Submit your post

Follow Us

दीपिका-प्रियंका समेत 176 हाई प्रोफाइल लोगों पर मुंबई पुलिस की नज़र क्यों है?

प्रियंका चोपड़ा और दीपिका पादुकोण. दोनों का नाम इस वक्त टॉप एक्ट्रेस की लिस्ट में शामिल है. सोशल मीडिया पर भी दोनों के तगड़े फॉलोअर्स हैं. कोई भी फोटो हो या वीडियो, इनको दनादन लाइक्स मिलते हैं. अब इन्हीं लाइक्स और फॉलोअर्स के चलते मुंबई पुलिस प्रियंका और दीपिका से पूछताछ करने वाली है.

‘DNA’ में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई पुलिस दीपिका और प्रियंका समेत करीब आठ बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ से पूछताछ कर सकती है. उन्हें समन भेजे जा सकते हैं. ये सबकुछ फेक सोशल मीडिया फॉलोअर्स स्कैम की जांच के तहत होगा. बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ समेत बडे़ स्पोर्ट्स पर्सन (खिलाड़ी), बिल्डर्स जैसे करीब 176 हाई प्रोफाइल लोग मुंबई पुलिस के स्कैनर में हैं. रिपोर्ट्स हैं कि इन लोगों ने फॉलोअर्स और लाइक्स पाने के लिए कथित तौर पर किसी कंपनी या वेबसाइट को पैसे दिए थे.

मुंबई पुलिस जॉइंट कमिश्नर विनय कुमार चौबे ने पहले फेक फॉलोअर्स के मामले में कहा था,

“हमने जांच की और पाया कि करीब 54 फर्म इस रैकेट में शामिल हैं. क्राइम ब्रांच और साइबर सेल की स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम (SIT) बनाई गई है, जो इस केस की जांच में मदद करेगी.”

क्या है फेक सोशल मीडिया फॉलोअर्स स्कैम?

ये सोशल मीडिया पर फेक फॉलोअर्स और लाइक्स बेचने के स्कैम का मामला है. ‘मुंबई मिरर’ की रिपोर्ट के मुताबिक, ये स्कैम तब सामने आया, जब सिंगर भूमि त्रिवेदी ने बांगुर नगर पुलिस स्टेशन में 11 जुलाई को एक शिकायत दर्ज कराई. ये कहा कि किसी व्यक्ति ने उनके नाम और तस्वीर का गलत इस्तेमाल करके फेक इंस्टाग्राम प्रोफाइल बनाया है. और इस प्रोफाइल का इस्तेमाल दूसरों को ठगने के लिए कर रहा है.

FIR के बाद पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू की. कुर्ला से अभिषेक दवाड़े नाम के 21 बरस के एक लड़के को गिरफ्तार किया. पूछताछ की तो पता चला कि वो www.followerskart.com नाम की एक वेबसाइट के लिए काम करता है. तहकीकात करने पर पता चला कि ये वेबसाइट करोड़ों फेक प्रोफाइल्स, फॉलोअर्स, व्यूअर्स, कमेंट्स और लाइक्स के इंटरनेशनल रैकेट का हिस्सा थी. पुलिस ने बताया कि अकेले अभिषेक ने फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर, टिकटॉक और बाकी सोशल मीडिया साइट्स के करीब 176 अकाउंट्स के लिए पांच लाख फेक फॉलोअर्स इकट्ठा कर रखे थे. इनका इस्तेमाल इन 176 अकाउंट्स को लाइक और कमेंट करने के लिए करता था. बॉट के ज़रिए.

पुलिस के मुताबिक, इस तरह की कम से कम 100 वेबसाइट्स हैं. इनमें से 59 वेबसाइट्स इंडिया में हैं और इस गैर-कानूनी काम को अंजाम दे रही हैं.

