Submit your post

Follow Us

UP में बसपा का ब्राह्मण कार्ड! एनकाउंटर का बदला लेने पर क्या कह दिया?

2007 में उत्तर प्रदेश में पहली बार ‘सोशल इंजीनियरिंग’ जैसी शब्दावली सुनने में आई थी. ये शब्द इस्तेमाल हुआ था बहुजन समाज पार्टी यानी बसपा की नई चुनावी रणनीति को डिस्क्राइब करने के लिए. बसपा, जो उन चुनावों में अपने परंपरागत दलित वोट बैंक के साथ-साथ ब्राह्मणों को भी काफी हद तक साथ लाने में कामयाब रही थी. नतीजा- बसपा की सरकार बनी थी, मायावती मुख्यमंत्री बनी थीं.

सूबे में एक बार फिर बसपा 2007 का वो दांव दोहराने की कोशिश में है. पार्टी पूरे प्रदेश में ब्राह्मण सम्मेलन करने जा रही है. हालांकि, ब्राह्मण सम्मेलन का नाम बदलकर ‘प्रबुद्ध वर्ग संवाद सुरक्षा सम्मान विचार गोष्ठी’ कर दिया गया है.  ब्राह्मणों को साथ लाने के मकसद से इस मुहिम का आगाज बसपा ने 23 जुलाई को कर दिया. पार्टी महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा उर्फ अंटू मिश्रा ने इसकी अयोध्या से शुरुआत की है. ये ऐलान भी किया कि पार्टी ब्राह्मण सम्मेलन को अयोध्या के बाद काशी, मथुरा और चित्रकूट तक लेकर जाएगी. 23 जुलाई से 29 जुलाई तक अलग-अलग जगहों पर ये सम्मेलन किए जाएंगे.

ब्राह्मण+दलित = सरकार

सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा –

“सूबे में 13 फीसदी ब्राह्मण और 23 फीसदी दलित मिलकर अगर भाईचारा बनाएं तो सरकार बनाने से कोई रोक नहीं सकता. हमारी सरकार बनेगी तो राम का भव्य मंदिर हमारी सरकार में ही बनेगा. अयोध्या क्या भाजपा की ठेकेदारी हो गई है? क्या अयोध्या आने के लिए हमें भाजपा की परमिशन लेनी पड़ेगी? क्यों रामलला को टेंट में इतने साल रखा, पहले उन्हें क्यों नहीं अलग से मंदिर बनाकर रखा?”

उन्होंने और भी कुछ ख़ास बातें कहीं –

# तिलक तराजू का एक फ़र्ज़ी नारा बना रखा है. 20 साल से गलत तरीके से ये नारा बोला जाता है, जबकि आज तक पता नहीं चला कि ये नारा किसने, कहां दिया? यहां तक कि मनोज तिवारी भी वो नारा दोहराते हैं.

# हम एक बार फिर आपके बीच इसलिए आए हैं क्योंकि अब ब्राह्मण दहशत में है. ये (प्रदेश सरकार) रोको और ठोको की नीति चलाते है. ये ठोकते हैं लेकिन जात पूछकर. सब जानते हैं कि मायावती के दौर में कानून व्यवस्था कैसी थी. अपराधी थर-थर कांपते थे. सरकार बनते ही 5 ब्राह्मणों को इन लोगों ने ठोक कर अपने इरादे का इज़हार कर दिया था.

# जिस तरह से एनकाउंटर में ब्राह्मणों को मारा गया है, उसका बदला लेने का वक्त आ गया है.

सतीश मिश्रा ने खुशी दुबे का मसला भी उठाया. खुशी दुबे पिछले साल एनकाउंटर में मारे गए बदमाश विकास दुबे के शूटर भतीजे की पत्नी है. खुशी को भी बिकरू कांड में आरोपी बनाया गया है. बसपा ने कहा है कि वो खुशी की रिहाई के लिए लड़ेगी. सतीश चंद्र मिश्रा, खुशी दुबे का केस लड़ेंगे.

उत्तर प्रदेश में बसपा का ये दांव असल में किस मंथन से निकला है और इसका क्या असर होगा, ये समझने के लिए हमने बात की पत्रकार वीरेंद्र भट्ट से. उन्होंने बताया –

“उत्तर प्रदेश में जब 2002 में मायावती की सरकार थी तो राजा भैया को गिरफ्तार किया गया था. उन पर POTA भी लगा था. इसके बाद 2007 में हुए अगले चुनाव से पहले मायावती को अंदाज था कि ठाकुर वोटर उनसे दूर रहेंगे. लिहाजा उन्होंने सूबे में ब्राह्मण-ठाकुर के बीच की एक जो दूरी रही है, उसे भुनाने की दिशा में काम किया. सोशल इंजीनियरिंग जैसे शब्द सुनने में आए और बसपा ने ब्राह्मण वोट पर ध्यान केंद्रित किया. उनका ये प्रयास सफल रहा और बसपा करीब 29 फीसदी वोट शेयर के साथ सत्ता में आई. बसपा को करीब 16 फीसदी ब्राह्मण वोट भी मिले. लेकिन बसपा इस वोट बैंक को रोककर नहीं रख पाई और लगातार 4 चुनाव में हार मिली. 2012 और 17 में विधानसभा चुनाव में और 2014, 19 में लोकसभा चुनाव में. अब UP में जब एक बार फिर कहा जा रहा है कि योगी आदित्यनाथ सरकार में ब्राह्मणों का उतना ध्यान नहीं रखा गया, जितना ठाकुरों का. तो ऐसे में मायावती को एक बार फिर अपने 14 साल पुराने फॉर्म्युले पर ऐतबार हुआ है.”

