Submit your post

Follow Us

बिहार : सरकारी स्कीम में बवाल, डिप्टी CM के नाते-रिश्तेदारों में ही बंट गया 53 करोड़ का ठेका!

बिहार (Bihar) की नीतीश कुमार (Nitish Kumar) सरकार पांच साल पहले, यानी अपने पिछले कार्यकाल में, सभी को पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए ‘हर घर नल का जल’ लेकर आयी थी. दावा ये कि सभी के घर तक नल के जरिए पानी पहुंचाया जाए. सरकार ने ये भी कहा कि इस योजना 95 फीसद लक्ष्य हासिल कर लिया गया है. लेकिन अब इस योजना को लेकर बिहारी के डिप्टी सीएम और बीजेपी विधायक तारकिशोर प्रसाद (Tarkishore Prasad) पर सवाल उठ रहे हैं. इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित रिपोर्ट की मानें तो योजना के करोड़ों रुपए के प्रोजेक्ट डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद के परिवार और करीबी लोगों को ही दिए गए हैं.

बहू और साले की कंपनियों को मिले प्रोजेक्ट

बिहार सरकार के ‘हर घर नल का जल’ में जरूरतमंदों के घर तक नल के जरिए पानी पहुंचाने की योजना है. इसके लिए प्राइवेट कंपनियों को प्रोजेक्ट दिए गए. इंडियन एक्सप्रेस ने इस योजना के बारे में चार महीने तक जांच की, जिससे पता चला है कि इसका सबसे ज्यादा फायदा डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद के परिवार को मिला है. इस योजना के तहत उनके परिवार के सदस्यों को 53 करोड़ रुपए से ज्यादा के प्रोजेक्ट आवंटित किए गए हैं. प्रोजेक्ट को पाने वालों में तारकिशोर प्रसाद की बहू पूजा कुमारी और उनके साले प्रदीप कुमार भगत की दो कंपनियां भी शामिल हैं. वहीं प्रसाद के करीबियों, प्रशांत चंद्र जायसवाल, ललित किशोर प्रसाद और संतोष कुमार की कंपनियों को भी इस योजना से जुड़े प्रोजेक्ट दिए गए हैं. जांच में पता चला है कि कटिहार में भवदा पंचायत के सभी 13 वार्डों में पूजा कुमारी और प्रदीप कुमार भगत की कंपनी को ठेका दिया गया.

20 जिलों के दस्तावेजों से हुआ खुलासा

अख़बार का दावा है कि ये रिपोर्ट बिहार के 20 जिलों में संबंधित दस्तावेजों की पड़ताल और उनके रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (ROC) और बिहार के सार्वजनिक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग विभाग (PHED) के रिकॉर्ड के मिलान के बाद लिखी गयी है. अखबार ने दावा किया है कि जहां राजनीतिक संबंधों के आधार पर ठेके दिए गए थे, वहां पर काम कर रहे कई ठेकेदारों और इस योजना के लाभार्थियों से बातचीत कर मामले के सच का पता लगाया गया.

जुटाए गए आंकड़ों से पता चलता है कि, 2019-20 में पीएचईडी की तरफ से कटिहार जिले की कम से कम 9 पंचायतों में कई वार्डों को लेकर पीने योग्य पानी की 36 परियोजनाओं का आवंटन हुआ. यह वही क्षेत्र है जहां से डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद चार बार विधायक भी रहे हैं. इसमें भवदा पंचायत के सभी 13 वार्डों में योजना का काम पूजा कुमारी और भगत की कंपनी को दिया गया. योजना पर काम कर रहे अधिकारियों ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर अख़बार को बताया है कि डिप्टी सीएम की बहू पूजा कुमारी का नल-जल वाले क्षेत्र में काम करने का कोई अनुभव नहीं रहा है.

डिप्टी सीएम ने क्या सफ़ाई दी?

जब इंडियन एक्सप्रेस ने डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद से संपर्क किया तो उन्होंने किसी भी तरह के भाई-भतीजावाद से इंकार किया. उन्होंने साफ कहा कि ठेकों को दिए जाने का आधार राजनीतिक संबंध से कतई जुड़ा हुआ नहीं है. उन्होंने कहा कि ठेके के आवंटन के दौरान वो कटिहार से विधायक थे और नवंबर 2020 में डिप्टी सीएम बने. तारकिशोर प्रसाद ने इस बात को भी माना कि उनकी बहू और उनके साले प्रदीप कुमार को 4 वार्डों का ठेका मिला है. लेकिन उन्होंने कहा कि उनका दो अन्य कंपनियों से सीधे तौर पर कोई संबंध नहीं है. जबकि उनके साले उनमें से एक कंपनी में निदेशक थे.

रिकॉर्ड के मुताबिक दीपकिरन इन्फ्रासंट्रक्चर में डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद के साले प्रदीप कुमार भगत और उनकी पत्नी किरण भगत निदेशक हैं. एक दूसरी कंपनी जीवनश्री इन्फ्रासंट्रक्चर में डिप्टी सीएम प्रसाद के करीबी सहयोगी प्रशांत चंद्र जायसवाल, ललित किशोर प्रसाद और संतोष कुमार को निदेशक हैं. इस कंपनी को PHED द्वारा 110 वार्ड का काम आवंटित किया गया. जिसमें कटिहार के धरुआ, गढ़मेली, पूर्वी दलन, डालन पश्चिम, दंडखोरा, अमरेली, रायपुर और सहया की पंचायतें शामिल हैं.

