Submit your post

Follow Us

अगर कोरोना हुआ है तो ठीक होने के 3 महीने बाद ही लगवा सकेंगे वैक्सीन

भारत में अभी तक कोरोना वैक्सीन की 18.5 करोड़ डोज़ इस्तेमाल की जा चुकी हैं. 4 करोड़ 9 लाख 21 हजार लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज़ दी जा चुकी हैं, जबकि 14 करोड़, 42 लाख 70 हजार लोगों को एक डोज़ दी जा चुकी है. भारत में पूर्ण वैक्सीनेटेड लोगों की संख्या 3 प्रतिशत है जबकि पूरी दुनिया में 4.7 प्रतिशत लोग पूरी तरह से वैक्सीनेट हो चुके हैं.

वैक्सीन को लेकर तमाम तरह के सवाल भी लोगों के जेहन में हैं. गर्भवती महिलाओं को वैक्सीन लेनी चाहिए क्या? कोरोना के कितने दिन बाद वैक्सीन लगवा सकते है? इसके अलावा और भी कई सवाल हैं जो लोग अक्सर जानना चाहते हैं. वैक्सीन से जुड़े तमाम सवालों का जवाब अब खुद  NEGVAC की ओर से दिया गया है. NEGVAC यानी नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप ऑन वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन फॉर कोविड-19, ये वो सरकारी पैनल है जो देश में वैक्सीन से जुड़ी बातों की जांच पड़ताल वैज्ञानिक तरीके से करता है.

स्वास्थ्य मंत्रालय की राज्यों को सलाह

19 मई को स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने सभी राज्यों के प्रमुख सचिवों के नाम एक चिट्ठी जारी की. इस चिट्ठी में बताया गया कि NEGVAC ने कोरोना वायरस वैक्सीनेशन को लेकर कुछ सुझाव दिए हैं,जिनको स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्वीकार कर लिया है.

1. अगर किसी को कोविड-19 हुआ है तो वह ठीक होने के 3 महीने बाद वैक्सीन लगवा सकता है.

2. ऐसे कोविड पेशेंट जिनको इलाज के दौरान anti-SARS-2 मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज या कॉन्वलेसेंट प्लाज्मा दिया गया है, वे अस्पताल से डिस्चार्ज होने के 3 महीने बाद ही कोविड वैक्सीन लगवा सकेंगे.

3. अगर किसी को वैक्सीन की पहली डोज लग गई है और उसके बाद उसे कोविड हो गया तब ऐसी स्थिति में कोविड ठीक होने के 3 महीने बाद ही उसे वैक्सीन लगाई जाएगी.

4. ऐसे लोग जिनको कोई गंभीर बीमारी हुई है और अस्पताल व ICU में भर्ती होना पड़ा है. ऐसे लोगों को सही होने के बाद 4 से 8 हफ्तों के बाद ही वैक्सीन दी जाएगी.

इसके अलावा

– अगर आप किसी को खून देना चाहते हैं तो कोविड वैक्सीन लगाए जाने के 14 दिनों के बाद, या RT-PCR टेस्ट नेगेटिव आने के बाद (अगर कोविड था तो) आप ब्लड डोनेट कर सकते हैं.

– स्तनपान कराने वाली महिलाएं भी कोविड वैक्सीन लगवा सकती हैं.

– वैक्सीन लगवाने से पहले रैपिड एंटीजन टे्स्ट की कोई जरूरत नहीं है.

Vaccine (1)
वैक्सीन लगवाने जाएं तो आईडी प्रूफ ज़रूर ले जाएं. (सांकेतिक फोटो- PTI)

एक्सपर्ट्स का क्या कहना है

हेल्थ पॉलिसी एक्सपर्ट डॉक्टर विकास केशरी ने कहा कि,

“ये फैसला स्वागत योग्य फैसला है. पूरी तरह वैज्ञानिक आधार पर ये फैसला लिया गया है और तीन महीने का वक्त एकदम सही वक्त है. कोरोना से ठीक होने वाले को तीन महीने बाद वैक्सीन दी जानी चाहिए. वहीं दोनों डोज़ के बीच में तीन महीने का गैप भी एकदम सही है, क्योंकि एंटीबॉडी जो बनती है वह पीक पर पहुंच जाती है और तब दूसरी डोज इस वैक्सीन को और इफेक्टिव बना देती है.”

मुंबई के जेजे हॉस्पिटल में कोविड वार्ड के प्रमुख डॉक्टर हेमंत गुप्ता कहते हैं,

“मुझे कोविड हुआ था, जिसके 8 महीने बाद मैंने वैक्सीन ली. मैं जल्दी ले सकता था लेकिन मैंने इंतजार किया. कोविड होने के बाद 3 से 6 महीने के बाद वैक्सीन ली जा सकती है. 3 महीने का फैसला जो किया गया है, वह बिल्कुल ठीक है. साथ ही दोनों डोज के बीच जो 3 महीने का फासला रखा गया है, वह निर्णय भी सही है क्योंकि ऐसा करके हम अधिकतम लोगों को अधिकतम सुरक्षा दे सकते हैं.”

पहले क्या बातें कही जा रही थीं?

NTAGI (The National Technical Advisory Group on Immunization) ने सलाह दी थी कि अगर किसी को कोरोना हुआ है, तो ठीक होने के 6 से 9 महीने के बाद ही उसे वैक्सीन दी जानी चाहिए. ये सुझाव स्वास्थ्य मंत्रालय के पास मंजूरी के लिए भेजा गया था, लेकिन मंत्रालय ने NEGVAC की सलाह को माना और कोविड मरीज को ठीक होने के 3 महीने के बाद वैक्सीन देने का फैसला किया.

