Submit your post

Follow Us

छात्र कर रहे हैं RRB NTPC में गड़बड़ी की बात, रेलवे का तो कुछ और ही कहना है

रेलवे भर्तियों में हुई कथित गड़बड़ियों के खिलाफ छात्रों का विरोध प्रदर्शन जारी है. छात्रों के बढ़ते प्रदर्शन को देखते हुए रेलवे ने फिलहाल NTPC और ग्रुप डी की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है. एक तरफ जहां ग्रुप डी के लिए दो स्तर पर परीक्षाओं का विरोध हो रहा है, वहीं NTPC का मामला ज्यादा उलझा हुआ है. हालांकि, रेलवे का कहना है कि NTPC की भर्ती प्रक्रिया में सभी नियमों को पालन किया जा रहा है और उसने अपनी तरफ से छात्रों को समझाने की पूरी कोशिश भी की.

दरअसल, रेलवे ने साल 2019 में एनटीपीसी के माध्यम से 35,308 पोस्टों के लिए और ग्रुप डी के लिए लगभग एक लाख तीन हज़ार पोस्टों के लिए आवेदन मंगाया था. साथ ही रेलवे ने ये भी कहा था कि NTPC में जितनी रिक्तियां है, उससे 20 गुना ज्यादा अभ्यर्थियों को फाइनल टेस्ट में जगह दी जाएगी. लेकिन जब रिजल्ट आया तो उसमें एक ही आभ्यर्थी को अलग-अलग पोस्ट के लिए शॉर्टलिस्ट कर दिया गया. छात्रों का कहना है कि इस वजह से कई अभ्यर्थियों को रिजल्ट में जगह नहीं मिली.

Untitled Design (25)
बिहार के आरा में छात्रों का प्रदर्शन. (ANI)

किन पदों के लिए निकाले गए थे आवेदन?

इससे पहले हम रेलवे भर्ती बोर्ड के ऊपर लगे आरोपों के ऊपर उसका जवाब जानें, ये जान लेते हैं कि बोर्ड ने NTPC के किन पदों के लिए आवेदन मंगाए थे. उनके लिए किस तरह की योग्यता की जरूरत थी और कौन सा पद किस वेतनमान के तहत आता है.

रेलवे ने 2019 में अलग-अलग श्रेणी और रैंकों के लिए 35,281 रिक्तियों पर भर्तियाँ निकली थीं. इस भर्ती में जूनियर क्लर्क, ट्रेन असिस्टेंट, गार्ड, टाइम कीपर, से लेकर स्टेशन मास्टर तक के पद शामिल हैं. कुल रिक्तियों मे से करीब 11 हजार वैकन्सी के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 12वीं पास है. यानी वे छात्र जिन्होंने 12वीं कर ली है, वे इन रिक्तियों के लिए आवेदन कर सकते हैं. बाकी बची करीब 24 हजार से ज्यादा रिक्तियों पर आवेदन करने के लिए अभ्यर्थी का ग्रैजुएट होना जरूरी है. ये 35 हजार से ज्यादा पोस्ट लेवल 2 से लेवल 6 तक पाँच अलग-अलग पे-ग्रेड में बंटी हुई हैं.

जैसे कि जूनियर क्लर्क एक लेवल 2 का पद है और इसकी शुरुआती सैलरी 19,900 रुपये है. जो अभ्यर्थी जूनियर लेवल 2 की पोस्ट के लिए अप्लाई करते हैं उनका 12वीं पास होना जरूरी है. वहीं अगर कोई अभ्यर्थी स्टेशन मास्टर की पोस्ट के लिए अप्लाइ करता है तो उसका ग्रैजुएट होना जरूरी. स्टेशन मास्टर एक लेवल 6 की पोस्ट है और इसकी शुरुआती सैलरी 35,400 रुपये है.

किस तरह से लिए गए थे टेस्ट?

रेलवे के मुताबिक 35,281 भर्तियों के लिए 1.25 करोड़ आवेदन आए. क्योंकि एक ग्रैजुएट अभ्यर्थी लेवल-2 का एग्जाम दे सकता है, इसलिए रेलवे ने सभी पदों के लिए कंप्यूटर पर एक कॉमन एग्जाम लिया. मार्च में भर्तियों की घोषणा की गई थी, इस हिसाब से पहला पेपर सितंबर 2019 में होना था, लेकिन इसकी डेट आगे बढ़ा कर मार्च 2020 कर दी गई. फिर कोरोना के कारण लॉकडाउन लग गया. आखिरकार 2020 में अप्रैल से जुलाई के बीच 68 दिनों में 133 शिफ्ट में कंप्यूटर आधारित कॉमन पेपर यानी CBT-1 की परीक्षा आयोजित की गई. इसी परीक्षा का रिजल्ट बीते हफ्ते 14 जनवरी को घोषित किया गया.

