Submit your post

Follow Us

बाबर ने अयोध्या में बाबरी मस्जिद बनवायी भी थी या नहीं?

559
शेयर्स

अयोध्या मामले की सुनवाई चल रही है. सुप्रीम कोर्ट में. रोज़ नयी-नयी बातें सामने आ रही हैं. कभी कोर्ट के कहने के बाद भगवान राम के वंशजों की खोजाई शुरू हो जाती है, तो कभी एकाध पार्टी कोर्ट में डांट खा जाती है. लेकिन अब कोर्ट में नया बवाल सामने आ गया और और सवाल उठ गया है कि क्या बाबरी मस्जिद बाबर ने बनवायी ही नहीं थी?

जी हां. बुधवार यानी 28 अगस्त को 14वें दिन की सुनवाई के दौरान बाबरी मस्जिद के निर्माण, बनाने के समय और बनाने वाले के नाम पर ही बहस हो रही थी. बहस में श्रीराम जन्मभूमि पुनरुत्थान समिति के वकील पीएन मिश्रा दलील दे रहे थे.

औरंगज़ेब का मूड मस्त हो गया होगा.
औरंगज़ेब का मूड मस्त हो गया होगा.

कह दिया कि मस्जिद बाबर ने बनवाई ही नहीं. उन्होंने कहा बाबर नहीं, बल्कि राम मंदिर तोड़कर औरंगज़ेब ने मस्जिद बनवाई थी. क्योंकि साल 1770 से पहले जिसने भी अयोध्या की यात्रा की, उसने वहां मस्जिद होने का कोई ज़िक्र तक नहीं किया था. साल 1770 में भारत घूमने आए लेखक पर्यटक ट्रैफन थेलर की वाली किताब का हवाला कोर्ट में आ गया. बकौल मिश्रा, थेलर ने वहां बमुश्किल 30-40 वर्ष पहले बनी इमारत का उल्लेख किया है, जिसे तब के अयोध्यावासी मस्जिद जन्मभूमि के नाम से जानते थे.

पीएन मिश्रा ने सुनवाई की शुरुआत में बाबरनामा के अंश पढ़े. कहा कि किसी भी ऐतिहासिक दस्तावेज़ ने ये नहीं जो बताए कि जन्मभूमि पर विवादित ढांचा (बाबरी मस्जिद) 520वें वर्ष में बनाया गया.

मिश्रा ने बाबरनामा यानी बाबर की रोजनामचा डायरी का हवाला देते हुए कहा कि उसमें मीर बाकी के बारे में ज़िक्र तक नही है. बाकी बेग तशकन्दी और बाकी बेग का ज़िक्र है. बाकी तशकन्दी 1529 में ताशकन्द से (अयोध्या) बाबर से मिलने आया था. मिश्रा ने तर्क देते हुए कहा कि मंदिर बाबर ने नहीं, औरंगजेब ने तोड़ा था. मीर बाक़ी जैसा कोई शख्स़ उस समय था ही नहीं.

और बाबर का मूड झंडू
और बाबर का मूड झंडू

ऐसे में सवाल उठता है कि बाबर का नाम क्यों लिया जाता है? इस बारे में बाबर इस ज़मीन का सिर्फ़ वाकिफ़ था, यानी उसने सिर्फ ज़मीन वक़्फ़ की थी. और बकौल मिश्रा और चंद किताब, यही है बाबरी मस्जिद और बाबर का आपसी संबंध.

पीएन मिश्रा अब तक ये बताने पर तुले हुए थे कि बाबरी मस्जिद बाबर ने नहीं बल्कि औरंगज़ेब ने बनायी थी. और अपने दावे के बारे में कोई राय-सबूत-दलील नहीं पेश कर रहे थे.

इस पर जस्टिस बोबड़े ने पूछ दिया,

“आपका इससे क्या लेना देना है? क्योंकि विषय ये है कि जन्म स्थान पर आपका हक कैसे है? ये स्पष्ट करें.”