कोविशील्ड की डोज़ के बीच का फासला बढ़ा

ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रेजेनेका वैक्सीन जिसे भारत में कोविशील्ड के नाम से जाना जाता है, उसकी दोनों डोज के बीच का फासला अब बढ़ गया है. केंद्र सरकार ने कोविशील्‍ड वैक्‍सीन के दो डोज के बीच अंतर को बढ़ाकर 12 से 16 हफ्ते कर दिया है. अब तक कोविशील्‍ड 6 से 8 सप्ताह के अंतराल पर दी जा रही थी. राष्‍ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (NTAGI) ने कोविशील्‍ड के डोज इंटरवल को बढ़ाने का सुझाव दिया था, जिसे सरकार ने मान लिया. शुरुआत में कोविशील्ड की दोनों डोज के बीच 4 से 6 हफ्ते, यानी 28 से 42 दिन का अंतर रखा जाता था. इसके बाद इसे बढ़ाते हुए 6 से 8 हफ्ते यानी 42 से 56 दिन कर दिया गया था.

भारत में कोविशील्‍ड बना रहे सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा था कि अगर डोज के बीच दो-तीन महीने का अंतर हो तो वैक्‍सीन 90% तक असरदार हो जाती है.

प्रमाणित वैक्सीन भारत आ सकेंगी

देश में कोरोना वैक्सीन की कमी दूर करने के लिए सरकार एक और बड़ा कदम उठाने जा रही है. नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल ने कहा है कि जो कोरोना वैक्सीन, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और अमेरिका के फूड एंड ड्रग ऐडमिनिस्ट्रेशन (FDA) से प्रमाणित हैं, उन्हें भारत में इंपोर्ट किया जा सकता है. उन्होंने बताया कि अगस्त से दिसंबर में आठ वैक्सीन की 216 करोड़ डोज हमारे पास होगी.


वीडियो- कोरोना वैक्सीन से जुड़ी ये भयानक गलती न करें, वरना कोई फायदा नहीं होगा!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

मध्य प्रदेश: सरकार ने अवैध शराब से जुड़े मामलों में दोषियों को मौत की सजा दिलाने की तैयारी कर ली है

मध्य प्रदेश: सरकार ने अवैध शराब से जुड़े मामलों में दोषियों को मौत की सजा दिलाने की तैयारी कर ली है

मध्य प्रदेश में अवैध शराब का कारोबार करने वालों के लिए बुरी खबर!

गोगरा पोस्ट को लेकर भारत और चीन की सेना के बीच क्या सहमति बनी है?

गोगरा पोस्ट को लेकर भारत और चीन की सेना के बीच क्या सहमति बनी है?

2 अगस्त को एक साझा बयान जारी हुआ.

झारखंड: जज उत्तम आनंद की संदिग्ध मौत की जांच अब CBI करेगी

झारखंड: जज उत्तम आनंद की संदिग्ध मौत की जांच अब CBI करेगी

झारखंड हाई कोर्ट ने इस संबंध में निर्देश जारी कर दिया है.

जब कलाई में चोट के बावजूद पेस ने भारत को ओलंपिक मेडल जिताया था

जब कलाई में चोट के बावजूद पेस ने भारत को ओलंपिक मेडल जिताया था

बारिश ने कैसे की पेस की मदद.

संसद नहीं चलने से देश को कितना नुकसान हुआ है, ये जानकर टैक्स पेयर्स सिर पकड़ लेंगे

संसद नहीं चलने से देश को कितना नुकसान हुआ है, ये जानकर टैक्स पेयर्स सिर पकड़ लेंगे

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू सरकार और विपक्ष के बीच सहमति बनाने की कोशिश में लगे हैं.

पुजारा की फॉर्म, एंडरसन का सामना...इंग्लैंड सीरीज़ से पहले क्या सोच रहे हैं विराट?

पुजारा की फॉर्म, एंडरसन का सामना...इंग्लैंड सीरीज़ से पहले क्या सोच रहे हैं विराट?

एक दिन पहले प्लेइंग XI बताने वाले विराट इस बार चुप क्यों हैं?

शादी के लिए धर्म परिवर्तन करने वालों को इलाहाबाद हाई कोर्ट की ये बात सुननी चाहिए

शादी के लिए धर्म परिवर्तन करने वालों को इलाहाबाद हाई कोर्ट की ये बात सुननी चाहिए

कोर्ट ने जोधा-अकबर का उदाहरण भी पेश किया.

21.49 मीटर थ्रो के रिकॉर्ड वाले तेजिंदर पाल सिंह 21.20 मीटर का थ्रो फेंक पाए?

21.49 मीटर थ्रो के रिकॉर्ड वाले तेजिंदर पाल सिंह 21.20 मीटर का थ्रो फेंक पाए?

ओलंपिक्स में तेजिंदरपाल सिंह तूर का क्या हुआ?

Yo Yo Honey Singh बड़ी मुसीबत में, पत्नी ने उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का केस किया

Yo Yo Honey Singh बड़ी मुसीबत में, पत्नी ने उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का केस किया

शालिनी ने बताया कि हनी सिंह उनके साथ मारपीट और मेंटल हैरसमेंट करते थे.

तीन क्वार्टर तक जीतते-जीतते आखिर में कैसे हार गई टीम?

तीन क्वार्टर तक जीतते-जीतते आखिर में कैसे हार गई टीम?

11वें दिन कैसे टूटीं भारत की उम्मीदें.