अब पुलिस इसी तरह फेक फॉलोअर्स, लाइक्स मुहैया कराने वाली वेबसाइट्स को खोज रही है. दो और वेबसाइट्स का पता चल चुका है, पुलिस ने इनके मालिकों के खिलाफ अरेस्ट वॉरंट भी जारी किया था. इनमें से एक के मालिका का नाम काशिफ मंसूर है, जिसे 22 जुलाई को मुंबई पुलिस की क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट (CIU) ने गिरफ्तार किया है. मंसूर AVMSMM नाम की वेबसाइट चलाता था. सूत्रों की मानें, तो काशिफ, जो कि पेशे से एक सिविल इंजीनियर है, उसने पिछले कुछ महीनों में 2.33 करोड़ ‘फॉलोअर्स’ 5000 ऑर्डर्स के ज़रिए मुहैया कराए थे या बेचे थे.

अब इसी पूरे रैकेट को, यानी किस वेबसाइट से, किस हाई-प्रोफाइल व्यक्ति ने, कितने रुपए में फॉलोअर्स खरीदे? कितने बरसों से ये सब चला आ रहा है? इन्हीं सबकी जांच हो रही है. यही फेक सोशल मीडिया फॉलोअर्स स्कैम है.

सब हमारे सामने हुआ!

आजकल सोशल मीडिया फॉलोवर्स के ही आधार पर सेलेब्रिटीज़ को ब्रांड एंडोर्समेंट और प्रोजेक्ट्स मिलते हैं. ऐसा कॉन्सेप्ट बनते जा रहा है कि जिसके जितने फॉलोअर्स, वो उतना बड़ा स्टार. सेलेब्रिटीज़ के फॉलोअर्स की संख्या को हमने अपनी आंखों के सामने बढ़ते हुए देखा. उन्हें बढ़ते फॉलोअर्स का जश्न मनाते हुए देखा और अब पता चल रहा है कि ये फर्जीवाड़ा का हिस्सा हो सकता है.


वीडियो देखें: दीपिका की फटकार के बाद विरल भयानी ने बताया अंतिम संस्कार की तस्वीरों से क्या मिलता है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

इंडिया में कोरोना की वैक्सीन का दाम पता चल गया है, लेकिन पैसे आपको नहीं देने होंगे!

क्या कहा बनाने वाले आदर पूनावाला ने?

बाइक चला रहे CJI बोबड़े पर ट्वीट करने पर twitter और वकील प्रशांत भूषण पर अवमानना का केस हो गया!

सुनवाई में ट्वीट डिलीट करने की बात पर कोर्ट ने क्या कहा?

जाटों-पंजाबियों को बिना बुद्धि का बोलकर माफ़ी मांगने लगे बीजेपी के सीएम

और कौन? वही त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब.

इन तीन परिवारों के उजड़ने की कहानी से समझिए कि कोरोना से बचाव कितना ज़रूरी है

पहले मां की मौत, फिर एक के बाद एक 5 बेटों की मौत

दिशा सालियान की मौत के बाद क्या सुशांत सिंह ने डिप्रेशन की दवाइयां लेनी बंद कर दी थीं?

डॉक्टर ने पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में बताया

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन नहीं रहे

वो 85 बरस के थे, कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे.

उत्तर बिहार में हर साल क्यों आती है बाढ़, अभी कैसे हैं हालात

भौगोलिक स्थिति समझना बहुत जरूरी है.

बिहार महादलित विकास मिशन घोटाला: 'स्पोकन इंग्लिश' के नाम पर कैसे हुई हेरा-फेरी

एक निलंबित और तीन रिटायर्ड IAS अधिकारियों समेत 10 लोगों पर FIR.

राजस्थान में सियासी संकट के बीच अशोक गहलोत ने एक और मोर्चा मार लिया है!

19 जुलाई को राजस्थान की राजनीति से संबंधित ये 5 चीजें हुईं.

ये 'एयर बबल' क्या है, जिस पर हवाई यात्रा करने वाले टकटकी लगाए देख रहे हैं

भारत ने 'एयर बबल' को लेकर कदम उठाए हैं.