इस पर मिश्रा ने कहा कि अगर अदालत इस दावे को स्वीकार करती है कि औरंगज़ेब ने मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाई थी, तो सुन्नी वक्फ़ बोर्ड का दावा गलत साबित होता है. वकील मिश्रा का कहना था कि अगर सुन्नी वक्फ बोर्ड के तर्क ही गलत तथ्य पर आधारित हैं,  तो फिर इनका जमीन पर दावा कैसे हो सकता है?

पीएन मिश्रा ने तीन किताबों – बाबरनामा, तुजुके जहांगीरी और आईने अकबरी – का ज़िक्र किया और कहा कि आईने अकबरी और बाबरनामा में बाबर द्वारा बाबरी मस्जिद बनाने की बात कहीं नहीं है. तुजुके जहांगीरी में भी बाबरी मस्जिद का नाम तक नहीं.

ayodhya

अदालत को अयोध्या का एक नक्शा भी दिया गया. इसमें रामजन्म स्थान और जन्मस्थान मन्दिर का उल्लेख है. याचिकाकर्ता ने कहा कि ये नक्शा दो सौ साल से भी पहले हेन्स बेकर नामक अंग्रेज ने स्कंदपुराण में दिए गए वर्णन और अयोध्या की मौजूदा स्थिति का मिलान और आकलन करके बनाया था.

क्या औरंगज़ेब का सेनापति इटालियन था?

बाबर-औरंगज़ेब के बाद अदालत में ये बात सामने आ गयी कि औरंगजेब क्या इटालियन कमांडर के साथ काम कर रहा था? ऐसा इसलिए कि अपनी दलील को समर्थन देने के लिए पीएन मिश्रा ने एक नाम लिया. निकोलो मनूची का. औरंगज़ेब का कमांडर यानी सेनापति. कहा कि निकोलो की किताब में भी यही कहा गया है कि बाबर ने नहीं बल्कि औरंगज़ेब ने बनाया था बाबरी मस्जिद को.

संभवतः जस्टिस बोबड़े को अचरज हुआ होगा. उन्होंने पूछा कि क्या औरंगज़ेब का कमांडर इतालवी था? मिश्रा जी ने कहा, जी हां.

मिश्रा ने कहा कि बाबरनामा में भी कहीं बाबर के अयोध्या प्रवास, किसी मन्दिर को तोड़े जाने या वहां मस्जिद बनाने का फरमान देने का कोई ज़िक्र नहीं है. कहीं-कहीं मीर खान का नाम मस्जिद बनवाने वाले के तौर पर ज़रूर मिलता है, ऐसा कहा मिश्रा ने.


लल्लनटॉप वीडियो : क्या रामदेव के सहयोगी बालकृष्ण को किसी ने जहरीला पेड़ा खिला दिया था?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

अयोध्या फैसले पर फाइनली राहुल-प्रियंका का भी बयान आ गया है

फैसला आने के घंटों बाद ट्वीट किया.

क्या अयोध्या भूमि विवाद के अहम पक्ष रहे निर्मोही अखाड़े को कुछ भी नहीं मिला?

यही वो अखाड़ा था, जो 134 साल पहले अयोध्या मामले को लेकर अदालत पहुंचा था.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर रामदेव की बात सुनकर मुस्लिम पक्ष मुस्कुराएगा

रामदेव ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है.

अयोध्या फैसले से असंतुष्ट मुस्लिम पक्ष के पास कौन से दो रास्ते बचे हैं, जान लीजिए

अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद सुन्नी वक़्फ ने आगे के लिए क्या कहा है?

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कोर्ट के फैसले का समर्थन करते हुए बीजेपी को सुना दिया

काफी तीखी बातें कहीं.

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर ओवैसी ने क्या कहा?

कई सवाल भी खड़े किए.

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद आरएसएस चीफ मोहन भागवत क्या बोले?

सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर ये संघ की पहली प्रतिक्रिया है.

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में मंदिर बनाने की ज़िम्मेदारी किसको दी है?

मामले के पक्षकार रामलला विराजमान के साथ क्या हुआ.

पीएम मोदी और उनके नेताओं ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर बयानों की लाइन लगा दी

कई रंगों के बयान आए हैं.

पीएम मोदी ने अयोध्या फैसले पर ये संदेश दिया

पीएम मोदी गुरदासपुर के डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे में पहुंचे हुए थे.