तारकिशोर प्रसाद की बहू पूजा कुमारी और उनसे जुड़ी दो कंपनियों को मिले ठेके के बारे में जब सवाल किया गया तो डिप्टी सीएम ने कहा,

“हमारे पास केवल एक ठेका है और वह है बहू का. इसका काम अब तक पूरा हो चुका है. क्या हम कारोबार नहीं कर सकते? इसके अलावा हर घऱ नल का जल योजना में और कौन काम कर रहा है, इसके बारे में मुझे जानकारी नहीं है. मेरी बहू के पास चार यूनिट (वॉर्ड) का काम था.”

डिप्टी सीएम ने इंडियन एक्सप्रेस अखबार से कहा कि कटिहार जिले में ही 2800 यूनिट हैं. इनमें से सिर्फ चार के ठेके उनके परिवार को मिले हैं. बिजनेस करना कोई गलत काम नहीं है. हां, यह जरूर सुनिश्चित करना चाहिए कि कोई गड़बड़ी न होने पाए. उन्होंने कहा,

“मैंने अपने बेटे से कहा है कि कोई भी सरकारी काम न करे, इससे केवल फालतू की समस्याएं पैदा होती हैं.”

राजनीति गरमाई

इस मामले पर अब बिहार की राजनीति गरमाती दिख रही है. बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी आरजेडी ने 22 सितंबर को ट्विटर पर एक वीडियो डाल कर नल जल मुद्दे पर सीएम औऱ डिप्टी सीएम को घेरा. ट्वीट में लिखा है.

“नल जल के ऐसे भ्रष्ट दलदल और ऊपर से कॉन्फ्लिक्ट ऑफ इंटरेस्ट से कोई दिक्कत नहीं है बिहार के डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद औऱ भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह सीएम नीतीश कुमार को! जब अरबों का ऐसा अंधा बंदरबांट हो तो बीजेपी-जेडीयू के लिए “सब चलता है.”

 

संकेत साफ हैं कि इस मसले पर बिहार की राजनीति में बवाल आ सकता है. आगे इस मामले पर आगे क्या होता है, क्या मिलता है, कैसी प्रतिक्रियाएं आती हैं, वो सब भी हम आपके लिए लाते रहेंगे.


 बिहार: कटिहार में दो बच्चों के बैंक खातों में 967 करोड़ मिलने पर DM ने क्या सफाई दी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

उपचुनाव के नतीजे एक जगह पर.

जेल से बाहर आए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, मन्नत के लिए रवाना

जेल से बाहर आए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, मन्नत के लिए रवाना

3 अक्टूबर को आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था.

वरुण गांधी ने कहा- UP में किसानों का फसल जलाना सरकार के लिए शर्म की बात, जेल कराऊंगा

वरुण गांधी ने कहा- UP में किसानों का फसल जलाना सरकार के लिए शर्म की बात, जेल कराऊंगा

किसानों के बहाने फिर बीजेपी पर निशाना साध रहे वरुण गांधी?

कन्नड़ सुपरस्टार पुनीत राजकुमार की सिर्फ 46 की उम्र में डेथ!

कन्नड़ सुपरस्टार पुनीत राजकुमार की सिर्फ 46 की उम्र में डेथ!

ट्विटर पर फिल्म इंडस्ट्री ने पुनीत को किया भारी मन से याद.

Facebook का नाम बदलने के बाद क्या अब आपका अकाउंट Meta पर खुलेगा?

Facebook का नाम बदलने के बाद क्या अब आपका अकाउंट Meta पर खुलेगा?

इससे फेसबुक पर क्या कुछ फर्क पड़ने वाला है?

क्या मोदी सरकार ने अग्नि-5 मिसाइल की क्षमता घटा दी है?

क्या मोदी सरकार ने अग्नि-5 मिसाइल की क्षमता घटा दी है?

कांग्रेस सेवा दल के दावे पर लोग मजे क्यों लेने लगे?

एयर इंडिया को खरीदने वाले टाटा ग्रुप को अब भारत सरकार 302 करोड़ रुपए क्यों देगी?

एयर इंडिया को खरीदने वाले टाटा ग्रुप को अब भारत सरकार 302 करोड़ रुपए क्यों देगी?

एयर इंडिया ने मंत्रालयों और विभागों को उधार टिकट देना भी बंद कर दिया है.

पेगासस मामले पर SC ने बिठाई कमेटी, जानिए किस किस पहलू से होगी जासूसी की जांच

पेगासस मामले पर SC ने बिठाई कमेटी, जानिए किस किस पहलू से होगी जासूसी की जांच

केंद्र के जवाब से असहमत कोर्ट ने कहा, लोगों की विवेकहीन जासूसी मंजूर नहीं.