Submit your post

Follow Us

तैनाती को चुनौती मिली तो दिल्ली के कमिश्नर राकेश अस्थाना ने कोर्ट में क्या आरोप लगा दिए?

राकेश अस्थाना. गुजरात कैडर के IPS अधिकारी हैं. 27 जुलाई, 2021 को उन्हें दिल्ली का पुलिस कमिश्नर नियुक्त किया गया. वह 31 जुलाई को रिटायर होने वाले थे. लेकिन उससे पहले ही केंद्र सरकार ने उन्हें एक साल का एक्सटेंशन देते हुए पुलिस कमिश्नर बना दिया. गृह मंत्रालय के इस फैसले को दिल्ली हाईकोर्ट में चुनौती दी गई. कोर्ट ने केंद्र सरकार से जवाब मांगा. केंद्र सरकार ने हाईकोर्ट में हलफनामा दिया. उसके बाद राकेश अस्थाना की ओर से भी कोर्ट में एफिडेविट दाखिल किया गया. इसमें याचिकाकर्ताओं पर ही सवाल उठाए गए हैं.

अस्थाना ने एफिडेविट में क्या आरोप लगाए?

केंद्र सरकार ने अपने हलफनामे में कहा है कि राकेश अस्थाना की तैनाती नियमों का पालन करते हुए की गई है. जिस प्रक्रिया से अस्थाना की बतौर पुलिस प्रमुख नियुक्ति हुई, उसी तरह से पहले 8 पुलिस प्रमुखों की तैनाती हो चुकी है. आजतक की अनीषा माथुर की रिपोर्ट के मुताबिक, अस्थाना ने अपने एफिडेविट में आरोप लगाया कि दोनों याचिकाकर्ता (सदरे आलम और सेंटर फॉर पब्लिक इंट्रेस्ट लिटिगेशन) ने निजी बदला लेने की नीयत से ये याचिका दाखिल की है. उन्होंने आरोप लगाया कि

यह जनहित का मामला नहीं है बल्कि अदालत के मंच का दुरुपयोग करने की कोशिश है. ये लोग पहले भी मेरे करियर को पटरी से उतारने के प्रयास कर चुके हैं.

राकेश अस्थाना ने सेंटर फॉर पब्लिक इंट्रेस्ट लिटिगेशन के अलावा कॉमन कॉज पर भी निशाना साधा. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि इन दोनों को जो एक-दो लोग चलाते हैं, वो पहले भी मेरे खिलाफ इसी तरह के प्रयास कर चुके हैं. सीबीआई निदेशक के रूप में नियुक्ति और उसके बाद भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए 2017-18 में चार याचिकाएं दायर की गई थीं.

याचिका में क्या कहा गया है?

राकेश अस्थाना की नियुक्ति के खिलाफ सदरे आलम नाम के व्यक्ति और NGO सेंटर फॉर पब्लिक इंटरेस्ट लिटिगेशन ने याचिका दायर की है. याचिका में दलील दी गई है कि अस्थाना की नियुक्ति प्रकाश सिंह मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा पारित निर्देशों का स्पष्ट और खुला उल्लंघन है. अस्थाना का न्यूनतम छह महीने का कार्यकाल नहीं बचा था, जैसा कि कोर्ट ने नियम बनाया है. दिल्ली पुलिस आयुक्त के रूप में उनकी नियुक्ति के लिए संघ लोक सेवा आयोग की कोई समिति भी नहीं बनाई गई. ऐसे में अस्थाना की नियुक्ति को रद्द किया जाना चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट ने 25 अगस्त को हाईकोर्ट से कहा था कि वह भारतीय पुलिस सेवा के वरिष्ठ अधिकारी अस्थाना की दिल्ली पुलिस कमिश्रनर के रूप में नियुक्ति के खिलाफ लंबित याचिका पर दो सप्ताह के भीतर फैसला करे. यह मामला गुरुवार, 16 सितंबर को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध था, लेकिन संबंधित पीठ के उपलब्ध न होने से इस मामले की सुनवाई 20 सितंबर को होगी.


UP ATS ने जिन्हें संदिग्ध आतंकी बताकर सौंपा, उन्हें दिल्ली पुलिस ने क्यों छोड़ दिया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राजस्थान में अब सब-इंस्पेक्टर परीक्षा का पेपर लीक, वॉट्सऐप बना जरिया

पुलिस ने बीकानेर, जयपुर, पाली और उदयपुर से 17 लोगों को गिरफ्तार किया है.

क्या पाकिस्तान यूपी चुनाव में आतंकी हमले कराने की तैयारी में है?

दिल्ली पुलिस ने 6 संदिग्धों को गिरफ्तार कर कई दावे किए हैं.

नसीरुद्दीन शाह ने योगी आदित्यनाथ के 'अब्बा जान' वाले बयान पर बड़ी बात कह दी है!

नसीर ने ये भी कहा कि कई मुस्लिम अपने पिता को बाबा भी कहते हैं.

AIMIM के पूर्व नेता पर FIR, दोस्त के साथ हलाला कराने की कोशिश का आरोप

पूर्व पत्नी ने लगाया रेप के प्रयास का आरोप, AIMIM नेता ने कहा- बेबुनियाद.

75 साल बाद नर्सिंग के पाठ्यक्रम में किए गए बड़े बदलाव हैं क्या?

ये बदलाव जनवरी 2022 से लागू होंगे.

पश्चिम बंगाल के पूर्व CM बुद्धदेव भट्टाचार्य की साली बेघर हैं, फुटपाथ पर सोती हैं

इरा बसु वायरोलॉजी में PhD हैं और 30 साल से भी ज्यादा समय तक पढ़ाया है.

'माओवादी' बताकर CRPF ने 8 आदिवासियों का एनकाउंटर किया था, 8 साल बाद ये 'एक भूल' साबित हुई है

यहां तक कि CRPF कान्स्टेबल की मौत भी फ्रेंडली फायर में हुई थी!

अक्षय कुमार की मां का निधन

अपने जन्मदिन से सिर्फ एक दिन पहले अक्षय को मिला गहरा सदमा.

अफगानिस्तान: तालिबान ने नई सरकार की घोषणा की, किसे बनाया मुखिया?

नई अफगानिस्तान सरकार का लीडर यूएन की आतंकियों की लिस्ट में शामिल है.

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल के पिता गिरफ्तार, कोर्ट ने 15 दिन के लिए भेजा जेल

रायपुर पुलिस ने नंद कुमार बघेल को ब्राह्मणों पर आपत्तिजनक टिप्पणी के आरोप में गिरफ्तार किया.