Submit your post

Follow Us

कोरोना काल में डीयू के इस कॉलेज की कटऑफ छत तोड़कर ऊपर निकल गई है

कोरोना काल में बहुत कुछ नहीं बदला तो डीयू के नामी कॉलेजों का टशन. डीयू के कॉलेजों में रैकिंग की छलांग का सिलसिला शुरू हो चुका है. नामी कॉलेज सेंट स्टीफंस ने 2020-21 के सेशन के लिए अपने 11 कोर्सों में दाखिले की कटऑफ जारी कर दी है। आइए जानते हैं, इस बार कटऑफ का हालः

इकॉनमिक्स ऑनर्स की लकीर सबसे ऊंची

इकॉनमिक्स ऑनर्स की कटऑफ सामान्य श्रेणी के कॉमर्स स्ट्रीम के स्टूडेंट्स के लिए सर्वाधिक 99.25 फीसदी रही है. पिछले साल यह 98.75 फीसदी थी. इस तरह कटऑफ में 0.50 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली है. ह्यूमेनिटीज के लिए यह 98.75 फीसदी है. साइंस स्ट्रीम वालों के लिए पिछले साल की तरह कटऑफ 98 फीसदी रही है.

Sale(147)
इस बार इकॉनमिक्स की कटऑफ पिछले साल के मुकाबले 0.50 फीसदी ज्यादा गई है.

अंग्रेजी, इतिहास ऑनर्स में 99 फीसदी कटऑफ

सेंट स्टीफंस के सभी कोर्सेज की कटऑफ में औसतन 0.25 फीसदी से 1 फीसदी तक का उछाल आया है. इंग्लिश ऑनर्स, हिस्ट्री ऑनर्स और बीए प्रोग्राम की कटऑफ 99 फीसदी तक पहुंची है. इन तीनों कोर्स में कॉमर्स के छात्रों के लिए कटऑफ 99 फीसदी रही है.

बीएससी ऑनर्स गणित की कटऑफ

बीएससी ऑनर्स मैथ्स की कटऑफ भी हाई रही है. कॉमर्स और साइंस स्ट्रीम के स्टूडेंट्स के लिए यह 98 फीसदी है. वहीं ह्यूमेनिटीज के लिए कटऑफ 96.5 फीसदी है. बीए ऑनर्स हिस्ट्री में कॉमर्स व साइंस स्ट्रीम वालों के दाखिले 99 फीसदी और ह्यूमेनिटीज वालों के लिए 98.25 फीसदी पर होंगे.

बीएससी केमिस्ट्री ऑनर्स की कटऑफ 96.7 फीसदी रही है. जबकि बीएससी प्रोग्राम (कंप्यूटर साइंस) की कटऑफ 97.67 फीसदी तय की गई है. दर्शनशास्त्र की कटऑफ कॉमर्स स्ट्रीम के लिए 98, ह्यूमेनिटीज के लिए 98.75 और साइंस स्ट्रीम के लिए 97 फीसदी रही है.

पहली कटऑफ को देखकर लगता है कि सेंट स्टीफेंस की कटऑफ इस बार 95 फीसदी नंबर पाने वाले स्टूडेंट्स को भी निराश कर सकती है.

रंगरूट. दी लल्लनटॉप की एक नई पहल. जहां पर बात होगी नौजवानों की. उनकी पढ़ाई-लिखाई और कॉलेज-यूनिवर्सिटी कैंपस से जुड़े मुद्दों की. हम बात करेंगे नौकरियों, प्लेसमेंट और करियर की. अगर आपके पास भी ऐसा कोई मुद्दा है तो उसे भेजिए हमारे पास. हमारा पता है  YUVA.LALLANTOP@GMAIL.COM


 

वीडियो – डीयू में एबीवीपी के झंडे के साथ अक्षय कुमार की तस्वीर को ट्रोल करने वाले ये जान लें

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

तो क्या इस वक़्त देश के पास अर्थव्यवस्था सही करने का सिर्फ़ एक बटन बचा है?

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा- "बातें याद रहेंगी"

जसवंत सिंह अटल सरकार के कद्दावर मंत्रियों में से थे.

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

सबकी उम्मीदें शुभमन गिल से लगी है.

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

दो दिन से बवाल चल रहा है.

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

और यह जानकारी ख़ुद सरकार ने दी है.

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

कई ट्रेनों को कैंसिल किया गया, कई के रूट बदले गए.

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा था.

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

भारत में किसी खिलाड़ी को जो मुकाम हासिल नहीं हुआ, वो अब धोनी को मिलने वाला है.

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

भारत के सैटेलाइट पर है ख़तरा!

चुनाव लड़ने के लिए गुप्तेश्वर पांडे ने दूसरी बार पुलिस सेवा से रिटायरमेंट ले ली है

2009 में भी गुप्तेश्वर पांडे ने वीआरएस लिया था, पर तब बीजेपी ने टिकट नहीं दिया था.