Submit your post

Follow Us

'वर्ल्ड कप में भारत जान-बूझकर इंग्लैंड से हारा था' इस बयान पर बेन स्टोक्स ने क्या सफाई दी?

इंग्लिश ऑलराउंडर बेन स्टोक्स ने पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर सिकंदर बख्त के कमेंट पर गुस्सा जाहिर किया है. दरअसल बेन स्टोक्स की किताब ‘ऑन फायर’ के कुछ हिस्से सोशल मीडिया पर काफी वायरल हैं. इन्हीं में से एक किस्सा इंग्लैंड बनाम भारत मैच का भी है. स्टोक्स ने क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 के इस मैच के दौरान इंडियन विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी की बैटिंग पर सवाल खड़े किए थे. साथ ही उन्होंने रोहित शर्मा और विराट कोहली की बैटिंग को भी रहस्यपूर्ण बताया था.

सिकंदर बख्त ने उनकी बातों को आधार बनाकर एक वीडियो शेयर किया. बख्त का कहना था कि स्टोक्स ने अपनी किताब में लिखा है कि भारत जान-बूझकर इंग्लैंड से हारा, जिससे पाकिस्तान की टीम वर्ल्ड कप से बाहर हो जाए. अब स्टोक्स ने इस पर कमेंट किया है.

दरअसल एक ट्विटर यूजर ने ट्विटर पर पूछा था कि बख्त जिन कमेंट का जिक्र कर रहे हैं, वे कहां मिलेंगे? स्टोक्स ने खुद उस ट्वीट का जवाब दिया. उन्होंने ट्वीट किया,

‘आपको यह नहीं मिलेगा, क्योंकि मैंने ये कभी नहीं कहा… इसे ‘शब्दों को घुमाना’ या ‘क्लिक बेट’ कहते हैं’

# मामला क्या था?

दरअसल अपनी किताब में स्टोक्स ने रोहित और कोहली की बैटिंग को संदेहास्पद करार दिया है. जबकि धोनी और जाधव के बारे में उन्होंने साफ लिखा है कि उन दोनों ने जीत की इच्छा ही नहीं दिखाई. बर्मिंघम में हुए इस मैच में इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग का फैसला किया. जॉनी बैरिस्टो की सेंचुरी के दम पर अंग्रेजों ने सात विकेट खोकर 337 रन बनाए. जवाब में भारतीय टीम पांच विकेट खोकर 306 रन ही बना पाई. धोनी और जाधव नाबाद लौटे.

इस मैच के बारे में स्टोक्स ने लिखा,

‘जब धोनी बैटिंग के लिए आए, तब 11 ओवर में 112 रन चाहिए थे. जाहिर तौर पर उन्होंने जिस तरह बैटिंग की, वह काफी अजीब था. उन्होंने छक्कों की जगह सिंगल्स लेने में ज्यादा इंट्रेस्ट दिखाया. मैच में जब सिर्फ 12 बॉल बची थी, तब भी भारत जीत सकता था. लेकिन धोनी और उनके पार्टनर केदार जाधव ने जरा-सा या फिर एकदम से इंट्रेस्ट नहीं दिखाया. मेरे लिए जब तक जीत संभव हो, तब तक आप प्रयास करते हैं.’

स्टोक्स ने यह भी लिखा कि उनकी टीम को लगा था कि धोनी जान-बूझकर मैच को खींच रहे थे, जिससे रन-रेट पर प्रभाव न पड़े. धोनी ने इस मैच में 31 बॉल पर 42 रन बनाए. हालांकि उन्होंने तेजी से रन आखिरी ओवर्स में बनाए, जब मैच भारत की पकड़ से दूर जा चुका था. धोनी ने अपनी आखिरी सात बॉल पर 13 रन बनाए, जबकि पहली 24 बॉल पर उनके नाम 29 रन थे. स्टोक्स ने लिखा,

‘हमारे कैंप की सोच थी कि धोनी का खेलने का तरीका हमेशा ही सेम रहा है. अगर भारत मैच न भी जीत पाए, वह मैच को लास्ट तक ले जाकर रन रेट सही रखने की कोशिश करता है. उनकी सबसे बड़ी बात हमेशा से यही रही है कि वह खुद को अंतिम ओवर तक क्रीज पर रखकर जीतने का मौका देना चाहते हैं. लेकिन वह चाहते हैं कि हार के वक्त भी वह अंत तक रहें और लक्ष्य के जितना करीब हो सके, जाएं.’

स्टोक्स ने रोहित और कोहली की बैटिंग पर भी अचरज जताया. उन्होंने लिखा,

‘रोहित शर्मा और विराट कोहली जिस तरह से खेले, वह रहस्यमय था. मुझे पता है कि हमारे बोलर्स ने बेहतरीन बोलिंग की, लेकिन वे जिस तरह से बैटिंग कर रहे थे, यह अजीब था. उन्होंने अपनी टीम को मैच में काफी पीछे होने दिया. उन्होंने हमारी टीम पर प्रेशर डालने की कोई कोशिश की नहीं की.’

इस मैच में रोहित ने 102 और कोहली ने 66 रन बनाए थे. इन दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 128 रन की पार्टनरशिप की, लेकिन इसके लिए उन्होंने लगभग 26 ओवर खेले.


बेन स्टोक्स का दावा, ‘वर्ल्ड कप में इंग्लैंड के खिलाफ जीतना ही नहीं चाहते थे धोनी, कोहली और रोहित’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.

ऑनलाइन क्लास में Noun समझाने के चक्कर में पाकिस्तान की तारीफ, टीचर सस्पेंड

टीचर शादाब खनम ने माफी भी मांगी, लेकिन पैरेंट्स ने शिकायत कर दी.