Submit your post

Follow Us

पड़ताल : क्या जवाहरलाल नेहरू ने इसरो की स्थापना नहीं की?

471
शेयर्स

दावा: 

सोशल मीडिया पर दावा चल रहा है कि नेहरू की मौत 1964 में हुई और इसरो की स्थापना हुई 1969 में. फिर ये “चमचे” इसरो का संस्थापक नेहरू को क्यों बता रहे हैं? बिना किसी छेड़छाड़ के हम ये बात यहां लिख दे रहे हैं.

नेहरू की म्रत्यु 1964 मे हुई और ISRO की स्थापना 1969मे हुई.
फिर ये चमचे ISRO का संस्थापक नेहरू को क्यो बता रहे है

 

ISRO Nehru FB post

ऐसे मैसेज कई ग्रुपों में चल रहे हैं. ऐसे एक ग्रुप का नाम है मिशन मोदी 2019 में अपने 100 मित्रों को जोड़ें. 17 घंटे पहले ये पोस्ट लगायी गयी. इस पर लगभग 1 हज़ार लोगों ने रिएक्शन दिया है. और 355 लोगों ने शेयर किया है.

इस पोस्ट का आर्काइव लिंक आप यहां देख सकते हैं.

पड़ताल :

जवाहरलाल नेहरू का देहांत कब हुआ? साल 1964 में. और ISRO की स्थापना कब हुई? 1969 में. ये तारीखें तो सच हैं. नेहरू और इसरो के बीच संबंध की पूरी जानकारी के लिए हमने कुछ किताबों का रुख किया. Marco Alberti की लिखी किताब India in Space : Between Utility and Geopolitics Brian Harvey, Henk H. F. Smid और Theo Pirard की किताब Emerging Space Powers: The New Space Programs of Asia, the Middle East and South-America, स्पेस वैज्ञानिक Nambi Narayan और Arun Ram की किताब Ready To Fire: How India and I Survived the ISRO Spy Case का अध्ययन किया.

साल 1961. जवाहरलाल नेहरू देश के प्रधानमंत्री थे. देश में स्पेस रीसर्च की ज़रूरत महसूस हो रही थी. तो विक्रम साराभाई स्पेस रीसर्च करने का एक प्रस्ताव लेकर गए केंद्र सरकार के पास. सरकार को प्रस्ताव पसंद आया. साल 1962. Department of Atomic Energy के तहत बनाया गया इंडियन नेशनल कमिटी फॉर स्पेस रीसर्च (INCOSPAR). कमिटी का पूरा दारोमदार विक्रम साराभाई को मिला. उस समय एटॉमिक एनर्जी विभाग के निदेशक थे होमी जहांगीर भाभा. उन्होंने भी इस कमिटी के गठन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई.

नम्बी की किताब के अंश जप इसरो की स्थापना के बारे में बताते हैं.
नम्बी की किताब के अंश जप इसरो की स्थापना के बारे में बताते हैं.

अपने शुरुआती समय में INCOSPAR टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ़ फंडामेंटल रीसर्च के साथ जुड़ा हुआ था. और इसके सबसे शुरुआती वैज्ञानिकों में भारत के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का भी नाम शामिल था. INCOSPAR ने सबसे पहला काम किया कि भारत के दक्षिणी कोने में तिरुवनंतपुरम के पास थुम्बा में एक राकेट लॉन्चिंग स्टेशन बनाया. नाम पड़ा  Thumba Equatorial Rocket Launching Station.

थुम्बा का लॉन्च सेंटर, जहां साइकिल पर रखकर तब के समय राकेट ले जाया गया था
थुम्बा का लॉन्च सेंटर, जहां साइकिल पर रखकर तब के समय राकेट ले जाया गया था

इसी बीच जवाहरलाल नेहरू का निधन हुआ. 1964 में. विक्रम साराभाई की देखरेख में INCOSPAR के सारे कामों को अंजाम दिया जा रहा था.

फिर साल आया 1969. INCOSPAR तब्दील हो गया Indian Space Research Organization यानी ISRO में.

नतीजा: 

कुल मिलाकर सीधे ये नहीं कहा जा सकता है कि इसरो की स्थापना नेहरू ने नहीं की. केंद्र में उनकी सरकार थी. उनके पास स्पेस रीसर्च को शुरू करने के लिए विक्रम साराभाई का एक प्रस्ताव आया, जिस पर उन्होंने विचार किया. और 1962 में INCOSPAR का गठन हुआ. जो आगे चलाकर ISRO में तब्दील हुआ.

अगर आप तक और भी कोई दावा पहुंचे,जिसकी सच्चाई पर आपको संदेह हो, तो हमें भेजिए padtaalmail@gmail.com पर. हम करेंगे दावे की पड़ताल और बताएंगे आपको उसकी सच्चाई.


लल्लनटॉप वीडियो : ISRO ने लैंडर विक्रम से जुड़ी सबसे अच्छी खबर दी है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

पाकिस्तान में गिरफ्तार हो सकती है ये पॉप सिंगर, जिसने वीडियो बनाकर पीएम मोदी को दी थी धमकी

केस भारत ने नहीं, पाकिस्तान ने ही किया है. जानिए क्यों?

बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचा रही ये फिल्म ऑनलाइन लीक हो गई

इसे लीक करने वाली वेबसाइट वही है, जो अब तक फिल्में लीक करती आई है.

'ट्रिलियन में कितने ज़ीरो' के सवाल पर संबित पात्रा चुप, और फिर भयानक मज़ाक उड़ गया

किसने संबित को चुप करा दिया, ये भी तो जान लो

बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद पर क्या बोलीं 'लिपस्टिक अंडर माई बुर्का' वाली हिरोइन अहाना कुमरा

इस हिरोइन ने भी बॉलीवुड की सबसे दुखती रग पर हाथ रख दिया है.

पढ़ने के लिए स्कूल आए 350 छात्र, पढ़ाने आए 50 टीचर और स्कूल से निकले तो कोई रास्ता ही नहीं था

मामला राजस्थान के चित्तौड़गढ़ का है, जहां बाढ़ का पानी सड़कों पर भर गया.

ये क्या? चंद्रयान भेजा लेकिन चंद्रयान के हीरो को ही इसरो भूल गया!

इस हीरो के नाम मंगलयान का भी ख़िताब है.

फिल्म प्रस्थानम में नेता बने संजय दत्त पॉलिटिक्स की बात में गधे-घोड़े लेकर क्यों आ गए?

पिता कांग्रेस में थे, चुनाव लड़ने के लिए सपा में आए और फिर कोर्ट ने चुनाव लड़ने से रोक दिया.

बेरोजगार अगर मोदी के मंत्री का ये बयान सुन लें, तो सर पकड़ लेंगे

संतोष गंगवार ने बेरोजगारी के लिए बेरोजगारों को ही जिम्मेदार ठहरा दिया.

मां बस में कंडक्टरी करती है, तेंदुलकर ने ग्ल्व्स गिफ्ट किए और लड़के ने टीम को एशिया कप जिता दिया

अथर्व अंकोलकर.. ये नाम याद कर लीजिए

इस मुख्यमंत्री के बंगले का कुत्ता मर गया, अब कभी भी गिरफ्तार हो सकते हैं इलाज करने वाले दो डॉक्टर

ऐसा मुकदमा दर्ज हुआ है कि दोषी पाए जाने पर पांच साल की जेल हो सकती है.