उन्होंने चंद दिनों से लेकर कुछ हफ्तों में ऐसी इमरजेंसी यूनिट्स बनाई थीं जिनको अस्पताल की तरह इस्तेमाल किया गया था. इस बात से हर कोई हैरान रह गया था. लोग उस वक्त परेशान थे और उन्हें अस्पतालों की जरूरत थी. ये पहली बात है और दूसरी ये कि सरकार के अलग-अलग विभागों का इस्तेमाल करना चाहिए. सेना का क्या काम होता है, क्या सेना मदद कर सकती है, मेरा मतलब है कि जैसा हमने अमेरिका में किया, हमने नेश्नल गार्ड की मदद से वैक्सीन ड्रिस्ट्रिब्यूशन किया.”

वैक्सीनेशन पर जोर

उन्होंने कहा कि इस वक्त हालातों की गंभीरता को देखते हुए तुरंत अस्पताल बनाने होंगे. बहुत ही जल्दी. इस तरह जैसे युद्ध के हालातों में बनाए जाते हैं. आप इसे युद्ध ही समझें, बस दुश्मन इस बार वायरस है. आपको पता कि आपका दुश्मन कहां है तो आपको इसे इमरजेंसी समझना है और युद्ध के हालातों जैसा ही काम करना है. और फिर जो काम आपको करना है वो ये कि वैक्सीनेशन कराना है. भारत जैसे देश में ये काफी बड़ा काम है, लेकिन इसे करना है और जल्दी से जल्दी करना है.


वीडियो- मोदी सरकार ने देश को आत्मनिर्भर बनाने वाली पॉलिसी 16 साल बाद क्यों ख़त्म कर दी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

भर्ती नहीं किया, सरकारी हॉस्पिटल के गेट पर महिला की मौत

ग्रेटर नोएडा के किसी भी अस्पताल ने भर्ती करने से मना कर दिया था.

कोरोना पर BJP विधायक ने शिवराज से कहा- वर्चुअल मीटिंग के तमाशे से कुछ नहीं होने वाला

MLA नारायण त्रिपाठी ने CM को पत्र लिखकर कोरोना मैनेजमेंट पर कई गंभीर सवाल उठाए हैं.

जेल से छूटे RJD प्रमुख लालू यादव पटना वाले घर क्यों नहीं पहुंचे?

17 अप्रैल को जमानत मिली थी, 12 दिनों बाद रिहा हुए.

गुजरात के कोविड सेंटर में आग से 14 मरीज़ और दो नर्सों की मौत

पीएम मोदी ने हादसे पर दुख जताया.

RCB को हराकर क्रिस गेल पर बड़ी बात बोल गए कप्तान राहुल

गेल की उम्र पर सवाल कर रहे लोग जरूर पढ़ें.

विराट कोहली ने बताया पंजाब के खिलाफ क्यों हारी RCB

रजत के रोल पर भी बोले कोहली.

कोरोना से जंग में शिखर धवन और जयदेव उनादकट ने किया दिल जीत लेने वाला काम

आगे आए क्रिकेटर्स.

विदेशी मीडिया ने भारत सरकार की आलोचना की तो विदेश मंत्री ने अपनी टीम को काम पर लगा दिया!

एस जयशंकर ने बैठक बुलाकर अहम निर्देश दिए.

बिल गेट्स ने कोरोना वैक्सीन के फॉर्मूले को लेकर कौन सी चुभने वाली बात कह दी है?

विकासशील देशों को वैक्सीन का फॉर्मूला देने पर ये क्या कह दिया.

देश के पूर्व अटॉर्नी जनरल सोली सोराबजी नहीं रहे, कोरोना वायरस से थे संक्रमित

91 साल के थे सोराबजी, संविधान के बड़े जानकार थे.