हालांकि अधिकतर ब्राह्मण, जो भाजपा को ‘अपनी पार्टी’ मानते हैं, उनका वोट शिफ्ट करा पाना इस बार इतना आसान नहीं होगा. क्योंकि भाजपा की ही सरकार केंद्र में भी है और राज्य में भी और राम मंदिर जैसे मुद्दे पर कदम बढ़ाकर भाजपा ने ब्राह्मण वोटरों का एक झुकाव अपनी ओर कर लिया है. खैर बसपा का ये फॉर्म्युला हिट होता है या नहीं, ये चुनावी पारा चढ़ने के साथ-साथ स्पष्ट होने लगेगा.


BSP उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में अकेले चुनाव लड़ेगी या गठबंधन में, मायावती ने बता दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राज कुंद्रा ने 121 पॉर्न वीडियोज़ की इंटरनेशनल डील की, जिसकी कीमत हैरान कर देती है

राज कुंद्रा ने 121 पॉर्न वीडियोज़ की इंटरनेशनल डील की, जिसकी कीमत हैरान कर देती है

ये वीडियोज़ इतनी महंगी बिकने वाली थीं, इसका उनमें काम करने वालों को अंदाज़ा भी नहीं होगा.

तस्वीरों में: महाराष्ट्र में भारी बारिश से बाढ़ के हालात, पानी बसों की छत तक पहुंचा

तस्वीरों में: महाराष्ट्र में भारी बारिश से बाढ़ के हालात, पानी बसों की छत तक पहुंचा

ठाणे, रत्नागिरी, यवतमाल समेत राज्य के इलाकों में हालात बदतर होते दिख रहे हैं.

संसद: TMC सांसद ने मंत्री के हाथ से पेपर छीनकर फाड़े, लेकिन हरदीप पुरी पर क्या आरोप लगे?

संसद: TMC सांसद ने मंत्री के हाथ से पेपर छीनकर फाड़े, लेकिन हरदीप पुरी पर क्या आरोप लगे?

TMC सांसद पर क्या कार्रवाई की तैयारी कर रही सरकार?

बंगाल: क्या सुवेंदु अधिकारी ने जाने-अनजाने फोन टैपिंग का सच बता दिया है?

बंगाल: क्या सुवेंदु अधिकारी ने जाने-अनजाने फोन टैपिंग का सच बता दिया है?

बंगाल के IPS अधिकारी को चेतावनी देने के चक्कर में सुवेंदु अधिकारी बड़ी बात कह गए.

मुंबई में बारिश से बड़ा हादसा, चेंबूर में दीवार गिरने से 17 की मौत

मुंबई में बारिश से बड़ा हादसा, चेंबूर में दीवार गिरने से 17 की मौत

विक्रोली में भी 6 की मौत, पीएम ने दुख जताया, मुआवजे की घोषणा की.

टी-सीरीज़ वाले भूषण कुमार पर रेप का आरोप लगा, मुंबई में रिपोर्ट दर्ज

टी-सीरीज़ वाले भूषण कुमार पर रेप का आरोप लगा, मुंबई में रिपोर्ट दर्ज

मुंबई के डीएन थाने में तीस साल की महिला ने रिपोर्ट दर्ज कराई.

अफगानिस्तान में भारतीय पत्रकार दानिश सिद्दीकी की हत्या, तालिबान ने किया था हमला

अफगानिस्तान में भारतीय पत्रकार दानिश सिद्दीकी की हत्या, तालिबान ने किया था हमला

दानिश सिद्दीकी अपनी तस्वीरों के लिए फेमस थे, 2018 में Pulitzer अवार्ड भी मिला था.

MP के विदिशा में 30 से ज्यादा लोग कुएं में गिरे, 4 की मौत, 13 लापता, 19 बचाए गए

MP के विदिशा में 30 से ज्यादा लोग कुएं में गिरे, 4 की मौत, 13 लापता, 19 बचाए गए

बच्चा कुएं में गिरा, तो बड़ी संख्या में ग्रामीण कुएं की छत पर चढ़ गए थे.

'नदिया के पार' जैसी बड़ी फ़िल्मों में काम कर चुकीं एक्ट्रेस सविता बजाज की हताशा,

'नदिया के पार' जैसी बड़ी फ़िल्मों में काम कर चुकीं एक्ट्रेस सविता बजाज की हताशा, "मेरा गला घोंट दो"

इलाज के लिए पैसे नहीं हैं.

PM मोदी ने वाराणसी में जिस रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का उद्घाटन किया, वो है क्या?

PM मोदी ने वाराणसी में जिस रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का उद्घाटन किया, वो है क्या?

योगी सरकार के लिए क्या बोले PM?