Submit your post

Follow Us

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव आयोग ने दिल्ली विधनसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है. चीफ चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके तारीखों की घोषणा की. दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों पर एक चरण में ही वोटिंग होगी. 8 फरवरी को दिल्ली में वोटिंग होगी. इस दिन शनिवार है. वोटों की गणना 11 फरवरी को होगी. इस दिन मंगलवार है.

नोटिफिकेशन 14 जनवरी को जारी होगा. नामांकन की आखिरी तारीख 21 जनवरी है. नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख 24 जनवरी है.

इसी के साथ ही दिल्ली में आचार संहिता लागू हो गई है. इस बार 1 करोड़ 46 लाख लोग वोटिंग में हिस्सा लेंगे. इनमें पुरुष वोटर्स की संख्या 80 लाख है और महिला वोटर्स की संख्या 66 लाख है. वहीं थर्ड जेंडर वोटर्स की संख्या 815 है. 13,750 पोलिंग बूथ बनाए जाएंगे.

2015 में क्या हुआ था?

2015 में 7 फरवरी के दिन वोटिंग हुई थी. नतीजे 10 फरवरी को आए थे. इस बार दोनों मामलों में एक-एक तारीख आगे खिसका दी गई है.

पिछली बार चुनाव 2015 में हुए थे. आम आदमी पार्टी ने 70 सीटों पर चुनाव लड़ा था, इनमें से 67 सीटों पर जीत हासिल की थी. बीजेपी ने 3 सीटों पर जीत दर्ज की थी. आप को 48 लाख से ज्यादा वोट मिले थे. वोट परसेंट 54.34% था. बीजेपी को 28 लाख वोट मिले थे. वोट परसेंट 32.19% था.

2013 में क्या हुआ था?

इसके पहले 2013 में विधानसभा चुनाव हुए थे. AAP ने 28 सीटें जीती थीं. बीजेपी के पाले में 31 सीटें आई थीं. कांग्रेस ने 8 सीटें जीती थीं. इसके अलावा JDU और शिरोमणी अकाली दल ने 1-1 सीट जीती थीं. 1 सीट पर निर्दलीय ने कब्जा किया था.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

जून-जुलाई में कोरोना के मामले सबसे ज्यादा होंगे? इस सवाल पर क्या बोले स्वास्थ्य मंत्री?

एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने जताई थी आशंका.

चार साल पहले 414 करोड़ लेकर भाग गए, SBI ने अब CBI से शिकायत की है

कंपनी के डायरेक्टर्स के ख़िलाफ़ CBI ने केस दर्ज किया.

छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम अजीत जोगी को पड़ा दिल का दौरा

डॉक्टरों ने कहा-हालत गंभीर है.

ममता बनर्जी ने अमित शाह को क्या साबित करने की चुनौती दे डाली है?

पहले शाह ने लेटर लिखा, फिर ममता का जवाब आया

अमित शाह को ट्वीट कर क्यों कहना पड़ा कि वह ठीक हैं, उन्हें कोई बीमारी नहीं है

शाह की सेहत को लेकर पिछले कुछ दिनों से कई तरह की बातें हो रही थीं.

कोरोना ठीक करने की दवा बना रहे थे, खुद पर टेस्ट किया और मौत हो गई

दो लोगों ने दवा ली थी. दूसरा अस्पताल में भर्ती है.

औरंगाबाद ट्रेन हादसे में बच गए मज़दूर ने कहा- हमने साथियों को चिल्लाकर जगाने की कोशिश की थी

रेल की पटरी पर सोए मजदूरों को मालगाड़ी ने कुचल दिया था, 16 की मौत हो गई थी.

राहुल ने जताई थी चिंता, रविशंकर प्रसाद ने बताया-आरोग्य सेतु ऐप में इकट्ठा डेटा का क्या होता है

आज तक ई-एजेंडा कार्यक्रम में बताया भारत वॉट्सऐप का देसी वर्जन तैयार करने में लगा है.

स्पेशल ट्रेन चल रही है, फिर भी पैदल ही क्यों घर चले जा रहे हैं लाखों मजदूर?

तमाम मज़दूरों की शिकायत है कि हेल्पलाइन नंबर पर भी मदद नहीं मिल रही.

चीन के वुहान मार्केट से कोरोना वायरस फैलने पर WHO ने बड़ी बात कही है

कोरोना वायरस के मामले दिसंबर 2019 से आने शुरू हो गए थे.