गया में रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन करते छात्र. फोटो-ANI
गया में रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन करते छात्र. फोटो-ANI

गड़बड़ी कहां है ?

2019 में जब रेलवे ने भर्तियां निकाली थी, तब उसका ये मकसद था कि ज्यादा से ज्यादा अभ्यर्थी रिक्तियों के लिए आवेदन करें. इसलिए रेलवे ने ये नियम बनाया था कि CBT-2 के लिए कुल रिक्तियों से 20 गुना ज्यादा अभ्यर्थियों को पास किया जाएगा. इससे पहले 2016 में रेलवे के मुताबिक CBT-2 के लिए 15 गुना ज्यादा छात्रों को पास किया गया था. वहीं उससे पहले सिर्फ 10 गुना ज्यादा छात्रों को पास किया जाता था. इस हिसाब से इस बार 35, 281 रिक्तियों के लिए 7 लाख से ज्यादा अभ्यर्थियों को CBT-2 के लिए शॉर्टलिस्ट किया जाना था. लेकिन असल में 7 लाख नहीं सिर्फ 3 लाख 84 हजार अभ्यर्थियों को ही शॉर्टलिस्ट किया गया है. इसके पीछे की वजह को एक उदाहरण से समझते हैं.

12 वीं पास अभ्यर्थी केवल लेवल 2 और 3 के लिए ही आवेदन कर सकते हैं, वहीं जिन अभ्यर्थियों ने ग्रैजुएशन कर लिया है वे लेवल 2 से लेवल 6 तक सभी के लिए आवेदन कर सकते हैं. इस हिसाब से शॉर्टलिस्ट में अलग-अलग लेवल के लिए अलग-अलग अभ्यर्थी को नहीं बल्कि एक ही अभ्यर्थी को अलग-अलग लेवल के लिए शॉर्टलिस्ट कर दिया गया. इसी वजह से छात्रों में गुस्सा है, उनका कहना है कि एक ही अभ्यर्थी को कई लेवल के लिए सिलेक्ट करने के कारण कई योग्य अभ्यर्थी लिस्ट से बाहर हो गए हैं.

Protest 12022012506015920220125061921
बिहार शरीफ रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शन करते छात्र. (फोटो ANI)

छात्रों के इस आरोप पर रेलवे का कहना है कि अगर किसी ने लेवल 2 और लेवल 5 दोनों के लिए अप्लाई किया है, और उसके नंबर दोनों के कटऑफ से ज्यादा है तो उसे दोनों की शॉर्टलिस्ट में गिना जाएगा. इसपर गुस्साए छात्रों का कहना है कि ग्रैजुएशन पास किए हुए अभ्यर्थी 12वीं पास वालों की नौकरियां ले रहे हैं और 12वीं वालों के लिए कॉम्पिटिशन ज्यादा हो रहा है.

रेलवे ने क्या कहा?

छात्रों के इस आरोप पर RRB के एक चेयरमैन ने नाम ना बताने की शर्त पर इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि 12 वीं वालों के लिए कॉम्पिटिशन ज्यादा नहीं है. उनका कहना है कि क्योंकि CBT-2 फाइनल एग्जाम है और इसके बाद केवल डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन राउन्ड ही बचता है, तो हम यहां छटनी करते हैं. अधिकारी के मुताबिक पहले ऊंचे पदों के लिए जिनमें लेवल 6 और 5 शामिल है, उनके डॉक्यूमेंट वेरिफाई किए जाएंगे. अगर कोई अभ्यर्थी लेवल 6 और लेवल 3 दोनों में सेलेक्ट हुआ है, तो उसे सिर्फ एक पोस्ट ही चुननी है. अधिकारी के मुताबिक लोग अक्सर ऊंचे पदों को ही चुनते हैं. ऐसे में शायद ही कोई लेवल 2 या 3 को प्रथमिकता दे. इस हिसाब से लेवल 2 और 3 के डाक्यूमेंट की जांच करने से पहले काफी शॉर्टलिस्ट हो चुके अभ्यर्थी अपनी जगह छोड़ चुके होंगे, जिससे ज्यादा अभ्यर्थियों को मौका मिलेगा.

