Submit your post

Follow Us

अगले साल होने वाले T20 विश्वकप का विकेटकीपर भारत को आज मिलेगा?

5
शेयर्स

1 फरवरी, 2017 को ही भारतीय सलेक्टर्स ने धोनी के विकल्प को चुना था. आईपीएल में अलग छाप, लिस्ट ए और फर्स्ट-क्लास में धुंआधार बल्लेबाज़ी. सीधी सी बात है नाम एक ही है रिषभ पंत. 2017 में इंग्लैंड के खिलाफ बेंगलुरु में पहला टी20 खेला. पंत को कई लोगों ने धोनी का उत्तराधिकारी भी मान लिया. लेकिन आंकड़ों और प्रदर्शन की हकीकत इससे बिल्कुल अलग है.

टेस्ट में तो फिर भी गाहे-बगाहे पंत ने खुद को साबित किया है. लेकिन जिन दो फॉर्मेट में उनकी सबसे ज्यादा ज़रूरत है वो वहीं नाकामयाब नज़र आते हैं. यानी वनडे और टी20 में धोनी के विकल्प के तौर पर पंत फेल रहे हैं.

ये सवाल आज फिर से इसलिए उठ खड़ा हुआ है क्योंकि बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज़ में भी एक बार फिर से पंत नाकाफी साबित हुए हैं. पहले टी20 में उन्होंने सिर्फ 27 रन बनाए. लेकिन इस सीरीज़ में चयनकर्ताओं ने एक सही फैसला भी लिया. पंत या केएल राहुल किसी के भी विकल्प के तौर पर सबसे बेहतरीन खिलाड़ी चुना. यानी त्रिवेन्द्रम में जन्मा, केरल के लिए खेलने वाला बल्लेबाज़ संजू सैमसन.

अपनी पिछली गलतियों से आगे बढ़ते हुए संजू टीम में पहुंच गए. उन्होंने काफी समय से भारतीय टीम का दरवाज़ा खटखटाया है. ये मौका भी संजू को इसलिए मिला क्योंकि अब अगले साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाला टी20 विश्वकप सिर्फ 11 महीने दूर है. उससे पहले भारतीय टीम को लगभग 13 टी20 मुकाबले खेलने हैं. इसलिए अब इस तस्वीर का साफ होना ज़रूरी है कि आखिर कौन भारत का प्रमुख विकेटकीपर होगा.

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान एमएस धोनी विकेटकीपिंग करते हुए फोटो: BCCI
भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान एमएस धोनी विकेटकीपिंग करते हुए
फोटो: BCCI

धोनी-कार्तिक को लेकर है धुंधली तस्वीर:

विश्वकप 2019 के बाद से ही एमएस धोनी ने क्रिकेट से दूरी बना ली है. अब भी ये बात समझ से परे है कि आखिर धोनी किस शुभ घड़ी का इंतज़ार कर रहे हैं, जिससे कि उन्हें लेकर स्थिति सपष्ट हो सके. वहीं कार्तिक को तो विश्वकप बाद से चयनकर्ता भुलाए बैठे हैं. खैर अभी बात मौजूदा खिलाड़ियों की हो वही बेहतर है.

राहुल-पंत दोनों रहे हैं फेल:

केएल राहुल टीम में मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज़ की भूमिका ठीक से नहीं निभा पा रहे हैं. टी20 में 6 जुलाई, 2018 के बाद से उन्होंने अब तक सिर्फ एक अर्धशतक बनाया है. वहीं पंत ने पिछली 14 पारियों में सिर्फ एक अर्धशतक जमाया है. इस वजह से भी अब वो वक्त आ गया है कि आगे देखा जाए. नहीं तो विश्वकप 2019 की तरह देर होने में देर नहीं रहेगी.

संजू ने किया है खुद को साबित: 

2015 में पहली बार भारतीय टीम में पहुंचे संजू एक मैच के बाद ही बाहर हो गए थे. लेकिन अब एक बार फिर वक्त की सुई घूमकर आई है, ऐसा लगने लगा है कि अब उनका वक्त आ गया है. संजू ने विजय हज़ारे ट्रॉफी में ऐसा धुंआंधार प्रदर्शन किया कि फिर सलेक्टर्स को उन्हें चुनना ही पड़ा. कई पूर्व खिलाड़ियों ने उन्हें टीम में शामिल किए जाने की मांग की थी.

संजू ने गोवा के खिलाफ तो रिकॉर्ड 212 रनों की नाबाद पारी खेली. इसके अलावा उन्होंने विजय हज़ारे ट्रॉफी की 8 पारियों में 58.57 के औसत से 410 रन बनाए हैं. इससे ये तो साफ है कि लड़का फॉर्म में है. अब अगर आज मौका मिला तो शायद वो बांग्लादेश के खिलाफ कुछ कमाल भी दिखा दें.

हालांकि संजू को टीम में मौका मिलने की उम्मीद पंत के स्थान पर नहीं बल्कि केएल राहुल के स्थान पर है.

अब देखना यही होगा कि ये खिलाड़ी किस तरह से इस मौके का फायदा उठाता है.


IPL में No Ball के लिए होगा अलग से अंपायर

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

नेहरु से इतना प्यार? मोदी अब बिना कांग्रेस के नेहरू का ख्याल रखेंगे

एक भी कांग्रेस का नेता नहीं. एक भी नहीं.

शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने से बचाना है, तो बस एक ही तरीका है

शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की मिस्ट्री पर क्या कहा?

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ

दफ़्तर में घुसकर महिला तहसीलदार पर पेट्रोल छिड़का, फिर आग लगाकर ज़िंदा जला दिया

इस सबके पीछे एक ज़मीन विवाद की वजह बताई जा रही है. जिसने आग लगाई, वो ख़ुद भी झुलसा.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

पुलिस और वकील इस झड़प की अलग-अलग कहानी बता रहे हैं.

US ने जारी किया विडियो, देखिए कैसे लादेन स्टाइल में किया गया बगदादी वाला ऑपरेशन

अमेरिका ने इस ऑपरेशन से जुड़े तीन विडियो जारी किए हैं.

लल्लनटॉप कहानी लिखिए और एक लाख रुपये का इनाम जीतिए

लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन लौट आया है. आपका लल्लनटॉप अड्डे पर पहुंचने का वक्त आ गया है.

अमेठी: पुलिस हिरासत में आरोपी की मौत, 15 पुलिसवालों के खिलाफ केस दर्ज

मौत कैसे हुई? मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं.

PMC खाताधारकों ने बीजेपी नेता को घेरा, तो पुलिस ने उन्हें बचाकर निकाला

RBI के साथ मीटिंग करने पहुंचे थे.

इस विदेशी सांसद को कश्मीर आने का न्योता दिया फिर कैंसल कर दिया, वजह हैरान करने वाली है

सांसद ने ऐसी शर्त रख दी थी कि विदेशी डेलिगेशन का हिस्सा नहीं बन पाए.