Submit your post

Follow Us

गोवा में ऑक्सीजन की कमी से 15 और मौतें, अस्पताल का हाल ऐसा कि रूह कांप जाए

गोवा के सरकारी मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में फिर से लापरवाही हुई. ऑक्सीजन सप्लाई में कमी की वजह से 15 मरीजों की जान चली गई. घटना आधी रात 2 बजे से लेकर सुबह के 6 बजे हुई. जिस अस्पताल में ये घटना हुई, वहां बदइंतजामी के हालात ऐसे हैं कि दिल बैठ जाए.

इस सरकारी अस्पताल में पिछले चार दिन के अंदर 74 लोगों की मौत हो चुकी है. इसके लिए ऑक्सीजन की कमी को जिम्मेदार माना जा रहा है. मंगलवार को यहां 26 मरीजों ने ऑक्सीजन न मिलने पर जान गंवाई थी. बुधवार को 20 लोगों की मौत हुई. गुरुवार को फिर 15 लोगों की जान चली गई. अब शुक्रवार को 15 मरीजों को ऑक्सीजन न मिल पाने के कारण जान से हाथ धोना पड़ा है. मंगलवार को भी रात 2 बजे से लेकर सुबह 6 बजे के बीच मौतें हुई थीं. इस बार भी यही वक्त जानलेवा साबित हुआ है.

ये घटना तब हुई है, जब एक दिन पहले ही हाई कोर्ट ने प्रमोद सावंत सरकार को कड़ी फटकार लगाई थी. सरकार ने दावा किया था कि ये मौतें ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई हैं. इस पर कोर्ट ने कहा था कि आंकड़े तो कुछ और दिखा रहे हैं. हेल्थ सेक्रेटरी ने कोर्ट में दावा किया था कि ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है. बस सिलिंडरों के ट्रांसपोर्ट में समस्या आ रही है.

इस मुद्दे को लेकर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे भी सवाल उठा चुके हैं. उन्होंने अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी की ओर इशारा करते हुए कहा था कि यहां सोमवार को 1200 जंबो सिलिंडरों की जरूरत थी, लेकिन मिले सिर्फ 400. ऑक्सीजन को लेकर आ रही दिक्कत की हाई कोर्ट को जांच करानी चाहिए.

इसके बाद, सीएम प्रमोद सावंत ने मंगलवार को कोरोना वार्ड का दौरा किया. उसके बाद उन्होंने कहा-

‘ऑक्सीजन आने में देरी की वजह से हॉस्पिटल में सप्लाई बाधित हुई. हालांकि यह नहीं कहा जा सकता कि मौतें इस वजह से ही हुई हैं.’

GMC में डरा देने वाले हालात

ऐसा नहीं है कि गोवा मेडिकल कॉलेज में सिर्फ ऑक्सिजन सप्लाई की ही समस्या है. यहां पर मरीज जिस हालात में अपना इलाज करवा रहे हैं. वो स्थिति तो और भी दयनीय और डराने वाली है.

आजतक के संवाददाता सौरभ वक्तानिया ने अस्पताल के अंदर जाकर हालात का जायजा लिया. वहां कोविड वार्ड बुरी तरह से भरा हुआ था. इलाज के लिए आए मरीज ज़मीन पर लेटने को मजबूर हैं. अस्पताल की तरफ से उन्हें ज़मीन पर लेटने के लिए कोई गद्दा तक नहीं दिया जा रहा है. लोग अपने मरीजों के लिए खुद ही गद्दा या चटाई की व्यवस्था कर रहे हैं. स्टोर रूम तक में मरीज लेटे हैं.

Goa Medical College Hospital 2
गोवा मेडिकल कॉलेज के अंदर की तस्वीर. फोटो: India Today

आजतक संवाददाता से बात करते हुए कई परिजनों ने अपना दर्द बताया. एक मरीज के परिजन ने कहा-

‘प्लीज़ गोवा की मदद कीजिए. गोवा को बचा लीजिए. हालात बद से बद्तर हैं.’

मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड नंबर 147 में तो कदम रखने तक की जगह भी नहीं दिख रही. वार्ड में इतने मरीज हैं कि ज़मीन पर भी लोगों को जगह नहीं मिल पा रही. इससे भी खराब स्थिति ये है कि यहां कोविड वार्ड में किसी के भी आने-जाने पर रोक नहीं है. ऐसा इसलिए कि कोविड मरीज़ों को संभालने के लिए अस्पताल की तरफ से कोई अटैंडेंट नहीं हैं. परिजन ही अपनी जान जोखिम में डालकर अपने मरीज की देखभाल कर रहे हैं.

Gmc 3
गोवा मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड 147 की तस्वीर, जहां कदम रखने तक की जगह नहीं है. फोटो: India Today

एक मरीज के परिजन हेमंत कांबले ने अपनी आपबीती बताते हुए कहा,

”सबसे पहले तो मुझे बेड ही नहीं मिला क्योंकि यहां कोई स्टाफ मौजूद नहीं था. हमें खुद ही अपने मरीज को अस्पताल के अंदर ले जाना पड़ा. जब हमें बेड मिला तो कोई गद्दा नहीं मिला. मैं खुद अपने घर से गद्दा लेकर आया हूं.

इतना ही नहीं, यहां ऑक्सिजन की भी कोई व्यवस्था नहीं है. मुझे ऑक्सिजन के लिए बड़ी रकम देनी पड़ी. उसके बाद मैं खुद ऑक्सिजन सिलेंडर लेकर आया. ना तो यहां दवाई है, ना कोई देखरेख करने वाला स्टाफ है. सब कुछ मरीज़ों के रिश्तेदारों पर छोड़ रखा है.

इस मामले पर जब आजतक के संवाददाता ने अस्पताल प्रशासन से बात करने की कोशिश की तो कोई भी जवाब देने के लिए सामने नहीं आया.


कोविशील्ड के दूसरे डोज़ के लिए आपको ज़्यादा इंतज़ार क्यों करना पड़ेगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल में भारी बारिश के कारण हुई मौतों की संख्या 35 तक पहुंची.

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

इंसाफ दिलाने के लिए धमकियों और खतरों की परवाह नहीं की.

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा.

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात.

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

कश्मीर ज़ोन पुलिस ने बताया घटनास्थलों को खाली कराया गया. तलाशी जारी.

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

राकेश टिकैत ने भी मीडिया से बात की है.

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

कुरान को लेकर अफवाह उड़ी और बांग्लादेश के कई हिस्सों में सांप्रदायिक तनाव फैल गया.

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

जज ने दोनों पक्षों की दलीलें तो सुनी लेकिन अपना फैसला रिज़र्व रख दिया.

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

किसी ने लोन लेकर परिवार को नया घर दिया था तो कोई दिवंगत पिता के शोक में जाने वाला था.

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

पुलिस ने संदिग्ध आतंकी के पास से एके-47, हैंड ग्रेनेड और कई कारतूस मिलने का दावा किया है.