अधिकारी ने यह भी बताया कि अभ्यर्थियों को कोई गलतफहमी या डाउट ना हो इसलिए बार-बार रेलवे ने सोशल मीडिया पर नियमों को विस्तार से समझाया भी है. छात्रों को कोई दिक्कत ना हो इसलिए उनके सभी डाउट क्लीयर करने के बाद ही रिजल्ट जारी किया गया है. फिलहल छात्रों के बढ़ते प्रदर्शन को देखते हुए रेलवे ने CBT-1 की परीक्षा रद्द कर दी और छात्रों की मांग पर विचार करने के लिए कमेटी का गठन कर दिया है.


वीडियो: रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड के खिलाफ क्यों लामबंद हुए छात्र?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सावरकर की जीवनी लिखने वाले विक्रम संपत को दिल्ली हाई कोर्ट ने क्या बड़ी राहत दी है?

सावरकर की जीवनी लिखने वाले विक्रम संपत को दिल्ली हाई कोर्ट ने क्या बड़ी राहत दी है?

इतिहासकार विक्रम संपत पर सावरकर की जीवनी के लिए कंटेंट चोरी करने का आरोप है.

कर्नाटक: अब कुमकुम लगाने पर छात्रा को कॉलेज में नहीं घुसने देने का आरोप

कर्नाटक: अब कुमकुम लगाने पर छात्रा को कॉलेज में नहीं घुसने देने का आरोप

बजरंगदल ने विरोध प्रदर्शन किया है, शिक्षा मंत्री बोले- कुमकुम शृंगार की चीज है.

दीप सिद्धू एक्सीडेंट मामले में गिरफ्तार ड्राइवर को कोर्ट ने जमानत दे दी

दीप सिद्धू एक्सीडेंट मामले में गिरफ्तार ड्राइवर को कोर्ट ने जमानत दे दी

पुलिस ने दो दिन की रिमांड की मांग की थी.

अहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट: 38 दोषियों को मौत की सजा, 11 को उम्रकैद

अहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट: 38 दोषियों को मौत की सजा, 11 को उम्रकैद

2008 में हुए धमाकों में 56 लोगों की जान गई थी

नेहरू का नाम लेकर सिंगापुर के PM क्या बोले कि भारत सरकार ने वहां के राजदूत को समन जारी कर दिया?

नेहरू का नाम लेकर सिंगापुर के PM क्या बोले कि भारत सरकार ने वहां के राजदूत को समन जारी कर दिया?

लोकतंत्र कैसे चलता है, इस विषय पर बोल रहे थे सिंगापुर के पीएम ली सीन लूंग.

गुजरात: स्कूल में गोडसे की तारीफ में भाषण देने पर बच्चे को इनाम, प्रशासन ने विषय को मंजूरी दी थी

गुजरात: स्कूल में गोडसे की तारीफ में भाषण देने पर बच्चे को इनाम, प्रशासन ने विषय को मंजूरी दी थी

विषय था, 'नाथूराम गोडसे: मेरे आदर्श या हीरो'.

गाजियाबाद में हिजाब पहन कर प्रदर्शन कर रही महिलाओं को यूपी पुलिस ने क्यों पीटा?

गाजियाबाद में हिजाब पहन कर प्रदर्शन कर रही महिलाओं को यूपी पुलिस ने क्यों पीटा?

घटना का वीडियो वायरल है, लोग गुस्से में हैं.

छत्तीसगढ़: माओवादियों ने अगवा किए इंजीनियर और राजमिस्त्री को छोड़ा

छत्तीसगढ़: माओवादियों ने अगवा किए इंजीनियर और राजमिस्त्री को छोड़ा

अपहरण के वक्त इंजीनियर अशोक पवार बीजापुर में एक पुल के निर्माण कार्य में लगे थे.

इस शख्स ने फर्जी डॉक्टर बनकर सात राज्यों में 14 महिलाओं से शादी की, उनसे पैसे लेकर निकल गया

इस शख्स ने फर्जी डॉक्टर बनकर सात राज्यों में 14 महिलाओं से शादी की, उनसे पैसे लेकर निकल गया

नेटफ्लिक्स डॉक्युमेंट्री 'द टिंडर स्विंडलर' का साइमन लिवाय याद आ गया.

ABG शिपयार्ड को सस्ती जमीन देना 'गैरकानूनी' था, CAG की रिपोर्ट पर विपक्ष ने मोदी को घेरा

ABG शिपयार्ड को सस्ती जमीन देना 'गैरकानूनी' था, CAG की रिपोर्ट पर विपक्ष ने मोदी को घेरा

1.21 लाख स्क्वायर मीटर ज़मीन आधे दाम में दे दी गई थी.